Missing Him Love Poem-Ek Waqt Tha

एक वक़्त था (कविता का शीर्षक)

एक वक़्त था .. जब हम अजनबी हुआ करते थे

एक वक़्त था . जब वो अजनबी हो कर भी अपना सा लगा करता था

एक वक़्त था . जब आंखें सिर्फ उसी को ढूंढा करती थी .

एक वक़्त था .. जब उसे न देखो तो बेचैनी सी हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब सिर्फ आँखों से बात हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब उसकी एक झलक देख कर, बड़ी सी स्माइल हुआ करती थी

एक वक़्त था . जब दिल उससे बात करने के लिए बेचैन रहता था

एक वक़्त था .. जब उसे फेसबुक पर सर्च करा जाता था और उसके न मिलने पे बड़ा अफ़सोस करा जाता था

एक वक़्त था .. जब दिल सिर्फ उसी को याद किया करता था

एक वक़्त था .. जब खवाब भी उसी के आते थे .

एक वक़्त था .. जब हर दुआ में उसका नाम शामिल होता था

एक वक़्त था .. जब उसे खुदा से माँगा जाता था

एक वक़्त था .. जब वो फेसबुक पे मिल गया था मानो दुनिया की साड़ी खुशियां ही मिल गयी हों

एक वक़्त था .. मानो ऐसा लग रहा था रब ने मेरी सुन ली हो

एक वक़्त था … जब हम फ्रेंड्स बन गए थे

एक वक़्त था .. जब सुबह, उसकी फोटो देख के होती थी

एक वक़्त था  .. जब उसकी एक ही फोटो को सौ सौ बार देखा जाता था

एक वक़्त था …  जब दो मिनट बात करके भी दिन भर खुश रहा जाता था

एक वक़्त था … जब उसके ऑनलाइन आने का घंटों वेट किया जाता था

एक वक़्त था .. जब हम बोलते रहते थे और वो सुनता रहता था

एक वक़्त था … जब एक दिन भी उसकी फोटो देखे बिना रहा नहीं जाता था

एक वक़्त था … जब सिर्फ दिल की सुनी जाती थी

एक वक़्त था .. जब दिल और दिमाग पर सिर्फ उसी का राज होता था

एक वक़्त था .. जब उसकी फोटो न देखो तो दिन सूना सूना सा लगता था

एक वक़्त था .. जब हम उसे अपनी बातों से बोर किया करते थे और उसका रिप्लाई हाँ हूँ हम्म में ख़तम हो जाया करता था

एक वक़्त था .. जब हम दोनों ने प्यार का इज़हार कर दिया था

एक वक़्त था .. जब फ़ोन पे घंटों बात हुआ करती थी

एक वक़्त था .. जब उसका और मेरा रास्ता अलग हो गया था

और एक आज का वक़्त है.. जब उसके होने या न होने से कोई फरक नहीं पड़ता

और एक आज का वक़्त है.. जब दिल में उसके लिए एक भी जगह नहीं है

और एक आज का वक़्त है.. जब हम फिर से अजनबी हो चुके हैं..

– नैनिका साहू (कवि)

Ek Waqt Tha (Title of the Poem)

