Hindi Poem on Love – कैसे बताऊँ तुम मेरे दिल के कितने करीब हो

balloon-1046658_960_720

कैसे बताऊँ तुम मेरे दिल के कितने करीब हो
जो धरती पर जन्नत दिखा दे वही मेरे नसीब हो
तुम जो चलते हो लगता है हवा चली हो हल्की हल्की
तुम जो कुछ कह दो तो लगता है बजा हो गीत सुरीला
तुम्हारा रंग है गोरा जैसे हो मद्धम धूप
तुम्हारे बाल हैं काले जैसे हो घने जंगल
तुम्हारी आंखो के समुन्दर में डूबा रेहना चाहता हूँ
मुझे अपनालो तुम्हारा बन कर रेहना चाहता हूँ

Hindi Love Poem-तेरी आंखो मे जो अजब सा नशा है

तेरी आंखो मे जो अजब सा नशा है

क्या बताऊँ दिल किस कदर तुझ पर फिदा है

उफ तेरी ज़ुल्फ़ों का वो घना अंधेरा

चुराता है दिल जैसे हो कोई लुटेरा

तेरे गाल पर वो जो काला काला तिल है

हाये उसे देख मचलता ये दिल है

वो तेरा बार बार मुझसे नज़रें चुराना

और मेरा यू ही तेरे सामने आ जाना

खुदा जाने कब तू कहेगी अपनी ज़ुबानी

अब शुरू की जाये अपनी प्रेम कहानी

कुछ बातें होंगी कुछ मुलाकातें होंगी

कहीं सपने सजेंगे कहीं नींदें उड़ेंगी

धीरे धीरे बढ़ेगी ये बेक़रारी

और छा जायेगी कुछ कुछ खुमारी

खो जायेंगे हम एक दूसरे में

तू समा जायेगी मुझ में और मैं तुझ में

भर जायेगी खुशियों से ये ज़िंदगानी

मैं तेरा राजा और तू मेरी रानी

 

Hindi Poem- आँखों में झांको मेरी

girl-1352914_960_720

आँखों में झांको मेरी

खो जाने दो खुद को

बाँहों में आओ मेरी

सो जाने दो खुद को

दिल में आओ मेरे

बसा लो यहाँ खुद को

तुम मेरी हो मेरी रहोगी

केह दो आज तुम सभी को

तुम चाहो या भुला दो मुझको

आशिक़ ये तुम्हारा चाहेगा बस तुम्हीं को

पास आए हो – हिन्दी प्रेम कविता

couple-1363969_960_720

पास आए हो तो अब दूर मत जाना

मुझसे किये वादे तुम अब निभाना

वो मेरा ठुमक आता देख के राह भूल जाना

और तुम्हारा मुझे देख वो धीरे से मुस्काना

वो एक दूजे कि याद में खुद को तड़पाना

वो मिलना रोज़ चाहे कुछ भी कहे ज़माना

जब भी मिलो तब एक ही बात दोहराना

तुमसे ही है प्यार ओ जाने जाना

Hindi Poem on Love-दिल की बात

wooden-heart-3077104__340.jpg

दिल की बात को दिल में आज उतरने दो
वक़्त है ये ना ठेहरेगा इसे गुज़रने दो
आखों से करलो बातें मुझसे कुछ आज
बिन बोले भी सुन लो इस दिल की आवाज़
दिल है मेरा भोला पंछी उड़ने दो
दिल की बात को दिल में आज उतरने दो
तुम आते हो फूल खिलकर मुस्काते हैं
देखो कितनी हसीन ये मुलाकातें हैं
बार बार मिला करो मुझे खुद से जुड़ने दो
दिल की बात को दिल में आज उतरने दो
तुमको पा कर दिल से बस निकली एक फरियाद
चाहत में बस तेरी करें खुद को बर्बाद
तेरे लिये मेरी ये चाहत बढ़ने दो
दिल की बात को दिल में आज उतरने दो

Hindi Poem-मझदार में है कश्ती

desktop-1753683_960_720

मझदार में है कश्ती किनारा ढूँढती हूँ

हाँ मैं भी जीने का सहारा ढूँढती हूँ

कितने दिन बीत गये

देर भई उन्हें आने में

जाने कैसी कटेंगे दिन कैसे रातें

और इस बेरहम ज़माने की ये बातें

लेकिन उम्मीद का दामन न छोड़ा था न छोड़ेंगे

जीत ही पानी होगी अब तो हार का मुँह भी मोड़ेंगे

दिल कहता है बस एक ही बात

लगता ही जल्द होगी अपनी मुलाक़ात

Hindi Love Poem-क्या बताऊँ कैसे सुनाऊँ

girl-429380_960_720

क्या बताऊँ कैसे सुनाऊँ किस हाल में हूँ

तेरे साथ तो आकाश में था आज पाताल में हूँ

तुझ बिन कटते नहीं दिन ना कटती हैं रात

मुझे याद आती हैं तेरी प्यारी सी मीठी मीठी बातें

तुझको पाकर के खुल गये थे अपने नसीब

पर तुझको खोकर हो गया मैं आज फिर गरीब

हर पल इस दिल को रेहता है बस तेरा इंतज़ार

आके मिलजा मुझसे कि अब ये दिल है बेकरार

Hindi Love Poem-आँखों में है मेरी जो थोड़ी सी नमी

woman-1148923_960_720

आँखों में है मेरी जो थोड़ी सी नमी

क्या बताऊँ तुम्हें बस हैं तुम्हारी ही कमी

याद करके तुम्हें नहीं थकता है ये दिल

या खुदा आई है ये कैसी मुश्किल

तुम्हारी आँखों का वो छलकता पानी

लफ्ज़ निकलते थे जो तुम्हारी ज़ुबानी

आज भी याद हैं मुझे वो सुबह और शाम

जो मैं करता था सिर्फ तेरे ही नाम

वक़्त आया लेकर क्या कहर

तेरे बिना जीना हो गया ये ज़हर

तू ही मेरी आँखों में मेरे ख्वाबों में है

तू ही कुछ सवालों में कुछ जवाबों में है

याद करता है तुझही को ये मेरा दिल

कभी आकर तू भी मुझसे यूं ही मिल

तोहफे में दूंगा तुझको ये ज़मीं ये आसमां

तू ही तो है मेरे लिये सारा जहाँ

Hindi Love Poem-बहुत दिन गुज़र चुके

girl-517555_960_720

बहुत दिन गुज़र चुके तेरी जुदाई में

कटती है मेरी रातें आज भी तन्हाई में

तुझे याद करके आज भी में रोता हूँ

क्या बताऊँ न कुछ पाता बस खोता हूँ

तेरी वो प्यारी सी मुस्कान याद आती है

तेरी वो हँसी की आवाज़ मेरे कानो में गुदगुदाती है

तेरे वो मीठे बोल आज भी लुभाते हैं

तेरे संग बिताये लम्हे आज भी दिल को भाते हैं

तुझसे मिलने को आज भी बेकरार है मेरा दिल

काश कभी कहीं से आकर तू मुझे मिल