Hindi Love Poem For Her- चलते रहने दो

दीदार-ऐ-नजर ना सही सपनों में आते रहिये
मुलाकातों का सिलसिला यूँ ही चलते रहने दो
लब खामोश अगर तो क्या आँखों से बताते रहिये
इस दिल को अपनी बेकरारी यूँ ही कहते रहने दो
हवा आहिस्ता बहे तो क्या इन जुल्फों को उड़ाते रहिये
इन केशों को हंसी चेहरे पे यूँ ही बिखरते रहने दो
लाख गम हो सीने में मगर फिर भी मुस्कुराते रहिये
इन हंसी के फुहारों को यूँ ही निकलते रहने दो जल्द होगी
मुलाक़ात उनसे खुद को समझाते रहिये
तुम ‘मौन’ सही पर अरमानों को यूँ ही मचलते रहने दो

-अमित मिश्रा

Deedar a nazar na sahi sapno me aate rahiye
Mulakaton ka silsila yoon hi chalte rahne do
Lab khamosh agar to kya aankhon se btate rahiye
Es dil ko apni bekarari yoon hi kahte rahne do
Hawa aahista bahe to kya en Zulfon ko uadate rahiye
En julfon ko hassi chehre pe yoon hi bikhrte rahne do
Lakh gam ho sine me magar fir bhi muskurate rahiye
En hasi k fuharon ko yoon hi nikle rhe do
Jaldi hogi mulakaat unse khud ko samjhate rahiye
Tum maun sahi par armanon ko yoon hi machalte rhne do

-Amit Mishra

Miss You Love Poem-याद जब भी उसकी आती है

याद जब भी उसकी आती है रातों की नींद उड़ ही जाती हैं
मेरे दिल का हाल ना पूछो प्यारे आशिकी ऐसे ही होती है
तेरे खोने का गम है मुझको तेरी यादें बहुत सताती हैं
याद जब भी उसकी आती है तूने धोखा दिया
वह बेवफा तेरी यादें मुझे रुलाती हैं तेरे इश्क में पागल था
मैं तेरी यादें मुझे तड़पाती हैं याद जब भी उसकी याद आती है
तू तो कहती थी की उम्र भर में साथ हूं फिर यह कैसी जुदाई है
धोखा दिया तूने हमको क्या यही आशिकी कहलाती है
याद जब भी उसकी याद आती है रातों की नींद उड़ ही जाती ।

– चंद्रभान सिंह

Yaad jab bhi uski aati hai to raaton ki neend ud jati hai
Mere dil ka haal na phucho pyare aashiqi ese hi hoti hai
Tere khone ka gam hai mujhko teri yaad bhut satati hai
Yaad jab bhi uski aati hai tune dokha diya
Ve bewafa teri yaadein muje rulati hai tere ishq me pagal tha
Main teri yaadein muje tadpati hai yaad jab bhi uski yaad aati hai
Tu to kahti thi ki umar bhar main sath hoon fir ye kaisi judai hai
Dokha diya tune hamko kya yahi ashiqi kehlati hai
Yaad jab bh uski yaad aati hai raaton ki neend ud jati hai

Chanderbhan Singh

Hindi Love Poem for Friendship – बचपन

वो बचपन अच्छा था
ये जवानी हार गई स्कूल के दिन अच्छे थे
ये कॉलेज की इंजीनियरिंग मार गई
वो मोज मस्ती तो स्कूल की थी
जहाँ पहली से ना छोड़ा दसवीं तक का साथ
वो स्कूल नहीं परिवार था
जहां सब एक दूसरे के लिए मरते थे
बिछडने का ना ग़म कोई और खुशी के पल साथ जिया करते थे
टिफिन कोई लाता था और खा कोई जाता था
पर भूखा कोई ना जाता था
फिर युँ निकले दिन और रातें
फिर शरुआत कॉलेज कि हुई
नऐ दोस्त नया परिवार फिर बनाने जा रहा था
अपने दिल को फिर से बहला रहा हूँ
वो मोज मस्ती शायद यहाँ भी हो पर
यहाँ ना कोई प्यार ना कोई परिवार
मतलब से मतलब रखता है
यहाँ हर एक इंसान दुनिया मानो मतलबी सी है
इसका एहसास कॉलेज मे आकर पता चला
फिर सोचा इससे अचछा तो स्कूल था
वो छुट्टी की घंटी सुनते ही वो भाग के कमरे से बाहर आना
फिर हँसते हँसते दोस्तों से मिल जाना
काश वो दोस्त आज भी मिल जाते
दिल में फिर से बचपन के फूल खिल जाते… !!!