Ek waqt tha.. Jab hum ajnabi hua karte the (There was a time when we both were strangers to each other)
Ek waqt tha. Jab vo ajnabi ho kar bhi apna sa laga karta tha (There was a time when he seemed so close despite being a stranger)
Ek waqt tha. Jab ankhein sirf usi ko dhundha karti thi. (There was a time when my eyes used to look only for him)
Ek waqt tha.. Jab use na dekho toh bechaini si hua krti thi (There was a time when I used to get anxious on not seeing him)
Ek waqt tha.. Jab sirf ankho se baat hua karti thi (There was a time when we used to talk only through our eyes)
Ek waqt tha.. Jab uski ek jhalk dekh kar, badi se smile hua karti thi (There was a time when I used to have a big smile on my face after having a glance at him)
Ek waqt tha. Jab dil us se baat kerne ke liye bechain rehta tha (There was a time when I used to be anxious to talk to him)
Ek waqt tha.. Jab use fb pe search kara jata tha aur uske na milne pe bada afsos kara jata tha (There was a time when I used to search him on Facebook and not finding him there used to be a big turn off)
Ek waqt tha.. Jab dil sirf usi ko yaad kiya karta tha (There was a time when my heart used to remember him only)
Ek waqt tha.. Jab khwaab bhi usi ke aate the. (There was a time when I used to dream only about him)
Ek waqt tha.. Jab har dua mein uska naam shamil hota tha (There was a time when his name was included in every prayer)
Ek waqt tha.. Jab use Khuda se maanga jata tha (There was a time when I used to ask for him from God)
Ek waqt tha.. Jab vo fb pe mil gya tha mano duniya ki sari khushiyaan hi mil gayi ho (There was a time when I found him on Facebook and felt as if I got all the happiness of this world)
Ek waqt tha.. Mano aisa lag raha tha Rab ne meri sun li ho (There was a time when I felt as if God had answered my prayers)
Ek waqt tha… Jab hum friends ban gaye the (There was a time when we had become friends)
Ek waqt tha.. Jab subah, uski photo dekh ke hoti thi (There was a time when I used to start my morning after looking at his picture)
Ek waqt tha .. Jab uski ek hi photo ko sau sau baar dekha jata tha (There was a time when I used to look at one of his pictures at least hundred times)
Ek waqt tha… Jab do minute baat kar ke bhi din bhar khush raha jata tha (There was a time when I used to feel happy the entire day after talking to him for two minutes)
Ek waqt tha… Jab uske online aane ka ghanto wait kiya jata tha (There was a time when I used to wait for hours for him to come online)
Ek waqt tha.. Jab hum bolte rehte the aur vo sunta rehta tha (There was a time when I used to speak and he used to listen)
Ek waqt tha… Jab ek din bhi uski photo dekhe bina raha nahi jata tha (There was a time when I could not spend even one day without looking at his picture)
Ek waqt tha… Jab sirf dil ki suni jati thi (There was a time when I used to only listen to my heart)
Ek waqt tha.. Jab dil aur dimag mein sirf usi ka raaj hota tha (There was a time when he used to rule my heart and brain)
Ek waqt tha.. Jab uski photo na dekho to din suna suna sa laga karta tha (There was a time when I used to feel lonely if I did not look at his picture)
Ek waqt tha.. Jab hum use apni baaton se bore kiya karte the aur uska reply ha hu hmm mein khatam ho jaya karta tha (There was a rime when I used to bore him with my talks and he used to reply to my chats in yes, yea…)
Ek waqt tha.. Jab hum dono ne pyar ka izhaar kar diya tha (There was a time when we both had confessed our love for each other)
Ek waqt tha.. Jab phone pe ghanto baat hua karti thi (There was a time when we used to talk on phone for hours)
Ek waqt tha.. Jab uska aur mera raasta alag ho gaya tha (There was a time when we both went separate ways)
Aur ek aj ka waqt h.. Jab uske hone ya na hone se koi fark hi padta (And today there is a time when I do not care if he exists or not)
Aur ek aj ka waqt hai. Jab dil mein uske liye ek bhi jagh nahi hai (And today there is a time when there is no place for him in my heart)
Aur ek aj ka waqt hai.. Jab hum phir se ajnabi ho chuke hain (And today there is a time when we both have again become strangers to each other)

-Nainika Sahu (Poet)

Sad Miss You Love Poem-Teri Yaadein

तेरी यादें (कविता का शीर्षक)
उल्फत है तेरी कि ये बाहें तुझे पुकारती हैं
हर रोज़ तेरी चाहत में ये तन्हाई मुझे डराती है
खुदा करे ये मुहब्बत तुझे भी एक बार मिले
ये दर्द जो मुझे मिला है तुझे हर बार मिले
टूटे तारे की चमक भी नहीं छुपा सकते
ये दर्द जो सीने में है तुम्हें भी नहीं बता सकते
सोचा था कि वफ़ा मिले गी वफ़ा के बदले
लेकिन तूने इस दिल में बेबसी भर दी
काश इन रुखों में प्यास भर आये
तेरे दिल में मेरे लिए मिठास भर आये
वरना जी रहे थे हम खुदा बंदी में
और मर जायेंगे तुझे याद करते करते
-उबैद ग़ज़ली (कवि)

Teri Yaadein (Your Memories)

Ulfat hai teri ki yeh bahein tujhe pukaarti hain, (I am dying to take you in my arms)

Har roz teri chahat mein ye tanhai mujhe darati hai, (My loneliness scares me every day when I lovingly remember you)

Khuda kare ye mohabbat tujhe bhi ek baar mile, (I pray to God that you also fall in love once)

