Hindi Love Poem on Destiny-Jo Hota Hai Acche Ke Liye Hota hai

जो होता है अच्छे के लिये होता है
बड़ी चाहत थी कि मैं भी इश्क कर लूं,
चांद- तारे तोड़ लाने की बाते कर लूं।
तेरी हर मुश्किलों में साथ निभाता रहूं,
जन्मों-जनम तक मैं तेरा ही रहूं।
फिर वो सुहानी सी मौसम की घड़ी आयी,
दिल में एक आशा की किरण लायी।
सोचा चलो इज़हार कर दूं आज,
दिनों बाद आयी थी हिम्मत आज।
मैंने कहा, ना जी सकूंगा तुम बिन,
तड़प रहा मैं जैसे मछली पानी बिन।
माना कि आज मैं एक गरीब किसान हूँ,
पर कभी आंसू आने न दूंगा ये वादा करता हूँ।
“अपनी औकात में रह” कहकर वो मना कर गयी,
बड़े घमण्ड से प्यार को ठुकरा वो चली गयी।
प्यार-व्यार सब अपने लिये नहीं यह सोच,
ज़िन्दगी की राह में मैं अकेला निकल पड़ा।
कुछ वर्षों बाद बंगला-गाड़ी,पैसा आ गया,
मैं अपनी जिंदगी जीना सीख गया।
वो जहां कल थी वहीं आज है,
मैंने तरक्की की ऊंचाई पा ली है।
हर अंधेरी रात बाद नया दिन आता है,
किसी ने सच ही कहा है,
जो होता है अच्छे के लिये होता है।
जो होता है अच्छे के लिये होता है।
एम.पी. सांरवां, नारायणपुर

Poetry text with English Translation:

Jo Hota Hai Acche Ke Liye Hota Hai
Badi chahat thi ki main bhi ishq kar lu, (I wish I could also fall in love)
Chand taarey tod laane ki baat kar lu. (I could talk about plucking moon and stars from the sky)
Teri har mushkilo mein sath nibhata rahu, (I could stand by your side in every adversity)
Janmo-Janam tak main tera hi rahu. (I stay only yours for multiple births)
Phir wo suhani si mausam ki ghadi agayi, (Again that beautiful moment has arrived)
Dil mein asha ki kiran layi. (It brought a ray of hope in my heart)
Socha chalo izhar kar du aj (I thought I should confess my love for you today)
Dino baad ayi thi himmat aaj (I had gathered the courage to do so after so many days today)
Maine kaha, na ji sakunga tum bin, (I said, I cannot live without you)
Tadap raha main jaise machli paani bin (I am distressed without you like a fish is without water)
Maana ki aaj main ek gareeb kisaan hu, (I agree that today I am a poor farmer)
Par kabhi ansu aane na dunga ye waada karta hu. (But I will never let tears enter your eyes, I promise it to you)
“Apni aukaat mein reh” keh kar wo mana kar gayi, (“Stay within your limits,” saying this she rejected me)
Bade ghamand se pyaar ko thukra wo chali gayi. (With great ego, she walked away rejecting my love)
Pyar vyar sab apne liye nahi yah soch, (This love etc is not my cup of tea, thinking this)
Zindagi ki raah mein main akela nikal pada, (I started moving ahead in my life alone)
Kuch varsho baad bangla-gaadi, paisa agaya, (After few years, I earned a big house, car and money)
Main apni zindagi jeena seekh gaya. (I learnt how to live my life)
Wo jahan kal thi wahi aaj hai (She is still at the same point as she was yesterday)
Maine tarakki ki unchai pa li hai. (I have attained the zenith of my progress in life)
Har andheri raat bad naya din aata hai, (After every dark night, a new day follows)
Kisi ne sach hi kaha hai, (Someone has said the truth)
Jo hota hai acche ke liye hota hai. (Whatever happens, happens for the good)
Jo hota hai acche ke liye hota hai. (Whatever happens, happens for the good)
-M.P Sarvaan, Narayanpur

