Sad Miss You Love Poem-Teri Yaadein

तेरी यादें (कविता का शीर्षक)
उल्फत है तेरी कि ये बाहें तुझे पुकारती हैं
हर रोज़ तेरी चाहत में ये तन्हाई मुझे डराती है
खुदा करे ये मुहब्बत तुझे भी एक बार मिले
ये दर्द जो मुझे मिला है तुझे हर बार मिले
टूटे तारे की चमक भी नहीं छुपा सकते
ये दर्द जो सीने में है तुम्हें भी नहीं बता सकते
सोचा था कि वफ़ा मिले गी वफ़ा के बदले
लेकिन तूने इस दिल में बेबसी भर दी
काश इन रुखों में प्यास भर आये
तेरे दिल में मेरे लिए मिठास भर आये
वरना जी रहे थे हम खुदा बंदी में
और मर जायेंगे तुझे याद करते करते
-उबैद ग़ज़ली (कवि)

Teri Yaadein (Your Memories)

Ulfat hai teri ki yeh bahein tujhe pukaarti hain, (I am dying to take you in my arms)

Har roz teri chahat mein ye tanhai mujhe darati hai, (My loneliness scares me every day when I lovingly remember you)

Khuda kare ye mohabbat tujhe bhi ek baar mile, (I pray to God that you also fall in love once)

Ye dard jo mujhe mila hai tujhe har baar mile, (The pain I got, you get it every time)

Toote tarey ki chamak bhi nahi chupa sakte, (You cannot hide the brightness of a shooting star(comet))

Ye dard jo seene me hai tumhein bhee nahi bata sakte, (Similarly, I cannot explain the pain in my heart)

Socha tha ki wafa mile gi wafa ke badle, (I had thought you will be faithful to me)

Lekin tune is dil mein bebasi bhardi, (But you disappointed me)

Kaash in rukhon mein pyaas bhar aye, (I wish you long for me)

Tere dil mein mere liye mithaas bhar aye, (You have good feelings for me in your heart)

Warna jee rahe the ham Khuda bandi mein, (Else I am living in the name of God)

Aur mar jayenge tujhe yaad karte karte. (And will die while remembering you)

-Ubaid Ghazali (Poet)

Sad Hindi Love Poem-Ek Sahara Mila Tha

एक सहारा मिला था (कविता का शीर्षक)

एक सहारा मिला था,
जीवन में आगे बढ़ने के लिए
आज वो भी छूटा सा नज़र आ रहा है
जो बनाया था कभी सपनों का महल,
आज वो भी टूटा से नज़र आ रहा है
जीवन की नदी पार करने का
कोई किनारा नहीं दिखाई पड़ता,
बस चारों ओर समंदर नज़र आ रहा है
उलझ गया है पंक्षियों का आशियाना,
हर तरफ बस बंजर ही नज़र आ रहा है
जिंदगी तो तेरे साथ थी मेरे यार,
अब तो मौत ही हमसफ़र नज़र आ रहा है
-निहारिका चौधरी (कवयित्री)

English Translation for International Readers:

Ek Sahara Mila Tha (I had found a refuge)

Ek sahara mila tha (I had found a refuge),

Jeevan mein age badhne ke liye (To progress in life)

Aaj wo bhi chuta sa nazar araha hai (Today that too is appearing to go away)

Jo banaya tha kabhi sapno ka mahal (The palace of my dreams that I had made)

Aj wo bhi tuta sa nazar araha hai (Today it appears to be broken)

Jeevan ki nadi paar karne ka (To cross the river of life)

Koi kinara nahi dikhai padta (I do not see any bank)

Bas charo or samandar nazar araha hai (I only see water on all the four sides)

Ulajh gaya hai pakshiyo ka ashiyana (The nest of birds has become complicated)

Har taraf bas banjar hi nazar araha hai (I only see drought everywhere)

Zindagi to tere sath thi mere yar (I had a great life with you my friend)

Ab to maut hi hamsafar nazar araha hai (Now, I only see death as my companion).

-Niharika Chaudhary (Poet)

Hindi Love Poem on Relationship-Rishtey Ki Ehmiyat

रिश्ते की एहमियत
जड़ों में ज़ख्म लग जायें
तो शाखें सूख जाती हैं,
मिले हों मन अगर
तो बातें रास आती हैं,
दो लोगों की ज़रूरत को
कोई क्या जान पाया है,
जुदाई एक दूजे की
अहमियत को बताती है ।
भदौरिया निहारिका (रचनाकार )

Meaning with English Translations (for international and non-Hindi readers):

Rishtey Ki Ehmiyat (The Importance of a Relationship)

Jadon mein zakhm lag jayen

If the roots of a tree are injured

to shakhein sookh jati hain,

then its branches become dry,

Mile ho man agar

If the hearts are in a sync

to batein raas aaati hain,

then the talks of each other are appreciated by both,

Do logon ki zarurat ko

The needs of two people (couple)

koi kya jaan paya hai,

who else can understand them,

Judai ek duje ki,

Separation makes a couple aware

ehmiyat ko btati hai.

about the importance of each other (in their life).

Bhadauriya Niharika (Poet)

Hindi Miss You Love Poem-तेरी जुदाई रात भर तड़पाये

man-1394395_960_720
हंसना भुला दिया तेरी इस जुदाई ने,
रोना सिखा दिया तेरी इस जुदाई ने,
सोचती रही हर पल हर घड़ी तेरे बारे में,
तेरी इन यादों ने आंसू दे दिये,
तेरी जुदाई में इस कदर शामिल हो गयी
कि मेरे होठों की मुस्कान ले गयी,
मुस्‍कान की जो वजह कभी देते थे तुम,
तुम ही मेरे होठों की मुस्कान ले गये,
तेरी बेवफाई ने भरोसा मेरा तोड़ दिया,
तेरी जुदाई ने मुझको तोड़ दिया,
जो खुशियों के फूल मेरे दिल में खिलते थे,
वहीं आज ग़म के काँटे चुभते हैं,
बिखर के टूट गये इस कदर
कि अब ना जीने के बहाने रह गये,
आँसू नहीं बहते थे जो पलकों से मेरी,
आज वही हर पल इन आँखों की पहचान बन गये,
तेरे प्यार की खुशबू में जो झूम उठती थी मैं,
उन्ही आँखों में तुम आज नफ़रत के आंसू दे गये,
जो जीने का एहसास देते थे तुम
आज तुम ही मेरे आँसुओं की वज़ह बन गये,
सोचा ना करूं तुम से प्यार
पर प्यार तुम तो मेरे रोने की वजह बन गये.
-कविता परमार