Hindi Love Poem- डायरी

धूल जमी डायरी के कुछ पन्ने जो खोले, तेरी यादो के सिलसिले फिर काबिज़ हो गए, पलटता रहा पन्ने और फिर बहने लगा जज्बातों का समुंद्र जो कभी हिलोरे लेता था मुझमे, भले ही बेजान खामोश सी हो गयी थी वो लहरे कुछ लम्हात के लिए, पर यकीन मान एक तूफ़ान तेरी यादो का हर […]

Read More

Hindi Love Poetry – तेरे दिल मे

तेरे दिल मे मुझे जगह जो मिले, आऊँ, आके आशियाँ बनाऊँ, रहूँ मैं उम्र भर दिल मे तेरे, दिल मे हीं तेरे दफन हो जाऊँ| तेरे सीने मे जो धड़के, इश्क हमारा है. दिल पे खींची है जो लकीर, नक्श हमारा है. आगाज है ये मोहब्बत का सिर्फ, इंतिहा नहीं.. तेरी आँखो से वो बहता […]

Read More

Hindi Love Poem-तेरा प्यार

खामोश मेरे लबों पे जो गूंजे वो एहसास है तेरा प्यार .. रूह में तेरी याद बन के समा जाये वो एहसास है तेरा प्यार.. पल पल मेरे दिल में खयाल बन के बिखर जाये वो एहसास है तेरा प्यार.. मुर्झाये से मेरे चहरे पे जो हँसी बन के कुछ याद दिलाये वो एहसास है […]

Read More

Hindi love poem for her – दिल की नगरी

दिल की नगरी में अब सुबह और शाम बस गूंजता है एक तेरा ही नाम सोचता हूँ वो लफ्ज़ कहाँ से ढूँढ लाऊँ जिनमें तेरी तारीफ में मैं कुछ फ़रमाऊँ उफ तेरी अदाओं के वो जानलेवा कहर क्या बताऊँ क्या दिलों-जान पर करता है असर तेरे ही दीदार को तरसती हैं ये निगाहें तुझको क्या […]

Read More

Love Poem in Hindi – मुझे उनसे मोहब्बत हो गयी है

मुझे उनसे मोहब्बत हो गयी है उफ ये क्या कयामत हो गयी है रातों की नींदें उड़ गयी हैं दिल की तारें उनके दिल से जुड़ गयी हैं दिन को भी मुझे आता नहीं चैना उनकी राह तकते रहते हैं नैना खुदा की बहुत होगी महरबानी अगर कुछ सुन लूँ उनकी ज़ुबानी खुल जायेंगे अपने भी […]

Read More

Hindi Poem with English Translation -दिल ये मेरा दिल है

दिल ये मेरा दिल है खिलौना नहीं मुझे दिल में रखना भुलाना नहीं तुम संग हो तो है छाई बहार तुम्हारे बिना है मेरा जीना दुश्‍वार रातों को मैं गिनता रहता हूँ तारे नींद कहाँ आती है बिना तुम्हारे उजली धूप में भी देखता हूँ एक ही सपना वो दिन कब आयेगा जब बना लूँगा […]

Read More

Hindi Poem-जाहिल कहो पागल कहो

जाहिल कहो पागल कहो – हिन्दी प्रेम कविता जाहिल कहो पागल कहो आवारा कहो मजनू कहो मैं बुरा न मानूँगा आशिक़ हूँ तुम्हारा मीठे बोल बोलो या गाली दो मुझसे मुँह फेरो या हँस के मिलो मैं बुरा न मानूँगा दीवाना हूँ तुम्हारा दिल में रखो या दिल से निकालो ज़िंदा रखो या मुझे मार […]

Read More

Hindi Love Poem for Her -रूठूँ  जो तुमसे

रूठूँ  जो तुमसे मुझे मना लेना दूर अगर हो जाऊँ तो मुझे बुला लेना दिल दिया है तुमको नाज़ुक मेरा हाये देखो संभालना ज़रा कहीं गिर न ये जाये फूलो से खुश्बू लेना तुम पंछियो के पंख मन को लगा लेना तुमसे बहुत मोहब्बत करते हैं हम कहीं कभी हमको न भुला देना रोज़ मिलना […]

Read More

Hindi Poem on Love – कैसे बताऊँ तुम मेरे दिल के कितने करीब हो

कैसे बताऊँ तुम मेरे दिल के कितने करीब हो जो धरती पर जन्नत दिखा दे वही मेरे नसीब हो तुम जो चलते हो लगता है हवा चली हो हल्की हल्की तुम जो कुछ कह दो तो लगता है बजा हो गीत सुरीला तुम्हारा रंग है गोरा जैसे हो मद्धम धूप तुम्हारे बाल हैं काले जैसे […]

Read More

Hindi Love Poem-तेरी आंखो मे जो अजब सा नशा है

तेरी आंखो मे जो अजब सा नशा है क्या बताऊँ दिल किस कदर तुझ पर फिदा है उफ तेरी ज़ुल्फ़ों का वो घना अंधेरा चुराता है दिल जैसे हो कोई लुटेरा तेरे गाल पर वो जो काला काला तिल है हाये उसे देख मचलता ये दिल है वो तेरा बार बार मुझसे नज़रें चुराना और […]

Read More

Hindi Love Poetry-फूलों से क्या मैं कह दूँ

फूलों से क्या मैं कह दूँ कि अब खिलना छोड़ दो क्यों मुझसे तुम कहती हो मुझसे मिलना छोड़ दो तुम्हारी मीठी बातें दिल को देती हैं मेरे सुकून तुमको मैं क्या बताऊँ इश्क़ का मुझ पर है कैसा जुनून लम्बी हैं रातें और छोटे नहीं है दिन तुम बिन तुम बिन तुम बिन अब […]

Read More

Hindi Love Poem-क्या बताऊँ कैसे सुनाऊँ

क्या बताऊँ कैसे सुनाऊँ किस हाल में हूँ तेरे साथ तो आकाश में था आज पाताल में हूँ तुझ बिन कटते नहीं दिन ना कटती हैं रात मुझे याद आती हैं तेरी प्यारी सी मीठी मीठी बातें तुझको पाकर के खुल गये थे अपने नसीब पर तुझको खोकर हो गया मैं आज फिर गरीब हर […]

Read More

Hindi Love Poem-आँखें बन जायें जब दिल की ज़ुबा

आँखें बन जायें जब दिल की ज़ुबा तो कैसे करें दिल की हालत बयान वो ठंडी रातें वो भीगी बरसातें वो प्यार में डूबी उसकी भोली बातें वो उसका रुक रुक कर धीरे धीरे चलना और उसको आता हुआ देख इस दिल का मचलना काश कुछ बदल जाये अपनी भी ये तकदीर बनूं मैं उसका […]

Read More

Hindi Love Poem-आँखों में है मेरी जो थोड़ी सी नमी

आँखों में है मेरी जो थोड़ी सी नमी क्या बताऊँ तुम्हें बस हैं तुम्हारी ही कमी याद करके तुम्हें नहीं थकता है ये दिल या खुदा आई है ये कैसी मुश्किल तुम्हारी आँखों का वो छलकता पानी लफ्ज़ निकलते थे जो तुम्हारी ज़ुबानी आज भी याद हैं मुझे वो सुबह और शाम जो मैं करता […]

Read More