Sad Poem for Him-Tumse

तुमसे
उस एक दिन जब बातें शुरू हुई तुमसे
लगा कुछ तो अलग सा है तुम में
लगा कुछ तो नया सा है तुम में
फिर रोज़ की बातें होती गयी
और यूं बिना सोचे पिघलती रही मैं उन में
यूं ही बिना समझे फिसलती रही उस रास्ते पे
हाँ पता था मुझको दोबारा उसी रास्ते जा रही हूँ जहाँ गम बहुत हैं
पर गम की क्या बिसात यहाँ तुम्हारा साथ बहुत है
उस दिन जब पहली मुलाकात हुई तुमसे
लगा जैसे मैं खुद को मिल गयी
मेरे अंदर की मुरझाई कली खिल गयी
फिर तुम्हारा मुझको छूना
चूमना मुझको गले लगा कर
कसम से मेरे अंदर कुछ तो कमाल कर गया
बहुत दिनों से शांत मेरे मन में सवाल कर गया
फिर मिलना हुआ और मिलते रहना हुआ
तुम्हारी बातें तुम्हारी आँखों से पढ़ना हुआ
तुझको ढूंढ कर तुझमें ही खोना हुआ
सच, ये एक प्यार सिर्फ तुमसे कई हज़ार बार हुआ
फिर हुआ कुछ बुरा
शायद उपरवाले की मर्ज़ी थी
तेरा मुझसे कई दफे रूठ जाना हुआ
मेरा तुझको हर दफे मनाना हुआ
और हर आंसू के बाद भी
दुआ में उठे हाथ
और झुकी नज़रों में तेरी खैरियत का आना हुआ
-अश्वनी कुमार

Tumse
Us ek din jab baatein shuru hui tumse (That day when I started talking to you)
Laga kuch to alag sa hai tum mein (I felt you were different from others)
Laga kuch to naya sa hai tum mein (I felt that there is something new in your personality)
Fir roz ki baatein hoti gayi (Then, we started talking on a daily basis)
Aur yoon bina soche pighalti rahi main un mein (And I started falling for you)
Yoon hi bina samjhe fislati rahi us raste pe (I started walking on the path of love without thinking much)
Haan pata tha mujhko dobara usi raste jaa rahi hoon jahan ghum bahut hain (Yes, I was aware that I am again walking on the path that is full of sorrows)
Par gam ki kya bisaat yaha tumhara saath bahut hai (But who worries about sorrows when you are by my side)
Us din jab pehli mulaqaat hui tumse (That day when I met you for the first time)
Laga jaise main khud ko mil gayi (I felt as if I met myself)
Mere andar ki murjhayi kali khil gayi (I regained my motivation)
Fir tumhara mujhko chuna (Then your touch)
Chumna mujhko gale laga kar (Kissing me while embracing me)
Kasam se mere andar kuchh toh kamaal kar gaya (I swear, it changed me)
Bahut dino se shaant mere man mein sawal kar gaya (It created questions in my peaceful mind)
Fir milna hua aur milte rehna hua (Then I kept seeing you and meeting you)
Tumhari baatein tumhari aankhon se padhna hua (I read your eyes while we talked)
Tujhko dhundh kar tujh mein hi khona hua (I felt lost in you)
Sach… Yeh ek pyar sirf tumse kai hazaar baar hua (I fell in love with you a thousand times)
Fir hua kuch bura (Then something bad happened)
Shayad uparwale ki marzi thi (Maybe, it was God’s will)
Tera mujhse kai kai dafe rooth jana hua (You were annoyed with me many times)
Mera tujhko har dafe manana hua (I tried to console you each time)
Aur har aansoo k baad bhi (And even after every tear)
Dua mein uthe hath (I prayed for you)
Aur jhuki nazaron mein teri khairiyat ka aana hua (And I got to know that you are doing fine)
-Ashwani Kumar

Hindi Love Poem on Separation- प्यार की धड़कन

बिछड़ी प्यार की धड़कने
आँखों में नमी दे
बन्द राहों की उलझनें जीने न दे
वो खामोशियाँ भी इश्क़ को ही तलाशे
कुछ अनकही सी ख्वाइशें
दिल तो छुपा दे ये मोहोब्बत
कैसा जो अंग अंग लुटा न दे……

-स्वेता

Bichadi pyaar ki dhadkaney
Aankhon mein nami de
Bandh raahon ki uljhan Jeene na de
Vo khamoshiyaan bhi Ishq ko hi talashe
Kuch ankahi si khwaahishey
Dil ne chupa de Yeh mohobbat
kaisa Jo ang ang luta na de

