Hindi Love Poem for Her-Ankho Ke Samne

आँखों के सामने

आंखें खोलें तो दीदार तुम्हारा होना चाहिए,
अगर करे बंद तो स्वप्न तुम्हारा होना चाहिए,
हमें मरने के लिए हर लम्हा मंज़ूर है,
बस कफ़न के बदले आँचल तुम्हारा होना चाहिए।

तुझे आँखों के सामने रखने की कोशिश करता रहता हूँ,
कोई कर न ले साज़िश तुझे चुराने की इस बात से डरता रहता हूँ,
तुझे आँखों के सामने रखने की कोशिश करता ही रहता हूँ,

खुश तो बहुत हूँ फिर भी डरता रहता हूँ,
तेरा दिल बदल न जाये इस डर से तेरी आँखों को पढ़ता रहता हूँ,
रचने वाले ने क्या रचा है तुझे,
हर गली, हर मुहल्ले, हर जुबान पर हैं चर्चे तेरे,
हर जगह बट रहे प्यार के पर्चे मेरे,
पर….
ये पर्चे मेरी मुहब्बत मुझसे छीन न ले, इस बात से डरता रहता हूँ,
तुझे आँखों के सामने रखने की कोशिश करता ही रहता हूँ,
करता ही रहता हूँ……

सुनता हूँ, कई शाहजहां तेरी चाहत में बनवा रहे हैं महले कई,
इन ज़ालिमों ने भी कर दिया मुझे कवि,
हर जगह बस दिख रही बस तेरी छवि,
बस इतना ही कहूँगा……..
“तेरी खूबसूरती का दीवाना हर कोई,
तेरी नज़रों का दीवाना हर कोई,
जब कभी पूछो ज़माने से कुदरत की खूबसूरती क्या है,
तब सिर्फ तेरा नाम बताता हर कोई”

तेरा जब कोई मुझसे पता पूछे तो उसको मैं भटकाता रहता हूँ
तुझे आँखों के सामने रखने की कोशिश करता ही रहता हूँ,
करता ही रहता हूँ,
करता ही रहता हूँ……………
-कुमार हर्ष

Ankho Ke Samne

Ankhein khule to didar tumhara hona chahiye,
Agar karein band to sapna tumhara hona chahiye,
Hame marne ke liye bhi har lamha manzur hai,
Bas kafan ke badle anchal tumhara hona chahiye…

Tujhe ankho ke samne rakhne ki koshish karta rahta hu,
Koi kar na le sazish tujhe churane ki, is baat se bhi darta rahta hu,
Tujhe ankho ke samne rakhne ki kosish karta hi rahta hu.
Khush to bahut hu, phir bhi darta rahta hu,
Tera dil badal na jaye is dar se teri ankho ko padta rahta hu,
Rachne wale ne kya racha hai tujhe,
Har gali, har muhalle, har zubaan par hain charche tere,
Har jagah bat rahe pyar ke parche mere,
Par…..
Ye parche meri muhabbat mujhse cheen na le, is baat se darta rahta hu,
Tujhe ankho ke samne rakhne ki koshish karta hi rahta hu,
Karta hi rahta hu…

Sunta hu, kai Shah Jahan teri chahat mein banwa rahe hain mahle kai,
In zalimo ne bhi kar diya mujhe kavi,
Har jagah bas dikh rahi teri chhavi,
Bas itna hi kahunga….
“Teri khubsoorti ka deawana har koi,
Teri nazaron ka deewana har koi,
Jab kabhi pucho zamane se kudrat ki khubsurti kya hai,
Tab tab sirf tera naam batata har koi.”

Tera jab mujhse koi pta puche to usko mai bhatkata rahta hu,
Tujhe mujhse koi chura na le is baat se darta rahta hu,
Tujhe ankho ke samne rakhne ki koshish karta rahta hu,
Karta rahta hu,
Karta rahta hu…..
-Kumar Harsh

One thought on “Hindi Love Poem for Her-Ankho Ke Samne

Leave a Reply