Hindi Love Poem on Separation- प्यार की धड़कन

बिछड़ी प्यार की धड़कने
आँखों में नमी दे
बन्द राहों की उलझनें जीने न दे
वो खामोशियाँ भी इश्क़ को ही तलाशे
कुछ अनकही सी ख्वाइशें
दिल तो छुपा दे ये मोहोब्बत
कैसा जो अंग अंग लुटा न दे……

-स्वेता

Bichadi pyaar ki dhadkaney
Aankhon mein nami de
Bandh raahon ki uljhan Jeene na de
Vo khamoshiyaan bhi Ishq ko hi talashe
Kuch ankahi si khwaahishey
Dil ne chupa de Yeh mohobbat
kaisa Jo ang ang luta na de

-Swetha

Hindi Love Poem on Separation-आँखें जो खुली

आँखें जो खुली तो उन्हें अपने करीब पाया ना था
कभी थे रूह में शामिल आज उनका साया ना था
बेपनाह मोहब्बत की जिनसे उम्मीदें लिये बैठे थे
उनसे तन्हाइयों की सौगातें मिलेंगी बताया ना था
एक हम ही कसीदे हुस्न के हर बार पढ़ते रहे पर
उसने तो कभी हाल-ए-दिल सुनाया ना था
वो फिरते रहे दिल में ना जाने कितने राज लिये
हमने तो कभी उनसे जज्बातों को छुपाया ना था
जाने क्यों हम बेवजह मदहोश हुआ करते थे
जाम आँखों से तो कभी उसने पिलाया ना था
मीलों कब्ज़ा कर बना रखा था सपनों का महल पर
उसने वो ख़्वाब कभी आँखों में सजाया ना था
धड़कन ‘मौन’ हुई अब एक आह की आवाज़ है
शिकवा क्या उनसे जिसने कभी अपना बनाया ना था

-अमित मिश्रा

Aankhein jo khuli thi to unhe apne kareeb paya naa tha
Kabhi they ruh mein shamil aaj unka saya naa tha
Bepanaah mohabbat ki jinse umid liye beithe they
Unse tanhai ki saugate milegi btaya naa tha
Ek hum hi kaside husan ke har baar padte rahe par
Unse to kabhi haal ae dil sunaya naa tha
Wo firte rahe dil me naa jane kitne raaz liye
Hamne to kabhi unse jazbaton ko chupaya naa tha
Jane kyon hum bevajah madhosh hua karte they
Jaam aankhon se to kabhi usne pilaya na tha
Milon kabza kar bana rakha tha sapno ka mahal par
Usne wo khwab kabhi aankhon me sajaya na tha
Dhadkan maun hue ab ek aah ki aawaz hai
Shikwa kya unse jisne kabhi apna banaya naa tha

-Amit Mishra

Hindi Love Poem on Pain-मैं तन्हा हूँ

मैं तन्हा हूँ मुझे तन्हा ही रहने दो
देखकर मेरे बहते आंसू
तुम अपने लहू न बहने दो
मैं आपका दीवाना हूँ
मुझे बस अपना पागल रहने दो
मिट गया जो सवेरा मेरा
अब कैसे खोजूं घर मैं तेरा
मुझे रोशनी से नफरत सी है
ए मेरे दोस्त तुम मुझे अब
चांदनी के काजल में रहने दो
वो किस्से क्या जो मुझे रुलाते रहें
वो सपने क्या जो मुझे जलाते रहें
अब मैं बेफिक्र सा हो गया हूँ
आप मुझे आबारा ही रहने दो
तेरी गलियों को भूल सा गया हूँ
मैं वो तेरी बातों को खो सा गया हूँ
मैं अब तुम भी मुस्कुराओ
जी भर के और मुझे भी
ज़िन्दगी बात करने दो।।

-अभी राजा फर्रुखाबादी

Main tanha hoon muje tanha hi rahne do
Dekhkar mere bahte aansu
Tum apna lahu na bahne do
Main aapka diwana hoon
Mujhe bas apna pagal rahne do
Mit gya jo swera mera
Ab kese khoju ghar main tera
Muje roshni se nafrat si hai
Aei mere dost mum mujhe
Chandani ke kajal mein rahne do
Wo kisse kya jo muje rulate rahe
Wo sapne kya jo muje jalate rahe
Ab main befikar sa ho gya hoon
Aap mujhe aawara hi rhne do
Teri galiyon ko bhul sa gya hoon
Main wo teri baaton ko kho sa gya hoon
Main ab tum bhi muskurao
Ji bhar ke aur mujhe bhi
Zingadi baat karne do

-Abhi Raja Farukhabadi