-Swetha

Hindi Love Poem on Separation-आँखें जो खुली

आँखें जो खुली तो उन्हें अपने करीब पाया ना था
कभी थे रूह में शामिल आज उनका साया ना था
बेपनाह मोहब्बत की जिनसे उम्मीदें लिये बैठे थे
उनसे तन्हाइयों की सौगातें मिलेंगी बताया ना था
एक हम ही कसीदे हुस्न के हर बार पढ़ते रहे पर
उसने तो कभी हाल-ए-दिल सुनाया ना था
वो फिरते रहे दिल में ना जाने कितने राज लिये
हमने तो कभी उनसे जज्बातों को छुपाया ना था
जाने क्यों हम बेवजह मदहोश हुआ करते थे
जाम आँखों से तो कभी उसने पिलाया ना था
मीलों कब्ज़ा कर बना रखा था सपनों का महल पर
उसने वो ख़्वाब कभी आँखों में सजाया ना था
धड़कन ‘मौन’ हुई अब एक आह की आवाज़ है
शिकवा क्या उनसे जिसने कभी अपना बनाया ना था

-अमित मिश्रा

Aankhein jo khuli thi to unhe apne kareeb paya naa tha
Kabhi they ruh mein shamil aaj unka saya naa tha
Bepanaah mohabbat ki jinse umid liye beithe they
Unse tanhai ki saugate milegi btaya naa tha
Ek hum hi kaside husan ke har baar padte rahe par
Unse to kabhi haal ae dil sunaya naa tha
Wo firte rahe dil me naa jane kitne raaz liye
Hamne to kabhi unse jazbaton ko chupaya naa tha
Jane kyon hum bevajah madhosh hua karte they
Jaam aankhon se to kabhi usne pilaya na tha
Milon kabza kar bana rakha tha sapno ka mahal par
Usne wo khwab kabhi aankhon me sajaya na tha
Dhadkan maun hue ab ek aah ki aawaz hai
Shikwa kya unse jisne kabhi apna banaya naa tha

-Amit Mishra

Hindi Love Poem for Him, Her-दिल की चाहत

दिल की चाहत
कल भी तुम थे
आज भी तुम हो

मेरी ज़रूरत
कल भी तुम थे
आज भी तुम हो

तुमने तो मुझे कबका
भुला दिया
मेरी आदत
कल भी तुम थे
आज भी तुम हो

तुमने न जाना कितना
तुमको प्यार किया
मेरी इबादत
कल भी तुम थे
आज भी तुम हो

बेखबर बनते हो
खबर हो के भी
मेरी किस्मत
कल भी तुम थे
आज भी तुम हो

-अनुष्का सूरी

 

How to read:

Dil ki chahat 

Kal bhi tum the

Aj bhi tum ho

 

Meri zarurat

Kal bhi tum the

Aj bhi tum ho

 

Tumne to mujhe kabka 

Bhula diya

Meri adat

Kal bhi tum the

Aj bhi tum ho

 

Tumne na jana

Kitna tumko pyar kiya

Meri ibadat

Kal bhi tum the

Aj bhi tum ho

 

Bekhabar bante ho

Khabar ho ke bhi

Meri kismat

Kal bhi tum the

Aj bhi tum ho

-Anushka Suri

 

English Translation:

You were my heart’s desire yesterday,

and today as well

 

You were my need yesterday,

and today as well

It has been a long time since you have forgotten me.

You were my habit yesterday,

and today as well.

 

You never had any clue

How much I loved you

You were my prayer yesterday,

and today as well.

 

You act unaware even after knowing it all.

You were my destiny yesterday,

and today as well.

 

 

Hindi Love Poem – दिल दिया दर्द लिया

girl-429380_960_720

दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैने इश्क़ किया

तेरा दीदार किया
हाँ मैंने इश्क़ किया
तुझ पे ऐतबार किया
हाँ मैंने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैंने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैंने इश्क़ किया

तेरे बिन तड़पे ये जिया
हाँ मैंने इश्क़ किया
अब तो मिल जा तू पिया
हाँ मैंने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैने इश्क़ किया

-अनुष्का सूरी

How to read:

Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya

Tera deedar kiya
Haan maine ishq kiya
Tujh pe aitbaar kiya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya

Tere bin tadpe ye jiya
Haan maine ishq kiya
Ab to mil ja tu piya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya

-Anushka Suri

English translation:
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
I fondly thought about you
Yes I fell in love
I trusted you
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
My heart longs for you
Yes I fell in love
Please come and meet me my beloved
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love