-रोहित

Wo bachapan achha tha
Ye jawaani haar gai School k din ache the
Ye college ki engineering mar gai
Wo moj masti to school ki thi
Jaha pheli(1st) se na chhoda dasvi(10th) tk sath tha
Wo school ni pariwar tha
Jaha sb ek dusre k liye marte the
Bichadne ka na gam koi Or Khushi k pal sath jiya krte the
Tiffin koi lata tha or kha koi jata tha
Pr bhuka koi na jata tha
Phir uh nikle din or nikli raate
Fir shurat college ki hui
Naye dost naya pariwar dubara bnane ja rha hu
Apne dil ko fir se behla rha hu
Wo moj masti shyd
yaha bhi ho Pr yaha Na koi pyar na koi parwar
Mtlb se mtlb rkhta ha
yaha hr ek insaan Duniya mano matlbi si ha
Is ka ehsaas college me aakr pta chal
Fir socha ise acha to school tha
wo Chhutti ki ghanti sunte hi wo bhag ke kamre se bahar aana
Fir hanste hanste doston se mil jaana
Kaash woh dost aaj bhi mil jaate
Dil mein fir se bachpan ke phool khil jaaye..!!

– Rohit

Hindi Love Poem – तक़दीर का खेल

काली पन्नों में लिखें तकदीरें
बने रिश्तों की गवाही
जनम जनम के कस्मे वादे
बने टूटे दिल की परचाई
बादलों की मेरी ये
महल में छा गयी
तन्हाई हमारी हर वो
याद में जान है समायी
चहरे पे मुस्कान लिए
पीछे आँसू है छिपाई

~स्वेता

Kaali pannom me likhe takdeere
Bane rishton ki gavahi
Janam janam ke kasmevadey
Bane tute dil ki parchayi
Baaalon ki meri ye
Mehal me cha gayi
Tanhayi hamari har vo
Yaad me jaan hi samayi
Chehre pe muskan liye
Peeche aansu hi chipayi

~ Swetha

Miss You Love Poem- तेरी याद आये

नग़मे इश्क़ के कोई गाये तो तेरी याद आये
जिक्र मोहब्बत का जो आये तो तेरी याद आये

यूँ तो हर पेड़ पे डालें हज़ारों है निकली
टूट के कोई पत्ता जो गिर जाये तो तेरी याद आये

कितने फूलों से गुलशन है ये बगिया मेरी
भंवरा इनपे जो कोई मंडराये तो तेरी याद आये

चन्दन सी महक रहे इस बहती पुरवाई में
झोंका हवा का मुझसे टकराये तो तेरी याद आये

शीतल सी धारा बहे अपनी ही मस्ती में यहाँ
मोड़ पे बल खाये जो ये नदिया तो तेरी याद आये

शांत जो ये है सागर कितनी गहराई लिये
शोर करती लहरें जो गोते लगाये तो तेरी याद आये

सुबह का सूरज जो निकला है रौशनी लिये
ये किरणें हर ओर बिखर जाये तो तेरी याद आये

‘मौन’ बैठा है ये चाँद दामन में सितारे लिये
टूटता कोई तारा जो दिख जाये तो तेरी याद आये

-अमित मिश्रा

Nagme ishq mein koi gaye to teri yaad aaye
Zikr mohabbat ka aaye to teri yaad aaye

Yoon to har ped par dalein hazaro hai nikali
Toot ke koi patta jo gir jaye to teri yaad aaye

Kitne phulon se gulshan hai ye bagiya meri
Bhanvra inpe jo koi mandraye to teri yaad aaye

Chandan si mehek rahi is bahti purvai mein
Jhonka hawa ka mujhse takraye to teri yaad aaye

Sheetal si dhara bahey apni hi masti mein yahan
Mod pe balkhaye jo ye nadiya to teri yaad aaye

Shant jo hai ye sagar kitni gehrai liye
Shor karti lehre jo gotey lagaye to teri yaad aaye

Subah ka suraj jo nikla hai roshni liye
Ye kirne har or bikhar jaye to teri yaad aaye

Maun baitha hai ye chaand daman mein sitare liye
Toot-ta koi tara jo dikh jaye to teri yaad aaye

-Amit Mishra

Hindi Love Poem on Pain – दर्द अपने दिल का

ढलती

दर्द अपने दिल का हमने
एक अरसे बाद खोला है
बस बात ये अलग है
की दर्द लबो से नहीं अल्फाज़ो से बोला है
तुम जान ही नहीं सके हमे
हम किस कदर तुम पे मरते थे
भुला था वो राज़ मैं
बड़ी मुश्किल से आज हमने दिल को टटोला है
याद में तेरी यारा
आज भी आँख रोती है
हर आँसू मेरा एक शोला है
-गणेश मघर

