Hindi Love Poem For Her-तुम जो संग बने रहो

हम सारे वादों को निभाएंगे, जिंदगी को सफल बनाएंगे, तुम जो संग बने रहो, तुम वादा करके मुकर ना जाना, मेरे दर्द प्रार्थनाओं को खोरी-कोटी ना सुनाना, फिर भी तुमसे किया वादा निभाउंगा, तुम जो संग बने रहो। तुम्हारे कारण हर चाहत से इज़हार है मेरा, तुम्हारे कारण हर जीत से प्यार है मेरा, मेरा […]

Read More

Hindi Love Poem Expressing Love – चाँद चांदनी को चाहता है जिस कदर

चाँद चांदनी को चाहता है जिस कदर, उस कदर चाहूँ मैं तुझे। मेरी एक खुवाईश है कि बस, या तू मेरी बन जा या अपना बना ले तू मुझे। मुझे अच्छी तरह याद है वो दिन, जब हमारा मिलन हुआ , ये भी याद है तुम ने उस दिन क्या पहना हुआ था, हमारी किस […]

Read More

Miss You Love Poem- याद है

  याद है मुझे आज भी उनसे मेरी पहली मुलकात का वो सफर था वो बड़ा ही खास दिन मेरे लिये था वो सफर लम्बा पर सुनकर उनकी मीठी आवाज कर दिया सफर मेरा सुकून भरा मेरे सफर की पूरी थकान उतर गई जब उसने मुस्कुरा के मुझे देखा याद है मुझे मेरी नयी ज़िंदगी […]

Read More

Waiting for Love Hindi Poem-सुनहरा पल

हृदय की अनकही बातें कभी जब लब पर आती हैं स्वरों में कम्पन होती है. स्वयं पलकें झुक जातीं हैं। कहीं भी दिल नहीं लगता मिलन की तीस सताती है कभी जब तन्हाई मे. किसी की याद आती है। प्रात: खुशियों से भर जाती शाम अभिसार में जाती है दिन उदास रहता है.रात मे नींद […]

Read More

Hindi Love Poem for Life Partner-हमसफ़र

आँखों ही आँखों में बातें इशारों में तुमने जो मुझसे कहीं है ऐसा क्यों लगता है जैसे की तुमको भी मुझसे मोहब्बत हुई है ऐ हमसफ़र,मेरे हमसफ़र देखूँ हर जगह आये तू ही नज़र ऐ हमसफ़र, मेरे हमसफ़र तारीफें तेरी कैसे करे हम कैसे करे हम ख्वाईशें हलचल मची है दिल में ये मेरे दिल […]

Read More

Hindi Poem For Angry Wife – हमसफ़र

थामा है जो तुमने हाथ ये सफर निबाहे रखना मीठी शरारतें बनाए रखना जब भी रहू मै उदास तुम मुझे हँसाए रखना खूबसूरत बँधन को बनाए रखना खो न जाना दुनिया के भँवर में अपनी सांस मेरी सांस से मिलाए रखना मिले जो किसी मोड़ पर अँधियारा तुम उसमे उजियारा बनना मिले जो गम किसी […]

Read More

Hindi Love Poem For Her – रात होते ही

  रात होते ही फलक पे सितारे जगमगाते हैं वो चुपके से दबे पांव मुझसे मिलने आते हैं याद रहे बस नाम उनका भूल के जमाने को वो चुनरी को इस तरह मेरे चेहरे पे गिराते हैं सौ गम और हज़ार ज़ख़्म हो चाहे दुनिया के हर दर्द भूल जाये कुछ इस तरह गुदगुदाते हैं […]

Read More

Hindi Love Poem For Her – तुम जैसी हो अच्छी हो

है वो थोड़ी अजनबी सी, हर रात ख्वाबो में आती है।। जी भर देखना चाहता हूँ उसे, उफ़ ये रात गुज़र जाती है…!!!! कुछ कहना चाहता हूँ उससेे, बात होठो तक रुक जाती है।। वो आँखों में देख कर मेरी, दिल की बात समझ जाती है…!!!! समझ कर दिल की बातों को, लब्जो का इंतज़ार […]

Read More

Romantic Hindi Poem – मेरी साँसे

मैं तो अपनी हर सांस में तुम्हें चाहूँगा , जो कभी ना ख़त्म हो जज्बात इस तरह ख़्वाबों मैं तुम्हे सजाऊँगा , मेरे तो दिन रात है तुमसे ,मैं तो इन सांसो के बाद भी तुम्हे हद से ज्यादा चाहुँगा ना सुकून होता हो बिना तुम्हारे मुझे एक पल भी इस कदर सांसो पर अपनी […]

Read More

Hindi Poem For Angry Girlfriend- काश कोई होता

रूठ जाने की अदा हमको भी आती है पर इसी ख्वाहिश में रह जाते हैं कि कोई होता हमें भी मनाने वाला चाँद और सूरज को मिलाने वाला कोई जो करता हमारे साथ शैतानियां जो याद दिलाता बचपन की नादानियाँ कोई जो लड़खड़ाते क़दमों को राह देता जो पास न होकर के भी पास होता […]

Read More

Hindi Love Shayari for Girlfriend- तुम्हारी है हर बात निराली

तुम हो एक अनमोल अंगूठी या फिर उसका कोई नगीना तुम सी नहीं है कोई अनूठी कातिल काफिर कोई हंसीना आंखें तुम्हारी कारी कजरारी चाल तुम्हारी बड़ी मतवारी एक बार जो तुम कुछ बोलो जैसे शब्द में मिश्री घोलो हो तुम बड़े ही नखरे वाली तुम्हारी है हर बात निराली -अनुष्का सूरी (शायरा) How to […]

Read More

Heart Touching Love Poem- ऐसा लगता है

महफ़िल भी सूनी लगती है तेरा कसर लगता है, ग़म भी खुशी लगती है तेरा असर लगता है। है लगता हर पल सदियों -सा, बरसों -सा बिन तेरे; तेरा दिल ही मुझे अब मेरा घर लगता है। है चाहता ये दिल हर पल तेरे दीदार को, तड़पता हूँ, बेचैन रहता हूँ मामुली सा पत्थर भी […]

Read More

Hindi Love Poem Expressing Love – मेरा दिल

प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है बड़ा समझाया इस दिल ए नादान को पर ये तो मस्त गगन में उड़ता चला जा रहा है प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल […]

Read More

Hindi Love Poem For Her-लबों की दस्तक

नर्म लबों की जो छुई है दस्तक। पहलू में कोई गुलजार है। फिर है मोह्बत उस आशिक़ी से। शामों को फिर तेरा इंतेजार है। गिरती है पलकें उठती है पलकें। दिल ये कैसा बेकरार है। समुन्दर के न जाने कितने है अर्से। कितने दिन बीते कितने हम तरसे। धड़कन को बस तेरा इंतेजार है। तेरा […]

Read More