Hindi Love Poem For Her -ऐ दिल

heart-wallpaper-1366x768

ऐ दिल ! तू फिर मुस्कुराया है
है कुछ अपनी बात, या फिरउनकी बात कहने आया है
बता दिल तू फिर क्यों मुस्कुराया है ?
सियासी दौर मैं अब तो कुछ नजरों ने भी डराया है
है कोई प्रेम आमंत्रण या फिर किसी ने प्रेम जाल बिछाया है
बता मेरे दिल! तू क्यों मुस्कुराया है
आज फिर महफ़िल में लोगो ने चर्चा बनाया है
शायद किसी बेवफा ने उन्हें खूब हंसाया है
पर तुझे क्या मिला दिल जो तू इतना मुस्कुराया है
सच बता मेरे दिल! तू क्यों मुस्कुराया है
ये किसी के आने कि आहट है ,या किसी को पाने कि चाहत है
सवाल सैकड़ों हैं जिंदगी के जिसने तुझे इतना सताया है
बता मेरे दिल फिर भी तू क्यूँ मुस्कुराया है
तू है ही जिद्दी ,जिसने तुझे इतना रुलाया है फिर भी तू उसी से
मिलने आया है तुझे देखकर तो शहर भी हैरान है,शायद
किसी ने ये सवाल उठाया है जिस शख्स ने इतना जख्म दिया ,
तू फिर क्यों उसी के जख्मों को धोने आया है,
वाह मेरे दिल ! ,अब मालूम है मुझे तू क्यों मुस्कुराया है
शायद फिर से तुझे कोई अपना बनाने आया है
संभल जा मेरे दिल !शायद तू अंतिम बार मुस्कुराया है

-प्रतिभा त्रिपाठी

Ae dil tu fir muskuraya
Hai kuch apni bat ya fir unki bat khne aaya hai
Bta dil tu fir kyon muskuraya hai?
Siyasi daur mein ab to kuch nazro ne bhi daray hai
Hai koi prem aamntran ya fir kisi ne prem jaal bichaya hai
Bta dil tu fir kyon muskuraya hai?
Aaj fir mehfil me logo ne chrcha bnaya hai
Sayd kisi bevfa ne unhe khub hasya hai
Par tuje kya mila dil jo tu etna muskuraya hai
Such bta dil tu fir kyon muskuraya hai?
Ye kisi k aane ki aahat hai
Swal sakdo hai zindgi k jisne tuje etna staya hai
Bta mere dil fir kyu tu uskuraya hai
Tu hai hi ziddi jisne tuje etna rulaya hai
Fir bhi tu usi se milne aaya hai
Tuje dekh kar ye shar bhi hrain hai sayd
Kisi ne ye swal uthay hai
Jis shksh ne etna jhkam diya tu
Fir kyon usi k jkhmo ko dhone aaya hai
Wah mere dil ab malum hai muje tu kyon muskuraya hai
Sayd fir se tuje koi apna bnane aaya hai
Smbhal ja mere dil sayd tu antim bar muskuray hai

-Pratibha Tripathi

Hindi Love Poem for Lost Love-ए दोस्त जब जाना ही था  

love
Love

ए दोस्त जब जाना ही था  

ऐ दोस्त जब जाना ही था,
तो पलकों के आँसू बन कर क्यों रह गये?
हर पल हम तुझे ही सोचते रहे,
दुआ में सिर्फ तेरा ही नाम लेते रहे,
दुआ कबूल करके खुदा भी प्यार से कहते गये,
कि ‘वो सब तो आगे चले गये,
फिर तुम क्यों यूँ ही भटकते रह गये,
ऐ दोस्त जब जाना ही था,
तो दिल की आश बन कर क्यों रह गये?
तुझे पाने की ख्वाहिश में हम खुद को भूल गये,
तुझसे बिछड़ने के गम में हम जीना ही भूल गये,
आज खुदसे इतने रुठे कि,
खुदा से मौत की भीख मांग बैठे
पता नहीं था मरने की होगी इतना तमन्ना
न जाने क्यों आज तक यूँ ही जीते रह गये,
ऐ दोस्त जब जाना ही था,
तो दु:ख में मेरा साथ छोड़ तुम कहाँ गये?
हम बेवक़ूफ़ हर दिन ये सोचते रहे कि,
कल मेरे दोस्त से बाते होंगी,
और दुनिया की हर खुशी मेरे पास होगी,
पर ना जाने अब वो दिन सिर्फ
सपनों में दिल की आशा बन कर रह गये,
ऐ दोस्त जब जाना ही था
तो मेरी सांसे बन कर क्यों रह गये?
ऐ दोस्त  जब जाना ही था
तो मुझे जिंदा छोड़ कर क्यों चले गये?
-राझ