Ye dard jo mujhe mila hai tujhe har baar mile, (The pain I got, you get it every time)

Toote tarey ki chamak bhi nahi chupa sakte, (You cannot hide the brightness of a shooting star(comet))

Ye dard jo seene me hai tumhein bhee nahi bata sakte, (Similarly, I cannot explain the pain in my heart)

Socha tha ki wafa mile gi wafa ke badle, (I had thought you will be faithful to me)

Lekin tune is dil mein bebasi bhardi, (But you disappointed me)

Kaash in rukhon mein pyaas bhar aye, (I wish you long for me)

Tere dil mein mere liye mithaas bhar aye, (You have good feelings for me in your heart)

Warna jee rahe the ham Khuda bandi mein, (Else I am living in the name of God)

Aur mar jayenge tujhe yaad karte karte. (And will die while remembering you)

-Ubaid Ghazali (Poet)

Hindi Love Poem on Relationship-Rishtey Ki Ehmiyat

रिश्ते की एहमियत
जड़ों में ज़ख्म लग जायें
तो शाखें सूख जाती हैं,
मिले हों मन अगर
तो बातें रास आती हैं,
दो लोगों की ज़रूरत को
कोई क्या जान पाया है,
जुदाई एक दूजे की
अहमियत को बताती है ।
भदौरिया निहारिका (रचनाकार )

Meaning with English Translations (for international and non-Hindi readers):

Rishtey Ki Ehmiyat (The Importance of a Relationship)

Jadon mein zakhm lag jayen

If the roots of a tree are injured

to shakhein sookh jati hain,

then its branches become dry,

Mile ho man agar

If the hearts are in a sync

to batein raas aaati hain,

then the talks of each other are appreciated by both,

Do logon ki zarurat ko

The needs of two people (couple)

koi kya jaan paya hai,

who else can understand them,

Judai ek duje ki,

Separation makes a couple aware

ehmiyat ko btati hai.

about the importance of each other (in their life).

Bhadauriya Niharika (Poet)

Painful Love Story-तेरा ही इंतज़ार था

romance-wallpaper-1366x768

आ गयी तू मुझे तेरा ही इंतज़ार था …
तुझे शायद नहीं पता होगा, मैं कितना बेक़रार था

खैर, पता है जब तू यहाँ नहीं थी
तो मेरे साथ क्या हो रहा था
मैं तो आँखें बंद करके सो रहा था
फिर भी लोग कहते हैं की मैं रो रहा था

अब उन नासमझों को कौन समझाए
क़ि वो मैं रो नहीं रहा था
वो तो अंदर का सैलाब बह रहा था
तुझे तो पता होगा कि मैं रोता नहीं
हर आंसू में तस्वीर है तेरी
इसीलिए मैं उनको खोता नहीं

अरे यार तू कुछ बोलती क्यों नहीं
पहले की तरह ये अश्क़ मेरे पोंछती क्यों नहीं

पता है जब तू गयी थी
तो सब बोलते थे
कि जो चले जाते हैं वो कभी लौटते नहीं
पय मुझे यकीं था, की तू आएगी
क्योंकि तू प्यार है मेरा
और जज़्बात कभी मरते नहीं

पर खफा हूँ तेरे उस धोखे से
तूने बिना मांगे जो दिया उस तोहफे से
माना मैंने कहा था
अपना दिल देदे मुझे
इसका ये मतलब नहीं
पगली दिल देके ज़िन्दगी देगी मुझे
जब होश आया डॉक्टर ने बताया सब,
रुक गयी मेरी सब सांसें तब
फिर फैसला किया
मैं भी आरहा हूँ तेरे पास
पर फिर डिल से आई आवाज़ तेरी
पगले हूँ तो मैं तेरे साथ

याद है तुझे
वो रास्ते जो
तुझे बहुत पसंद थे
अक्सर आज भी मैं
वहां से गुज़रा करता हूँ
जो तू मुझे बातें करती
उन रास्तों पर वही आवाज़ें सुना करता हूँ मैं

तू यहाँ नहीं थी
तो तेरे लिए कविता लिखता था
अक्सर कागज़ के पन्ने
हवा में फेकता था
अब तू कहेगी, ऐसा क्यों?
क्या मैं पागल हो गया था?

पर मैं उन पन्नो पर
तेरी ही खुशबु खोजता था
अगर इसे पागलपन कहते हैं,
तो हाँ यार मैं पागल हो गया था

-नितेश गौर (बृजवासी)