Hindi Poem for Her – इंतज़ार

young-people-412041_960_720

तेरी यादों का मारा हूँ
कभी पागल कभी आवारा हूँ
कभी तेरे हूँ कभी खयालो में ही तुझ संग जी हूँ
कभी नींद में ही बेचैन हो जाता हूँ
तुझे सोचते रहना , तुझे चाहते रहना
बस एक यही काम मुझे रहना
तू मेरी क़िस्मत में है नहीं जाना
पर दिल ने ये आज तक माना
मैं तेरा इंतज़ार करूँगा
इस जन्म में क्या हर जन्म में
तुझपे यी जान निसार करूँगा

-इशान चौधरी

Teri yadion ka mara hu
Kbhi pagal kbhi awara hu
Kbhi tere khyalo mein kho jata hu
Kbhi khyalo mein hi tujh sang ji leta hu
Kbhi nind mein hi bechain ho jata hu
Tujhe sochte rhna,tujhe chahte rhna
Bas ek yhi kaam ab mujhe h krte rhna
Tu meri kismat mein hai hi ni jana
Par dil ne ye aaj tak na mana
Main tera intezar krunga
Is janm main kya har janam
Main tujhpe ye jaan nisar krunga

-Ishan choudhary

Hindi Love Poem – दिल के पास कहीं

heart-1137259_960_720

आज रहने दे दिल के पास कहीं,
कल सुबह कहीं कल रात कहीं,
कल कहीं गगन मेरा होगा,
कोई नया चमन तेरा होगा,
फिर न जाने कब हो मिलान कहीं,
आज रहने दे दिल के पास कहीं,
कल मैं तन्हा हो जाऊंगा,
खुद से रुसबा हो जाऊंगा,
क़ोई नया साथ तेरा होगा,
आँसू का साथ मेरा होगा,
फिर न जाने कब हो साथ कहीं,
आज रहने दे दिल के पास कहीं,
कल घना अँधेरा छाएगा,
एक इश्क़ फना हो जायेगा,
कोई रहवर नया तेरा होगा,
मौत हमसफ़र मेरा होगा,
फिर मिलना होगा कभी नहीं,
आज रहने दे दिल के पास कहीं।

-गौरव

Aaj rahne de dil k pas kahi,
Kal subah khi kl rat kahi
Kal kahi gagn mera hoga
Koi nya chamn tera hoga
Fir na jane kab ho milan kahi,
Aaj rhne de dil k pas kahi
Kal main tnha ho jauga
Khud se ruswa ho jauga,
Koi nya sath tera hoga
Aansu ka sath mera hoga ,
Fir na jane kab ho sath kahi,
Aaj rhne de dil k pas kahi
Kal gahra andhera chahyega
Ek ishq fnna ho jayega
Koi rhbar nya tara hoga
Mauth hmsafer mera hoga
Fir milna hoga kabhi nahi
Aaj rhne de dil k pas kahi

-Gaurav

Hindi Love Story – मेरी कहानी

young-people-412041_960_720

आज में अपना सब कुछ गवाए बैठा हूँ ,
जाने कौन-कौन से दर्द सीने से लगाये बैठा हूँ ,
ठोकरे और रुस्वाइयां मिलने के बावजूद भी
कुछ यादो को दिल के आइनों में छुपाये बैठा हूँ ,

अश्कों की बरसात होती ही रहती है इन आँखों में,
फिर भी इनमे कुछ हसीं सपने सजाये बैठा हूँ ,
मिले कांटे ही हमें जिस राह पैर भी चले हम
में ज़माने की हर राह को आजमाए बैठा हूँ ,

निग़ाहें मिलायी थी हमने तुमसे वफा की चाह में ,
वफा के बदले सीने पर अपने जखमो को खाए बैठा हूँ ,
किसी कीमत पर नहीं झुका सिर मेरा कभी किसी के आगे
बस तेरे लिए ही इसे कब से झुकाये बैठा हूँ ,

कही लग न जाये काँटा कोई तेरे पाव में ,
इसलिए रास्तो पर तेरे कलिया फैलाये बैठा हूँ ,
सिर्फ तुम्हारा प्यार पाने के खातिर
में ज़माने के बाकि सारे सुखो को ठुकराये बैठा हूँ ,

कभी तो आकर देख ले एक बार ,
तेरी यादो में , मै खुद को लुटाए बैठा हूँ ,
बस तेरे प्यार का ही कर्ज बाकी है मुझपर
वरना ज़माने के हर कर्ज को चुकाए बैठा हूँ ,

खुद भी न जाने ‘कब उठ जाये अर्थी मेरी’ ,
बस तेरे इन्तेजार मै दिल को सजाये बैठा हूँ ,

-नीरव

Aaj me apna sab kuch gabayein betha hoon
Jane kon kon se dard sine se lgaye betha hoon
Thokre aur ruswai milne k babjud bhi
Kuch yado ko dil k aaeno mein chupaye betha hoon

Ashko ki barsat hoti rhti hai en aankho mein
Fir bhi enme kuch hasi spne sjaye betha hoon
Mile kante hi jis rah pr bhi chle hum
Main jmane ki har rah ko ajmaye betha hoon

Nigaahe milayi thi hmne tumse bfa ki chah mein
Bffa k badle apne sine pr apne jkhmo ko khaye betha hoon
Kisi kimat par nai jhuka seer mera kbhi kisi k aage
Bas tere lye hi ese kab se jhukaye betha hoon

Khi lag na jaye koi kanta tere paw mein
Eslye rasto par tere kliyaan falaye betha hoon
Sirf tumahra pyara pane k khatir
Main jmane k baki sare sukho ko thukare betha hoon

Kabhi to aa kar dekh le ek bar
Teri yado mein main khud ko lutaye betha hoon
Bas tere pyar pyar ka hi karj baki hai mujpar
Vrna jamane kei har karj ko chukaye betha hoon

Khud bhi na jane kb uth jaye arthi meri
Bas tere entejar me dil ko sajaye betha hoon

 –Neerav