Hindi Love Poem on Separation- प्यार की धड़कन


बिछड़ी प्यार की धड़कने
आँखों में नमी दे
बन्द राहों की उलझनें जीने न दे
वो खामोशियाँ भी इश्क़ को ही तलाशे
कुछ अनकही सी ख्वाइशें
दिल तो छुपा दे ये मोहोब्बत
कैसा जो अंग अंग लुटा न दे……

-स्वेता

Bichadi pyaar ki dhadkaney
Aankhon mein nami de
Bandh raahon ki uljhan Jeene na de
Vo khamoshiyaan bhi Ishq ko hi talashe
Kuch ankahi si khwaahishey
Dil ne chupa de Yeh mohobbat
kaisa Jo ang ang luta na de

-Swetha

Hindi Love Poem on Separation-आँखें जो खुली


आँखें जो खुली तो उन्हें अपने करीब पाया ना था
कभी थे रूह में शामिल आज उनका साया ना था
बेपनाह मोहब्बत की जिनसे उम्मीदें लिये बैठे थे
उनसे तन्हाइयों की सौगातें मिलेंगी बताया ना था
एक हम ही कसीदे हुस्न के हर बार पढ़ते रहे पर
उसने तो कभी हाल-ए-दिल सुनाया ना था
वो फिरते रहे दिल में ना जाने कितने राज लिये
हमने तो कभी उनसे जज्बातों को छुपाया ना था
जाने क्यों हम बेवजह मदहोश हुआ करते थे
जाम आँखों से तो कभी उसने पिलाया ना था
मीलों कब्ज़ा कर बना रखा था सपनों का महल पर
उसने वो ख़्वाब कभी आँखों में सजाया ना था
धड़कन ‘मौन’ हुई अब एक आह की आवाज़ है
शिकवा क्या उनसे जिसने कभी अपना बनाया ना था

-अमित मिश्रा

Aankhein jo khuli thi to unhe apne kareeb paya naa tha
Kabhi they ruh mein shamil aaj unka saya naa tha
Bepanaah mohabbat ki jinse umid liye beithe they
Unse tanhai ki saugate milegi btaya naa tha
Ek hum hi kaside husan ke har baar padte rahe par
Unse to kabhi haal ae dil sunaya naa tha
Wo firte rahe dil me naa jane kitne raaz liye
Hamne to kabhi unse jazbaton ko chupaya naa tha
Jane kyon hum bevajah madhosh hua karte they
Jaam aankhon se to kabhi usne pilaya na tha
Milon kabza kar bana rakha tha sapno ka mahal par
Usne wo khwab kabhi aankhon me sajaya na tha
Dhadkan maun hue ab ek aah ki aawaz hai
Shikwa kya unse jisne kabhi apna banaya naa tha

-Amit Mishra

Hindi Love Poem For Her – आँखे तेरी भी नम हो


आँखे तेरी भी नम हो पर मुझसे कम हो
दिल तेरा भी टूटे पर गम जो मिले मुझसे कम हो
तू भूल जाये किसी को पर मैं ना भुला पाऊंगा
जिस शिद्दत से चाहा था तुझको उसी शिद्दत से चाहुँगा
ना पास आऊँगा ना दूर जाऊँगा बस छुप छुप कर तुझे चाहुँगा
मेरी तम्मनाओं के सागर में तू हर रोज़ डुबकी लगाती है
तू तो भीग कर निकलती है मेरी यादों से
पर मैं अकेला तन्हा रह जाता हूँ
जाने क्यूँ ऐसा होता है जो सच्चा हो वो अधूरा रह जाता है
चल हम भी वादा करते है तुझसे
कि हर साँस में तुझे बसा लेंगे
और जब ये सांसो की डोर छूटेगी हम तेरा ही नाम लेंगे
-संदीप कुमार साव

