Romantic Poem for Her-Jaane Bhi Do Yaaro

जाने भी दो यारों (कविता का शीर्षक)
जाने भी दो यारों
जाने भी दो यारों
कब तक निगाहों में उनके बनते फिरोगे तुम गाफ़िल
कल भी तेरे गुनाहों की चर्चा थी महफ़िल महफ़िल
इस शोख मुहब्बत से तौबा क्यों न कर लो यारों
जाने भी दो यारों
अटकी पड़ी हैं सांसें बंद घड़ी की सूइयों सी
मिलन की आशाएं दुबकी पड़ी छुइमुइ सी
नयनों में चाहत की इतनी सदा क्यों हो यारों
जाने भी दो यारों
तेरे ही नाम लिखे हैं आसमान के चांद सितारे
तेरी ही छटाओं से रौशन हैं गली चौबारे
अपना तो क्या लगा है सारे रंग हैं तुम्हारे
यारों जाने भी दो यारों
सौरभ कुमार सिंह (कवि)

Jaane Bhi Do Yaaro (Title of the Poem)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Kab tak nigaho mein unke bante firoge tum gafil (Until when will you keep submitting yourself to her Kab tak nigaho mein unke bante firoge tum gafil (Until when will you keep submitting yourself to her through eyes)
Kal bhi tere gunaho ki charcha thi mehfil mehfil (Your sins were the hot topic of discussion in every formal gathering yesterday too)
Is shokh muhabbat se tauba kyo na karlo yaaro (Why not quit falling in love dear friends?)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Atki padi hain sansein band ghadi ki suiyon si (My breath is stuck like the needles of the clock)
Milan ki ashayein dubki padi chuimui si (The hope of meeting my beloved is buried in my heart)
Nayano mein chahat ki itni sada kyo hai yaaro (Why are my eyes longing to see her friends?)
Jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Tere hi naam likhe hain asmaan ke chand sitare (The moon and stars of the sky are in your name)
Teri hi chataon se raushan hain gali chaubare (Your presence makes the streets lively)
Apne to kya laga hai saare rang hain tumhare (I do not have any colour, all colours are yours)
Yaaro jaane Bhi Do Yaaro (Dear friends, let it be)
Saurabh Kumar Singh (Poet)

Hindi Love Poem For Her-तुम जो संग बने रहो

हम सारे वादों को निभाएंगे,
जिंदगी को सफल बनाएंगे,
तुम जो संग बने रहो,
तुम वादा करके मुकर ना जाना,
मेरे दर्द प्रार्थनाओं को खोरी-कोटी ना सुनाना,
फिर भी तुमसे किया वादा निभाउंगा,
तुम जो संग बने रहो।
तुम्हारे कारण हर चाहत से इज़हार है मेरा,
तुम्हारे कारण हर जीत से प्यार है मेरा,
मेरा सीरत ये बढ़ता रहेगा,
तुम जो संग बने रहो।
कल को कायनात बदल दूंगा,
हर हार को जीत लूंगा,
हर कोशिश वो बार बार करुंगा,
तुम जो संग बने रहो।
तुम्हारे हँसी सपनों के लिए,
तुम्हारे हैसी अपनो के लिए,
हर एक से मतलबी हो जाऊ,
तुम जो संग बने रहो।

-राम

Hum sare waadon ko nibhayenge
Zindagi ko safal banayenge
Tum jo sang bane raho
Tum wada Karke mukar na jana
Mere achche prayas ko khari-koti na sunana
Phir bhi Tumse kiya wada nibhaunga
Tum jo sang bane raho
Tumhare karan har chahat se izhaar hai mera
Tumhare karan har jeet se pyar hai mera
Mera seerat ye badhta rahega
Tum jo sang bane raho
Kal ko kayanat badal dunga
Har haar ko jeet lunga
Har koshish wo bar bar Karunga
Tum jo sang bane raho
Tumhare hasi sapnon ke liye
Tumhare hasi apno ke liye
Har ek se matlabi ho jaun
Tum jo sang bane raho.

