Hindi Poem on Betrayal in Love-Sirf Bewafai Dekhi

ज़िन्दगी में सिर्फ बेवफाई देखी, हमने महफ़िल में सिर्फ तनहाई देखी
वफ़ाओं का मेरी जो सिला दे, मै वो इश्क़ तलाश करता हूं,

ये ज़ख्म जो मिले गहरे हैं बहुत, मेरी खुशियों पे गमों के पहरे हैं बहुत
दर्द को मेरे जो मिटा दे, मैं वो शिफा तलाश करता हूं,

रिश्तों की कश्मकश में उलझा ऐसे, खुद को ही खुद से खो दिया जैसे
वजूद को मेरे जो मुझसे मिला दे, मैं वो आईना तलाश करता हूं,

इबादत को कभी ना छोड़ा हमने, अपने अक़ीदे को ना कभी तोड़ा हमने
जन्नत जो मुझे दिला दे, मैं वो खुदा तलाश करता हूं,

हर अल्फ़ाज़ को जताने की कोशिश है, हर जज़्बात को बताने की कोशिश है
इस बज़्म को जो एहसास करा दे, मैं वो नज़्म तालाश करता हूं

(अरमान )

Missing Him Love Poem-Ek Waqt Tha

एक वक़्त था (कविता का शीर्षक)

एक वक़्त था .. जब हम अजनबी हुआ करते थे

एक वक़्त था . जब वो अजनबी हो कर भी अपना सा लगा करता था

एक वक़्त था . जब आंखें सिर्फ उसी को ढूंढा करती थी .

एक वक़्त था .. जब उसे न देखो तो बेचैनी सी हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब सिर्फ आँखों से बात हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब उसकी एक झलक देख कर, बड़ी सी स्माइल हुआ करती थी

एक वक़्त था . जब दिल उससे बात करने के लिए बेचैन रहता था

एक वक़्त था .. जब उसे फेसबुक पर सर्च करा जाता था और उसके न मिलने पे बड़ा अफ़सोस करा जाता था

एक वक़्त था .. जब दिल सिर्फ उसी को याद किया करता था

एक वक़्त था .. जब खवाब भी उसी के आते थे .

एक वक़्त था .. जब हर दुआ में उसका नाम शामिल होता था

एक वक़्त था .. जब उसे खुदा से माँगा जाता था

एक वक़्त था .. जब वो फेसबुक पे मिल गया था मानो दुनिया की साड़ी खुशियां ही मिल गयी हों

एक वक़्त था .. मानो ऐसा लग रहा था रब ने मेरी सुन ली हो

एक वक़्त था … जब हम फ्रेंड्स बन गए थे

एक वक़्त था .. जब सुबह, उसकी फोटो देख के होती थी

एक वक़्त था  .. जब उसकी एक ही फोटो को सौ सौ बार देखा जाता था

एक वक़्त था …  जब दो मिनट बात करके भी दिन भर खुश रहा जाता था

एक वक़्त था … जब उसके ऑनलाइन आने का घंटों वेट किया जाता था

एक वक़्त था .. जब हम बोलते रहते थे और वो सुनता रहता था

एक वक़्त था … जब एक दिन भी उसकी फोटो देखे बिना रहा नहीं जाता था

एक वक़्त था … जब सिर्फ दिल की सुनी जाती थी

एक वक़्त था .. जब दिल और दिमाग पर सिर्फ उसी का राज होता था

एक वक़्त था .. जब उसकी फोटो न देखो तो दिन सूना सूना सा लगता था

एक वक़्त था .. जब हम उसे अपनी बातों से बोर किया करते थे और उसका रिप्लाई हाँ हूँ हम्म में ख़तम हो जाया करता था

एक वक़्त था .. जब हम दोनों ने प्यार का इज़हार कर दिया था

एक वक़्त था .. जब फ़ोन पे घंटों बात हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब उसका और मेरा रास्ता अलग हो गया था

और एक आज का वक़्त है.. जब उसके होने या न होने से कोई फरक नहीं पड़ता

और एक आज का वक़्त है.. जब दिल में उसके लिए एक भी जगह नहीं है

और एक आज का वक़्त है.. जब हम फिर से अजनबी हो चुके हैं..

– नैनिका साहू (कवि)

Ek Waqt Tha (Title of the Poem)

