Miss her love poem -Aisa Laga

ऐसा लगा
क्यों ऐसा लगा मैंने उसे देखा
क्यों ऐसा लगा मैंने उसे सोचा
रातें ये दिन
सिर्फ उसकी यादों में
खोए रहते हैं
पर इक खामोशी की चादर में
छुपकर सोए रहते हैं
न दिखाते हैं चेहरा अपना
आंसू भी इनकीआँखों में ख्वाब पिरोए रहते हैं
आज उसकी यादें कुछ कहना चाहती हैं
मरे इन सपनों को अपना बनाना चाहती हैं
हो सकता है देख रहा होऊंगा सपना
पर एक वही है जो लगती है अपना
प्यार तो बहुत है उससे
पर ज़िकर करना नहीं आता
याद तो बहुत आती है वो
पर दिखाना नहीं चाहता
आज उसकी आंखें दिल में बसना चाहती हैं
उसकी ये बातें मुझसे कुछ कहना चाहती हैं
हाँ, उनकी बातें बुरी लगती हैं मुझे
पर प्यार वो ताकत है
जिससे जुदा होके जिया नहीं जाता शायद
जिया नहीं जाता
-चाँद सिंह

Aisa Laga
Kyu aisa laga maine use dekha
Kyu aisa laga maine use socha.
Raatein,ye din..
Sirf uski yaadon mein
Khoye rehte hain….
Par is khamoshi ki chadar mei
Chupkar soye rehte hai….
Na dikhate hain chehra apna
Ansu bhi inki aakhon mei khwab
piroye rehte hai….
Aaj uski yaadein kuch kehna chahti hai
Mere in sapno ko..apna banana chahti hai
Ho sakta hai dekh raha hounga sapna
Par ek wahi hai jo lagti hai apna.
Pyaar to bahut hai us se
Par zikr karna nahi aata
Yaad to bahut aati hai wo
Par dikhana nahi chahta……
Aaj uski aakhein dil mei basna chahti hai
Uski ye baatein mujhse kuch kehna chahti hai
Haaaa,,unki baatein buri lagi thi mujhe
Par pyaar wo takat hai jis se juda hoke jiya nahi jata
Shayad, jiya nahi jata
-Chand Singh

Hindi Love Poem Missing Her – तेरी याद साथ है

kimi_ni_todoke__romance_manga-wallpaper-1366x768

मुझसे दूर है तू पर तेरी याद साथ है
कुछ कही कुछ अनकही बातें आज भी मुझे याद है
कुछ इस कदर दूर चले गए हो तुम
जैसे कुम्भ के मेले में हो गए हो गुम
मेरी कोशिश तुझे पाने की है और वही पहले भी थी
मैं आज भी वहीँ खड़ा हूँ जहाँ तू छोड़ गयी थी
वक्त बीत रहा है हर लम्हा हर पल
आज भी दर्द है वहाँ जहाँ तूने अँखियों से किया था घायल
आज भी तेरे घर के सामने से गुज़रते हुए तेरे दीदार को तरसता रहता हूँ
पर अब वहां नहीं रहती तू मैं पागल ये भी भूल बैठा हूँ
जहां भी है तू खुश रहे तेरा अच्छे से दिल लगे
हम मर भी जाएँ तो भगवान करे तुझे खबर भी न लगे
तेरे दिखाए हुए सपनो को मैं आज भी अकेले जी लेता हूँ
तेरे दिए हुए ज़ख्मों को कुरेद के फिर से सी लेता हूँ
कभी न कभी तो तुम मुझे याद करोगे
हमसे मिलना है ये तुम खुद से बात करोगे
तुम जब कभी मुझसे मिलने आओगे
तब तुम हमको शायद वहाँ नहीं पाओगे
तब तुम लोगों से पूछोगे यहां अन्नू रहता था
वो कहेंगे वही जो सारा दिन उस सामने वाले घर की तरफ देखता रहता था
तब तुम्हें भी होश आएगा की अब वो दुनिया से चला गया
आजतक जो आँखें कभी नम ना हुई थी उनमें से पानी बहता गया
तब तुम्हें पता लगेगा की उसने इंतज़ार तो बहुत किया
पर वो भी तो इंसान है जो तेरी याद में ही जिया और तेरी याद में ही मर गया

-अनूप भंडारी

Hindi Shayari for Girlfriend-वो आँखें वो बातें

वो आँखें heart-wallpaper-1366x768
वो बातें
वो यादें
वो रातें
वो काले बाल
वो मस्त चाल
मेरे दिल का हाल
करें बेहाल
उसको सोचूँ
उसको चाहूँ
उसको सराहूं
उसको पूजूं
वो मेरी इबादत
वो मेरी राहत
वो मेरी किस्मत
वो मेरी चाहत
वो मेरा खुदा
वो मेरा जहां
उसको ढूँढूँ
मैं कहाँ कहाँ
ऐ मेरे खुदा
उस से मिलादे
बस एक बार
बस एक बार

-अनुष्का