Aankhei teri bhi num ho par mujhse kam ho,
Dil tere bhi tute par gum jo mile mujhse kam ho.
Tu bhul jaye chahe kisi ko par main na bhula paunga.
Jis shiddat se chaha tha tujhko usi shiddat se chahunga,
Na pas aaunga na dur jaunga bas chhup chhup kar tujhe chahunga.
Meri tammanao ke sagar me tu har roz dubki lagati hai,
Tu to bhig kar nikalti hai meri yadon se,
Par mai akela tanha rah jata hu.
jane kyon aisa hota hai jo pyar saccha ho wo adhura rah jata hai.
Chal Hum bhi wada karte hai tujhse,
Ki har sans me tujhe basa lenge,
Aur jab ye sanso ki dor chutegi hum tera hi nam lenge.
-Sandip Kumar Saw

Hindi Love Poem – जीना सीख लिया


हार कर सब कुछ जीने का जज़्बा सीख लिया,
हारना तो मौत से है,मैंने जिंदगी जीना सीख लिया।

कई बाज़ी हारा हूँ, अभी कई बाज़ी जीतूंगा भी,
सहना अब जिंदगी का हर वार सीख लिया।

दुःखों का क्या है आनी-जानी चीज है,
सफर में धूप है तो छाँव ढूंढना सीख लिया।

खो कर रास्ते बार-बार, नई मंज़िल पर निकल लेता हूँ,
पल-दो-पल की ख़ुशी को पूरी जिंदगी बनाना सीख लिया।

खुशियों से ज्यादा तो गम मिल जाते है अक्सर,
वक्त बुरा है या हम ये समझाना सीख लिया।

कवि “राज़” यूँ तो भरी है ज़िंदगी जख्मों से,
भूल कर सब कुछ वक्त को मरहम बनाना सीख लिया।

राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Haar kar sab kuch jine ka jazba sikh liya
Harna to maut se haimene zindgi jeena sikh liya

Kai baji hara hoon abhi kai baji jituga bhi
Sehna ab zindgi ka har var sikh liya

Dukho ka kya hai anjani chiz hai
Safar me dhoop hai to chhav dhundna sikh liya

Kho kar raste bar bar nayi manjil par nikal leta hoon
Pal do pal ki khushi ko puri zindgi bnana sikh liya hai

Khushiyon se jyada to gum mil jatein hai aksr
Vakat bura hai ya hum ye smjhna sikh liya hai

Kavi “raj” yoon to bhri hai zindgi jakhmo se
Bhul kar sab kuch waqt ko marhum bnana sikh liya

~Raj sorkhi”diwana kavi”

Emotional Hindi Love Poem – तेरे मेरे बीच के पल


यह पल धीरे धीरे बीत जायेंगे
कुछ नये पल इसमें जुड़ जाएंगे
कुछ पलों बाद तुम इनको याद करके मुस्कुराओगे
नये खूबसूरत पलों में पुरानी बातें
सोच के हमेशा ही खिल खिलाओगे
सोचेंगे कितने नादान थे हम
जो ऐसे रूठा करते थे
वो बचपन था हमारा जो ज़िद कर लिया करते थे
मनाना तो हमे भी आता था
पर तुम्हारे मनाने का इंतज़ार किया करते थे
वो पल थे हसीन
जब आये तुम मेरे करीब
तेरी मौजूदगी ही सब कुछ है
तू मेरा आसमां तू ही मेरी ज़मीन है
हर मोड़ पे तेरा साथ है
मेरे लिए सारी बातें तेरे बाद है
तेरी आँखे बातें प्यारी लगती है
तेरी सारी आदतें मुझे सबसे न्यारी लगती है
खुश्बू तेरी बहो की हम से ऐसे जुड़ गयी
ना चाहते हुये भी हमारी ज़िन्दगी बन गयी

