Sad Hindi Love Poem- दूसरों की बातों में

  दूसरों की बातों में लोग यूँही खो गए  हमने शुरू किया बताना  तो किस्से गलत हो गये  हमारी तो किसी को जरुरत नहीं  हमपे बात आयी तो सब खत्म  हो गये  उन्होंने तो हमे कभी  याद भी न किया  हमारे पास उनके सारे किस्से जतन हो गये  हम जगाते रहे उनको सोचते सोचते  और […]

Read More

Hindi Love Poem – काँटे क़िस्मत में हो

काँटे क़िस्मत में हो तो बहारें आये कैसे जो नहीं बस में हो उसकी चाहत घटाये कैसे सूरज जो चढ़ता है करते है उसको सब सलाम ढूबते सूरज को भला ख़िदमत हम दिलायें कैसे वो तो नादान है समंद्र को समझते है तालाब कितनी गहराई है साहिल से बताये कैसे दिल की बातें है दिल […]

Read More