Hindi Love Poem for Him – तू जो कह दे

digital-art-398342_960_720

तू जो कह दे तो खुदा से भी लड़ जाये हम
तेरी ख़ुशी के लिये मरना पड़े ,मर जाये हम
तेरी बातें है मिशरी जैसी तू बता दिल कैसे न लगाये हम
तेरी चाहत में कशिश कुछ ऐसी बिन कहे खींचते ही आये हम
तू जो कह दे मुझसे अब बिन कहे अजनबी बन जाये हम
तू जो कह दे तो खुदा से भी लड़ जाये हम
तेरी ख़ुशी के लिए मरना पड़े मर जायेगे हम
तुझको पाना है एक गुज़ारिश अपनी, दिल को कैसे समझायें हम
तुझको खोना था किस्मत अपनी ,रोक भी तुझको ना पाये हम
तू जो मिल जाये यूँ ही कभी सच कहे ख़ुशी से मर जाये हम
तू जो कह दे तो खुदा से भी लड़ जाये हम
तेरी ख़ुशी के लिये मरना पड़े ,मर जायें हम

– अनुष्का सूरी

Tu jo keh de to khuda se bhi, lad jaye hum
Teri khushi ke liye marna pade, mar jaye hum
Teri batein hain mishri jaisi, tu bata dil kaise na lagaye hum
Teri chahat mein kashish kuch aisi, bin kahe khichte hi aye hum
Tu jo keh de na milo mujhse ab, bin kahe ajnabi ban jaye hum
Tu jo keh de to khuda se bhi, lad jaye hum
Teri khushi ke liye marna pade, mar jaye hum
Tujhko pana hai ek guzarish apni, dil ko kaise samjhaye hum
Tujhko khona tha kismat apni, rok bhi tujhko na paye hum
Tu jo mil jaye yu hi kabhi, sach kahein khushi se mar jaye hum
Tu jo keh de to khuda se bhi, lad jaye hum
Teri khushi ke liye marna pade, mar jaye hum

– Anushka Suri

Hindi Love Shayari for Boyfriend – दिवानी

girl1d 

दिवानी दिवानी
मैं हूँ दिवानी
अनजानी अनजानी
इश्क़ से अनजानी
मनमानी मनमानी
दिल करें मनमानी

जब भी तुझे देखूँ
सूझे नादानी
जब भी तुझे चाहूँ
आये प्यार दिलजानी

तू ही मेरा रब है
तू ही मेरी कुर्बानी
तू ही मेरी पुस्तक
तू ही मेरी कहानी

दिवानी दिवानी
मैं हूँ दिवानी

– अनुष्का सूरी 

Deewani deewani
Main hui deewani
Anjani anjani
Ishq se anjaani
Manmaani manmaani
Dil kare manmaani

Jab bhi tujhe dekhu
Sujhe nadaani
Jab bhi tujhe chahu
Aye pyar diljaani

Tu hi mera rab hai
Tu meri kurbani
Tu hi meri pustak
Tu hi meri kahaani

Deewani deewani
Main hui deewani

-Anushka Suri

Fire of Love-इश्क़ की अगन

ये इश्क़ की अगन लगे तो मोरा तन मन ही जल जाये,love fire
जो तेरी लगन लगे तो मेरी सुधबुध ही खो जाये,
वो देश गया था पराए जो मुझको दिल से भुलाये,
फिर यादों ने जब जकडा वो दिल से मुझको बुलाये,
ये इश्क़ की अगन लगे तो मोरा तन मन ही जल जाये,
सांझ लगी कांटों सी, हवा भी दर्द को लाये,
जब बातें करती हैं रातें, सपनों में तू ही आये,
आँखों में आंसु रहते हैं जब नज़रों में तू छाये,
ये इश्क़ की अगन लगे तो मोरा तन मन ही जल जाये,
इस दिल का कतरा कतरा कहता तेरा पयार है मुझको पाना,
ना पाऊँ तुझे तो मर जाऊँ सांसो को अब ना रहना,
बिन तेरे क्या है जीना, जीना मुझको ना जीना,
ये इश्क़ की अगन लगे तो मोरा तन मन ही जल जाये,
जो तेरी लगन लगे तो मेरी सुधबुध ही खो जाये|
-गौरव