–कविता परमार

Yeh pal dheere dheere beet jayenge,
Kuch naye pal isme jud jayenge,
Kuch palo bad tum inko yad karke muskuraoge,
Naye khubsurat palo main purani bate,
Soch ke hamesha hi khilkhilaoge,
Sochoge kitne nadan the hum,
Jo aise rutha karte the,
Vo bachpana tha hamara jo zidd kar liya karte the,
Manana to hume bhi aata tha,
Par tumhare manane ka intzar kiya karte the,
Muskurana to hame bhi aata tha,
Par tumhare muskuraht ka intazar kiya krte the,
Vo pal the haseen,
Jab aaye tum mere karib,
Teri mouzudgi hi sab kuch hai,
Tu hi mera aasama tu hi meri zameen hai,
Har mod pe tera sath hai
Mere liye sari bate tere bad hai,
Teri ankahi bate pyari lagti hai,
Teri sari aadte mujhe sabse nyari lagti hai,
khushboo teri baho ki hum se aise jud gayi,
Na chahte huye bhi hamari zindgi ban gyi.

–Kavitha parmar

Hindi Love Poem – मैं सुबह छोड़ जाऊंगा


boy-1042683_960_720

मैं सुबह छोड़ जाऊंगा तुम्हारे पास,
तुम शाम मेरी संभाले रखना,

दिनों के साथ गर मैं गुजर भी जाऊ,
तो पलको में मेरी सीरत बसाये रखना,

यादो में लिपटी दोस्ती गर भूल भी जाओ,
पर हो सके तो झगड़ो में छुपी वो मोहब्बत बचाये रखना,

मैं सुबह छोड़ जाऊंगा तुम्हारे पास,
तुम शाम मेरी संभाले रखना….!!!!

– मुसाफिर

Main subh chhod jaunga tumhare paas
Tum sham meri sambhale rakhna

Dino ke sath gar main gujar bhi jaun
To palkon me meri sirat basaye rakhna

yadon me lipti dosti gar bhul bhi jaun
Par ho sakey too jhagdo main chupi wo mohabbat bachaye rakhna

Main subah chhod jaunga tumhare paas
Tum sham meri sambhale rakhna

-Musafir

Hindi Love Poem – गुमनाम चाहतों का सिलसिला


ice_heart-t2

गुमनाम चाहतों का सिलसिला
और कितने दिन चलेगा
गम का सूरज सिर पर से कभी तो ढलेगा
एक सुन्हरे कल का
इन्तजार करता हूँ मैं आज भी तुझसे जी भर के प्यार करता  हूँ
तुम साँसों की महक में
यूँ ओझल हो जाती हो मैं और ज्यादा साँस लेने की
कोशिश करता हूँ ,मैं करता हूँ प्यार तुझसे बोहोत मेरी जान
मगर तेरे जवाबो की चादर से डरता हूँ
हैं मेरी जान तू ज़िन्दगी है मेरी
तू है मेरी चाहत तू बंदगी है मेरी
कभी कभी करता हूँ कोशिशें नाकाम तुझसे दूर होने होने की
फिर बाद में सोचता हूँ तेरी जुदाई से डरता हूँ
आज भी तुझसे याद करके आँखों में आँसू भरता हूँ
आज भी मैं तुझसे दिलो जान से मरता हूँ
मगर मेरी जान हमने कभी कहा नहीं

-गणेश मघर

 

Gumnam chahato ka silsila
Aur kitne din chalega
Gum ka suraj sarpar se
Kabhi to dhalega
Ek sunhare kal ka
Intzar karta hun main aaj bhi
Tujhse ji bhar ke pyar karta hun
Tum sanso ki mahak me
You ojhal ho jati ho main aur jyada sans lene ki
Koshish karta hun
Main karta hun pyar tujhase bohot meri jaan
Magar tere jawabo ki chadar se darta hun
Tu hai meri jan tu zindagi hai meri
Tu hai meri chahat tu bandagi hai meri
Kabhi kabhi karta hun
Koshishe nakamyab tujhase dur hone ki
Fir bad me sochata hun
Aur teri judae se darta hun
Aaj bhi tujhe yaad karke aankho me aansu bharta hun
Aaj bhi mai tujhape dilo jan se marta hun
Magar meri jaan humne kabhi kaha nahi

-Ganesh Magar