Hindi Love Poem For Her-लबों की दस्तक


नर्म लबों की जो छुई है दस्तक।
पहलू में कोई गुलजार है।
फिर है मोह्बत उस आशिक़ी से।
शामों को फिर तेरा इंतेजार है।
गिरती है पलकें उठती है पलकें।
दिल ये कैसा बेकरार है।
समुन्दर के न जाने कितने है अर्से।
कितने दिन बीते कितने हम तरसे।
धड़कन को बस तेरा इंतेजार है।
तेरा इंतेजार है।

-गौरव

Naram labon ki jo chhooe hai dastak
Pehloo me koi gulzar hai
Fir hai Mohabbat us ashiqui se
Shamo ko fir tera Intezar hai
Girti hai palke uthti hai palke
Dil ye kaisa bekarar hai
Samandar ke na jane kitne hai arsey
Kitne din beete kitne hum tarse
Dhadkan ko bas tera intezaar hai
Tera intezaar hai

– Gaurav

Hindi Love Poem – दिल दिया दर्द लिया


girl-429380_960_720

दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैने इश्क़ किया

तेरा दीदार किया
हाँ मैंने इश्क़ किया
तुझ पे ऐतबार किया
हाँ मैंने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैंने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैंने इश्क़ किया

तेरे बिन तड़पे ये जिया
हाँ मैंने इश्क़ किया
अब तो मिल जा तू पिया
हाँ मैंने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैने इश्क़ किया
दिल दिया दर्द लिया
हाँ मैने इश्क़ किया

-अनुष्का सूरी

How to read:

Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya

Tera deedar kiya
Haan maine ishq kiya
Tujh pe aitbaar kiya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya

Tere bin tadpe ye jiya
Haan maine ishq kiya
Ab to mil ja tu piya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya
Dil diya dard liya
Haan maine ishq kiya

-Anushka Suri

English translation:
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
I fondly thought about you
Yes I fell in love
I trusted you
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
My heart longs for you
Yes I fell in love
Please come and meet me my beloved
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love
I exchanged my heart for pain
Yes I fell in love

Hindi Love Poem – जब तुम लौट कर आओ


romance-wallpaper-1366x768

हौसला टूट चुका है, अब उम्मीद कहीं जख्मी बेजान मिले शायद,
जब तुम लौट कर आओ तो सब वीरान मिले शायद

वो बरगद का पेड़ जहां दोनों छुपकर मिला करते थे,
वो बाग जहां सब फूल तेरी हंसी से खिला करते थे,
वो खिड़की जहां से छुपकर तुम मुझे अक्सर देखा करती थी,
वो गलियां जो हम दोनों की ऐसी शोख दिली पर मरती थीं,
वो बरगद,वो गलियां, वो बाग बियाबान मिले शायद,
के जब तुम लौट कर आओ

खेत-खलिहान तक तुमको बंजर मिले,
मेरी दुनिया का बर्बाद मंजर मिले,
ख्वाबों के लहू और लाशें मिलें,
और तुम्हारी जफाओं का खंजर मिले,
तबाहियों का ऐसा पुख्ता निशान मिले शायद,
के जब तुम लौट कर आओ

यहां जो हंसता मुस्कुराता मेरा आशियाना था,
जिसके हर ज़र्रे में बस तुम्हारा ठिकाना था,
ये शहर जो मेरे साथ मुस्कुराया करता था,
मेरे साथ तुम्हारे बाजुओं में बिखर जाया करता था,
वहां उजड़ा हुआ शहर, खंडहर सा इक मकान मिले शायद,
के जब तुम लौट कर आओ

तुम आओ तो शायद ना मिलें ये बाग बहारें,
ये शहर मिले ना मिलें मेरे घर की दीवारें,
तुम बहार थी मैं फूल था मैं अब नहीं खिलूं,
के जब तुम लौट कर आओ तो शायद मैं नहीं मिलूं,
मगर कंधे पर अपनी लाश ढोता एक इंसान मिले शायद,
के जब तुम लौट कर आओ

– आनंद सागर पांडेय

Hosla tut chuka hai,ab umid khi jkhmi bejaan mile sayd
Jab tum laut kr aao to to viran mile sayd
Wo bargad ka peid jhan jhan dono chup kr mila krte they
Wo bhag jhan sab fhul teri hansi se khila krte thay
Wo khdki jha se chupkar tum muje aksr dekha krti thi
Wo galiya jo hum dono ki esi shk dili par marti thi
Wo bargad , wo galiyan wo bag biyabaan mile sayd,
Ke jab tum laut kr aao

Khet khliyaan tak tumko bnjar mile
Meri duniya ka barbad banjar mile
Khababon k lahu aur lashe mile
aur tumhari jafao ka khjar mile
Tabahiyon ka esa pukhta nishaan mile sayd
Ke jab tum laut kr aao

Yha jo hasta muskurata mera mera aashiyana tha
Jiske har zre mein bs tumhara thikana tha
Ye shr jo mere sath muskuraya karta tha
Wha ujda hua sher, khandr sa ek makan mile sayd
Ke jab tum laut kar aao

Tum aao to sayd mile ye baag bhare
Ye shar mile na mile mere ghr ki diware
Tum bahr thi me fhul tha mein ab nai khiloon
Ke jab tum laut kr aao to sayd main nai milu
Magar kande par kande par apni lash dhota ek insaan mile sayd
Ke jab tu laut kr aao

-Er Anand Sagar Pandey