Romantic Poem for Her-Jaane Bhi Do Yaaro

जाने भी दो यारों (कविता का शीर्षक)
जाने भी दो यारों
जाने भी दो यारों
कब तक निगाहों में उनके बनते फिरोगे तुम गाफ़िल
कल भी तेरे गुनाहों की चर्चा थी महफ़िल महफ़िल
इस शोख मुहब्बत से तौबा क्यों न कर लो यारों
जाने भी दो यारों
अटकी पड़ी हैं सांसें बंद घड़ी की सूइयों सी
मिलन की आशाएं दुबकी पड़ी छुइमुइ सी
नयनों में चाहत की इतनी सदा क्यों हो यारों
जाने भी दो यारों
तेरे ही नाम लिखे हैं आसमान के चांद सितारे
तेरी ही छटाओं से रौशन हैं गली चौबारे
अपना तो क्या लगा है सारे रंग हैं तुम्हारे
यारों जाने भी दो यारों
सौरभ कुमार सिंह (कवि)

Jaane Bhi Do Yaaro (Title of the Poem)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Kab tak nigaho mein unke bante firoge tum gafil (Until when will you keep submitting yourself to her Kab tak nigaho mein unke bante firoge tum gafil (Until when will you keep submitting yourself to her through eyes)
Kal bhi tere gunaho ki charcha thi mehfil mehfil (Your sins were the hot topic of discussion in every formal gathering yesterday too)
Is shokh muhabbat se tauba kyo na karlo yaaro (Why not quit falling in love dear friends?)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Atki padi hain sansein band ghadi ki suiyon si (My breath is stuck like the needles of the clock)
Milan ki ashayein dubki padi chuimui si (The hope of meeting my beloved is buried in my heart)
Nayano mein chahat ki itni sada kyo hai yaaro (Why are my eyes longing to see her friends?)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Tere hi naam likhe hain asmaan ke chand sitare (The moon and stars of the sky are in your name)
Teri hi chataon se raushan hain gali chaubare (Your presence makes the streets lively)
Apne to kya laga hai saare rang hain tumhare (I do not have any colour, all colours are yours)
Yaaro jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Saurabh Kumar Singh (Poet)

Hindi Love Poem on Crush-Dekha Jab Use

देखा जब उसे
देखा जब उसे …
दिल में आग लग गयी ….
वक्त थम गया
और धडकन रुक गयी …
पास जाकर देखा
तो चांद सी खिल गयी …
कुर्ता जॅकेट में
अप्सरा सी मिल गयी ….
क़ातिल निगाहों में
चमक उठी थी …
उसकी हर मुस्कुराहट पे
सांसे रुकी थी …
उसकी हर अदाओं पे
हम फिदा हो गए …
जन्नत सी दिख गयी
और हम वफा हो गए ….
-संकेत गुंगे

Hindi Love Poem – Veh Pal

‘वह पल’

सालों का इंतज़ार एक पल बनके खड़ा था

चाह तो थी कुछ और लेकिन समय विपरीत ही चल पड़ा था ।।

पल की नज़दीकी क्षणिक और थी

समय का चक्र भी मानो स्थल सा पड़ा था ।।

आते ही उसके मैं समझ से बाहर खड़ा था

मानो किसी बंजर जमीन को पानी का स्पर्श मिला था ।।

चाहता तो था उसे रोकना पर इस भाग-दौड़ भरी जिंदगी में

खुद को साबित करना अभी बाकी बचा था ।।

-सुमित रघुवंशी

How to read:

Vah Pal

Salo ka intzar ek pal banke khada tha

Chah to thi kuch aur lekin samay vipreet hi chal pada tha

Pal ki nazdeeki shanik aur thi

Samay ka chakra bhi mano sthal sa pada tha

Aate hi uske mai samajh se bahar khada tha

Maano kisi banjar zameen ko paani ka sparsh mila tha

Chahta to tha usey rokna par is bhag-daud bhari zindagi mei

Khud ko sabit karna abhi baaki bacha tha.

-Sumit Raghuvanshi