Ek waqt tha.. Jab hum ajnabi hua karte the (There was a time when we both were strangers to each other)
Ek waqt tha. Jab vo ajnabi ho kar bhi apna sa laga karta tha (There was a time when he seemed so close despite being a stranger)
Ek waqt tha. Jab ankhein sirf usi ko dhundha karti thi. (There was a time when my eyes used to look only for him)
Ek waqt tha.. Jab use na dekho toh bechaini si hua krti thi (There was a time when I used to get anxious on not seeing him)
Ek waqt tha.. Jab sirf ankho se baat hua karti thi (There was a time when we used to talk only through our eyes)
Ek waqt tha.. Jab uski ek jhalk dekh kar, badi se smile hua karti thi (There was a time when I used to have a big smile on my face after having a glance at him)
Ek waqt tha. Jab dil us se baat kerne ke liye bechain rehta tha (There was a time when I used to be anxious to talk to him)
Ek waqt tha.. Jab use fb pe search kara jata tha aur uske na milne pe bada afsos kara jata tha (There was a time when I used to search him on Facebook and not finding him there used to be a big turn off)
Ek waqt tha.. Jab dil sirf usi ko yaad kiya karta tha (There was a time when my heart used to remember him only)
Ek waqt tha.. Jab khwaab bhi usi ke aate the. (There was a time when I used to dream only about him)
Ek waqt tha.. Jab har dua mein uska naam shamil hota tha (There was a time when his name was included in every prayer)
Ek waqt tha.. Jab use Khuda se maanga jata tha (There was a time when I used to ask for him from God)
Ek waqt tha.. Jab vo fb pe mil gya tha mano duniya ki sari khushiyaan hi mil gayi ho (There was a time when I found him on Facebook and felt as if I got all the happiness of this world)
Ek waqt tha.. Mano aisa lag raha tha Rab ne meri sun li ho (There was a time when I felt as if God had answered my prayers)
Ek waqt tha… Jab hum friends ban gaye the (There was a time when we had become friends)
Ek waqt tha.. Jab subah, uski photo dekh ke hoti thi (There was a time when I used to start my morning after looking at his picture)
Ek waqt tha .. Jab uski ek hi photo ko sau sau baar dekha jata tha (There was a time when I used to look at one of his pictures at least hundred times)
Ek waqt tha… Jab do minute baat kar ke bhi din bhar khush raha jata tha (There was a time when I used to feel happy the entire day after talking to him for two minutes)
Ek waqt tha… Jab uske online aane ka ghanto wait kiya jata tha (There was a time when I used to wait for hours for him to come online)
Ek waqt tha.. Jab hum bolte rehte the aur vo sunta rehta tha (There was a time when I used to speak and he used to listen)
Ek waqt tha… Jab ek din bhi uski photo dekhe bina raha nahi jata tha (There was a time when I could not spend even one day without looking at his picture)
Ek waqt tha… Jab sirf dil ki suni jati thi (There was a time when I used to only listen to my heart)
Ek waqt tha.. Jab dil aur dimag mein sirf usi ka raaj hota tha (There was a time when he used to rule my heart and brain)
Ek waqt tha.. Jab uski photo na dekho to din suna suna sa laga karta tha (There was a time when I used to feel lonely if I did not look at his picture)
Ek waqt tha.. Jab hum use apni baaton se bore kiya karte the aur uska reply ha hu hmm mein khatam ho jaya karta tha (There was a rime when I used to bore him with my talks and he used to reply to my chats in yes, yea…)
Ek waqt tha.. Jab hum dono ne pyar ka izhaar kar diya tha (There was a time when we both had confessed our love for each other)
Ek waqt tha.. Jab phone pe ghanto baat hua karti thi (There was a time when we used to talk on phone for hours)
Ek waqt tha.. Jab uska aur mera raasta alag ho gaya tha (There was a time when we both went separate ways)
Aur ek aj ka waqt h.. Jab uske hone ya na hone se koi fark hi padta (And today there is a time when I do not care if he exists or not)
Aur ek aj ka waqt hai. Jab dil mein uske liye ek bhi jagh nahi hai (And today there is a time when there is no place for him in my heart)
Aur ek aj ka waqt hai.. Jab hum phir se ajnabi ho chuke hain (And today there is a time when we both have again become strangers to each other)

-Nainika Sahu (Poet)

Heart Touching Love Poem- ऐसा लगता है

महफ़िल भी सूनी लगती है
तेरा कसर लगता है,
ग़म भी खुशी लगती है
तेरा असर लगता है।

है लगता हर पल सदियों -सा,
बरसों -सा बिन तेरे;
तेरा दिल ही मुझे
अब मेरा घर लगता है।

है चाहता ये दिल
हर पल तेरे दीदार को,
तड़पता हूँ, बेचैन रहता हूँ
मामुली सा पत्थर भी संगेमरमर लगता है।

अनजाना-सा दुनिया की बातों से
दिन-पल और रातों से,
ना किसी के कहने का असर
ना वाकिफ़ हालातों से।

हद पार कर जाऊँगा तेरे इश्क़ में
दोगे ज़हर इम्तेहान के लिए
तो भी पी जाऊँगा तुझे याद करके
मरूँगा नहीं, हो जाऊँगा अमर लगता हैं ।

– हंसराज केरकर

Mehfeel bhi sooni lagti Hai
Tera kasar lagta Hai,
Gam bhi Khushi lagti Hai
Tera asar lagta Hai.

Hai lagta har Pal
Sadiyo sa, Barson sa bin Tere,
Tera Dil hi mujhe
Ab Mera Ghar lagta Hai.

Hai chahta ye Dil
Har Pal Tere Didar ko
Tadpta hu, bechain rehta hoon
Mamuli sa Patthar bhi Sangemarmar lagta Hai.