 

Dard apne dil ka humne
Ek arse ke bad khola hai
Bas bat ye alag hai
Ke dard labon se nahi alfazo se bola hai
Tum jan hi nahi sake hume
Hum kis kadar tum pe marte the
Bhula tha wo raz main
Badi mushqil aaj humne dil ko tatola hai
Yaad me teri yaraa
Aaj bhi aankh roti hai
Har aasu mera ek shola hai

-Ganesh Magar

Hindi Poem for Her – इंतज़ार

young-people-412041_960_720

तेरी यादों का मारा हूँ
कभी पागल कभी आवारा हूँ
कभी तेरे हूँ कभी खयालो में ही तुझ संग जी हूँ
कभी नींद में ही बेचैन हो जाता हूँ
तुझे सोचते रहना , तुझे चाहते रहना
बस एक यही काम मुझे रहना
तू मेरी क़िस्मत में है नहीं जाना
पर दिल ने ये आज तक माना
मैं तेरा इंतज़ार करूँगा
इस जन्म में क्या हर जन्म में
तुझपे यी जान निसार करूँगा

-इशान चौधरी

Teri yadion ka mara hu
Kbhi pagal kbhi awara hu
Kbhi tere khyalo mein kho jata hu
Kbhi khyalo mein hi tujh sang ji leta hu
Kbhi nind mein hi bechain ho jata hu
Tujhe sochte rhna,tujhe chahte rhna
Bas ek yhi kaam ab mujhe h krte rhna
Tu meri kismat mein hai hi ni jana
Par dil ne ye aaj tak na mana
Main tera intezar krunga
Is janm main kya har janam
Main tujhpe ye jaan nisar krunga

-Ishan choudhary

Waiting for love Hindi Poem – हमसफ़र का इंतेजार

woman-872815_960_720

दिल को इंतेजार है उस हमसफ़र का जो आने वाला है,
जो मेरे ख्वाबों की दुनिया का राजकुमार बनें वाला है,
जिस के आने की आहट ही दिल को बेताब कर जाती है,
नजरें खुद-बा-खुद झुक जाती हैं,
पलकें उठाऊँ तो आइना भी ठिठोलिया किया करता है,
पूछता है किसने बढ़ाई है ये गालोँ की रंगत,
किसने जगाई है ये इश्क़ की चाहत,
कितना हँसा करता है,
अब कैसी है बेताबी आईने को बताऊँ कैसे,
किस कदर बह रहा है
हसरतों का तूफ़ान ये जताऊं कैसे,
कैसे कहूँ की दिल करता है
आँखों में काजल सजाऊँ,
होंटों पे शबनमी इश्क़ की लाली लगाऊँ,
सीने से लगाके उसको बस उसके प्यार में खो जाऊँ,
अब कैसे कहूँ किस कदर दिल बेकरार है,
दिल को सायद किसी हमसफ़र का इंतेजार है।

-गौरव

Dil ko intezaar hai us humsafar ka jo aane wala hai
Jo mere khbabo ki duniya ka rajkumar bne wala hai
Jiske aane ki aahat dil ko betab kr jati hai
Nazre khud wa khud jhuk jati hai
Palke uthau to aaena bhi thitholiya kiya krta hai
Phuchta hai kisne bnai hai ye galon ki rangat
Kisne jgai hai ye ishq ki chahat
Kitnna hsa krta hai
Ab kesi hai betabi aaene ko bulaun kese
Kis kadar beh rha hai
Hasraton ka tufaan yei jataun kese?
Kese khun dil krta hai
Aankhon main kajal sajaun
Hothon pe shbnami ishq ki lali lgaun
Sine se lga k usko
Bas uske pyar main kho jau
Ab kese khun kis kadar dil bekrar hai
Dil ko sayd kisi humsafar ka intzar hai

-Gaurav

Miss You Love Poem – हुआ मुझे प्यार

waita

तेरा दीदार
तेरा दीदार
हाय इंतज़ार
तौबा इंतज़ार
नहीं होता यार
हुआ मुझे प्यार
हुआ मुझे प्यार
मेरे दिलदार
मेरे दिलदार
आ भी जा यार
आ भी जा यार
हुआ मुझे प्यार
हुआ मुझे प्यार

-अनुष्का सूरी

Tera deedar
Tera deedar
Haye intzar
Tauba intzar
Nahi hota yaar..
Hua mujhe pyar..
Hua mujhe pyar..
Mere dildar
Mere dildar
Aa bhi ja yaar
Aa bhi ja yaar
Hua mujhe pyar..
Hua mujhe pyar..
-Anushka Suri