-Ram

Hindi Love Poem Expressing Love – चाँद चांदनी को चाहता है जिस कदर

चाँद चांदनी को चाहता है जिस कदर,
उस कदर चाहूँ मैं तुझे।
मेरी एक खुवाईश है कि बस,
या तू मेरी बन जा या अपना बना ले तू मुझे।

मुझे अच्छी तरह याद है वो दिन,
जब हमारा मिलन हुआ ,
ये भी याद है तुम ने उस दिन क्या पहना हुआ था,
हमारी किस बात से वार्तालाप शुरू होई थी.
बस उस दिन के बाद मेरा दिल तेरी याद में सदा डूबे,
या तू मेरी बन जा या अपना बना ले तू मुझे।

तुम मेरे पास होती हूँ तू मुझे लगता है की दुनिया की हर ख़ुशी है मेरे पास.
जब तुम मेरे पास नहीं तो मेरे पास कुछ भी नहीं,
तुम्हारे बिना इस दिल को और कुछ भी नहीं सूझे ,
या तू मेरी बन जा या अपना बना ले तू मुझे।

जब से तुम मुझे मिले हूँ मेरा दिल मेरे बस में नहीं.
ये दिल बस तुम्हें खुश देखना चाहता है,
जब तुम खुश होते हूँ तो मुझे सारी कयानात खुश नज़र आती है,
जब तुम उदास होते हूँ तो मुझे अपने आप से नफरत होती है,
बस मेरा दिल तुझे भगवान की तरह पूजे ,
या तू मेरी बन जा या अपना बना ले तू मुझे।

ना मेरे पास ज़्यादा पैसा ना ज़्यादा दौलत ,ना ही ज़्यादा शौरत,
मैं तुम्हें प्यार करता था, करता हूँ और करता रहूँगा ,
बस तुम हमेशा के लिए मेरी बन जाओ और कुछ ना चाहूँ मैं उस खुदा से,
बोलो भूषण अपनी फैमिली से कब मिलवाये तुझे ।
या तू मेरी बन जा या अपना बना ले तू मुझे।

-भूषण धवन

Chand Chandni ko chahta hai jis kadar,
Us kadar chahu main tujhe ish kadar ,
Meri ek khwayish hai ki bas,
Ya tu meri ban ja ya apna bana le tu mujhe,

Mujhe acchi tarah yaad hai wo din,
Jab hamra Milan hua ,
Ye bhi yaad hai tumne us din kya pehna hua tha,
Hamari kis baat se vartalap shuru huyi thi,
Bas us din ke baad mera dil teri yaad me sada dube,
Ya tu meri ban ja ya apna bana le tu mujhe,

Tum mere pass hoti ho to mujhe lagta hai ki
duniya ki har khushi hai mere pass,
Jab tum mere pass nahi to mere pass kuch bhi nahi,
Tumhare bina ish dil ko aur kuch bhi nahi sujhe,
Ya tu meri ban ja ya apna bana le tu mujhe,

Jab se tum mujhe mile ho mera dil mere bas me nahi,
Ye dil bas tumhien khush dekhna chahta hai,
Jab tum khush hote ho to mujhe sari kayanat khush nazar aati hai,
Jab tum udas hote ho to mujhe apne aap se nafrat hoti hai,
Bas mera dil tujhe bhagwan ki tarah puje,
Ya tu meri ban ja ya apna bana le tu mujhe,

Na mere paas jyada paisa, na jyada daulat aur na hi jyada shauhrat,
Main tumehin pyar karta tha, karta hu aur karta rahunga,
Bas tum hamesha ke liye meri ban jao aur kuch na chahu main us khuda se,
Bolo bhushan apni family se kab milwaye tujhe,

– Bhushan dhawan