Hindi Poem on First Love – बस तेरी याद में


 

दुनिया से में छिपता – छिपाता ,
न जाने कब तुझको चाहने लगा !
न चाहते हुए भी चुपके से तेरे पीछे आने लगा !

तुझे देखे बिना न ही नींद आती , और न ही चैन ,
लगता है , ये दीवाना दिल कहीं खोने लगा ।
याद में तेरी रातों को रोने लगा !

सोचता हूँ ,
क्या था तेरा मेरा रिश्ता ?
जो तुम मुझे याद नहीं करते ,
और हम तुम्हे भुला नहीं पाते !

काश ! तुम मेरे होते , फिर रोज नए सबेरे होते ,
लेकिन ये हो न सका ….

तुम न मेरे हुए , और न ही मेरे दिल के
तुम तो बस मेरी यादों के होकर रह गए !

ये रिश्ता जो है , तेरे मेरे दरमियां ,
इक मुलाकात की ख्वाहिश रखता है !

दिल जलता है , रोता है ,
तेरी याद में ,
बस तेरी याद में !

-रोहित चौरसिया

Duniya se main chhipata-chhipata
Na jane kab tujhko chahne laga
Na chahte hue bhi chupke se tere peeche aane laga

Tujhe dekhe bina na hi neend aati aur na hi chain
Lagta hai ye deewana dil kahi khone laga
Yaad mein teri raaton ko rone laga

Sochta hoon
Kya tha tera mera rishta
Jo tum mujhe yaad nahi krte
Aur hum tumhe bhula nahi pate

Kash tum mere hote,Fir roz naye savere hote
Lekin ye ho na saka

Tum na mere hue na hi mere dil ke
Tum to bas meri yaadon ke ho kar reh gaye

Ye rishta jo hain tere mere darmiyaan
Ek mulakat ki khvahish rakhta hai

Dil jalta hai rota hain
Teri yaad mein
Bas teri yaad mein

-Rohit Chaurasiya

Hindi Love Poem Expressing Love – मेरा दिल


प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
बड़ा समझाया इस दिल ए नादान को
पर ये तो मस्त गगन में उड़ता चला जा रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
चाहता है अब ये दिलबर को अपने सामने हर पल
महसूस करना चाहता है उसकी सांसो को अपनी सांसो में हर पल
इसको भी खुद पर कुछ ज्यादा ही एतबार आ रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
कहता है बस कुछ दिन और। . फिर हम एक हो जायेंगे
जो जो सपने संजोये थे हमने। . सब पूरे वो हो जायेगे
अब तो गौरव को भी रिया का इंतज़ार हो रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है
मिले थे जो कभी अनजान बनकर ,वो अब अपने हो जायेंगे
हर कोई शायद अब हमारे प्यार के साथ होगा
दिल को इस बात पर गुमान आ रहा है
प्यार अब कुछ इस कदर हम पर छा रहा है
मेरा दिल मुझे मेरे महबूब का हाल बता रहा है

-गौरव अग्रवाल

Pyar ab kuch is kadar ham par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Bada samjhaya is dil e nadan ko..
Par ye to mast gagan me udta chala ja raha hai..
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Chahta hai ab ye dilbar ko apne samne har pal
mehsoos karna chahta hai uski sanson ko apni sanson me har pal
Isko bhi khud par kuch jyada hi aitbar aa raha hai
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Kahta hai bas kuch din aur..fir hum ek ho jayenge
Jo jo sapne sanjoye they humne .. sab poore vo ho jayenge
Ab to “Gorav “ko bhi “Riya” ka intezar ho rahahai
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..
Mile they jo kabhi anjan bankar vo ab apne ho jayenge
Har koi shayad ab hamare pyar ke sath hoga..
Dil ko isi baat par guman aa raha hai…
Pyar ab kuch is kadar hum par chaa raha hai…
Mera dil mujhe mere mehboob ka haal bata raha hai..

-Gorav Aggarwall