Anjaana sa Duniya ki baatoon se
Din-Pal aur Raaton se
Na kisi ke kahne ka asar
Na waqif halato se,

Had par Kar jaunga Tere Ishq mein
Doge Jaher Imtehaan ke liye
To bhi pee jaunga tujhe yaad karke
Marunga nahi, ho jaunga Amar lagta Hai.

-Hansraj Kerekar

Hindi Poem on Angry Love-रूठे से वो

inside_out_sadness___disney_pixar-wallpaper-1366x768

वो रूठे हैं इस कदर मनायें कैसे।
जज़्बात अपने दिल के दिखाएँ कैसे।
नर्म एहसासों की सिहरन कह रही है पास आ जाओ।
सिमट जाओ मुझमें और दिल में समां जाओ।
देखो लौट आओ ना रूठो हमसे।
बस रह गया है तुम्हारा इंतज़ार कब से।
इतनी भी क्या तकरार हमसे ।
तेरे इंतज़ार में हो गया है दिल बेकरार कब से।
लड़ना मुझसे झगड़ना मुझसे पर कभी न दूर रहना मुझसे।
एक बार फिर ढलती शाम में बढ़ रहा है खुमार  कब से।
अब तुम्ही मीत हो मेरे दिल की सदायें समझो।
मेरे दिल की ख़ामोशी मेरी वफायें समझो
अब क्या कहूँ अपने दिल की सदायें उनसे।
वो रूठे हैं इस कदर मनायें कैसे।
जज़्बात अपने दिल के दिखाये कैसे।
-गौरव

How to read:

Wo ruthe hain is kadar manayein kaise

Jazbaat apne dil ke dikhayein kaise

Narm ehsaso ki sirhan keh rahi hai pas ajao

Simat jao mujhmein aur dil mein sama jao

Dekho laut aao na rutho hamse

Bas reh gaya hai tumhara Intezar kab se 

Itni bhi kya takraar ham se 

Tere Intezar mein ho gaya hai dil bekarar kab se 

Ladna mujhse jhagadna mujhse par kabhi na dur rehna mujhse 

Ek bar phir dhalti sham mein badh raha hai khumar kab se

Ab tum hi meet ho mere dil ki sadayein samjho

Mere dil ki khamoshi meri wafayein samjho

Ab kya kahu apne dil ki sadayein unse

Wo ruthe hain is kadar manayein kaise

Jazbaat apne dil ke dikhayein kaise

-Gaurav

English Translation:

The extent to which my love is angry with me, how do I wow my love

How do I show emotions of my heart to my love?

The sweet memories of our love ask you to come nearby

Embrace me tight and get absorbed in me

Please come back, do not stay angry with me

I have been waiting for you for so long

Is it such a big feud between us?

My heart is highly impatient while waiting for you

You can fight with me, argue with me, but do not stay away from me

Once again with the evening approaching night, my heart is getting mad for you

You are my only friend, please understand my emotions for you

The extent to which my love is angry with me, how do I wow my love

How do I show emotions of my heart to my love?

 

Sad Hindi Love Poem on Pain-मेरा गम

 heart-1213481_960_720
गम में जीने को कहता है ये दिल,
हमेशा तुझे महसूस करता है ये दिल,
तेरी याद में रुलाता है ये गम,
तेरी खुशी में हँसाता  है ये गम,
नासमझ बना देता है मुझे ये गम,
समझती है सिर्फ तू मुझे is गम में,
जिस दिन मैने तुझे दिया ये गम,
उस रात आँखें हुई मेरी नॅम,
कभी रोया,कभी हंसा, कभी सहमा इस गम में,
कभी संभाला,कभी सहलाया मुझे इस गम ने,
लड़ने की हिम्मत दी मुझे इस गम ने,
मुझको ज़िंदगी का आईना दिखाया इस गम ने ,
एक अटूट सा रिश्ता है जिससे,
सदा रहना है साथ जिसके,
वादा है रहेगा ये गम
जब तक है सांसों में दम ..
-कविता परमार

Hindi Love Poetry-दिल का दर्द

दिल का दर्द – हिन्दी प्रेम कविता

दिल में दर्द होठों पे मुस्कुराहट हो
ऐसा लगे ज़िंदगी से कोई शिकायत ना हो
फिर ज़िंदगी भी क्या याद करेगी
खुदबखुद फरियाद करेगी
कहेगी शामिल करलो मुझे भी खुद में
बस खुशामद आपकी करना 
उसकी ज़रूरत रहेगी

-गुमनाम कवि

Dil ka dard – Hindi Prem Kavita

Dil mein dard hotho pe muskurahat ho
Aisa lage zindagi se koi shikayat na ho
Phir zindagi bhi kya yad karegi
Khudbakhud fariyad karegi
Kahegi shamil karlo mujhe bhi khud mein
Bas khushamad apki karna
Uski zarurat rahegi

-Gumnam  Kavi

English Translation of the poem for non-Hindi readers:

The pain of heart – Hindi Love Poem

Pain in the heart and a smile on the face
It should seem that there are no complaints from life
Then life will realize the fact
It will request by itself
It shall say please include me in yourself
Just pleasing you
Will be its necessity

-Anonymous Poet