Waiting for love Hindi Poem – इंतज़ार

दिल तेरा हर पल इंतज़ार कर रहा है
ये तेरा हाल जानने के लिये हर पल मर रहा है
उसे नहीं पता तू मेरे बारे में सोच रहा होगा कि नहीं
पर हर घड़ी वो तुझे ही याद कर रहा है
तू कहाँ है इस दिल को नहीं पता
तू कब मिलेगा इस दिल को नहीं पता
हर घड़ी ये अपने अंदर तुझे ढूंढ के देख रहा अगर मिल जाये तो क्या पता
तेरा पता इस दिल को है नहीं
पर ढूंढ़ने ऐसे अगर मिल जाये तू कहीं
ढूंढ़ने को कुछ भी ये फिर जान की भी परवाह नहीं
तुझे चाहती हूँ या नहीं , नहीं पता
क्यू सिर्फ तुम ही नहीं पता
मिल जाओ तुम बस दिल चाहता है एक बार गले लग जा भले फिर हो जाऊगी लापता
ना मिलूँगी तुम्हे फिर अगर तुम न चाहो
चली जाऊँगी  ज़िंदगी से तुम्हारी बस तुम दिल से कहो है प्यार तुझे भी मुझे है पता
बोल दो. फिर ये पल. कल हो ना हो

-राम चंदानी

Dil tera har pal intezaar kar raha hai
ye tera haal jaan ne ke liye har pal mar raha hai
use nahi pata tu mere baare mein soch raha hoga ki nahi
par har gadhi vo tujhe hi yaad kar raha hai…
Tu kahan hai is dil ko nahi pata
tu kab milega is dil ko nahi pata
har ghadi ye apne andar tujhe dhun ke dekh raha agar mil jaye to kya pata.
Tera pata is dil ko hai nahi
par dhoonde aise agar mil jaye tu kahi
dhhondne ko kuch bhi karega ye fir jaan ki bhi parwaah nahi
Tujhe chahti hun ya nahi, nahi pata
kyun sirf tum hi nahi pata
mil jao tum bas dil chahta hai ek baar gale lag jaa bhale fir ho jaungi laapata..
Na milungi tumhe fir agar tum na chaho
chale jaungi zindagi se tumhari bas tum dil se kaho hai pyaar tujhe bhi mujhe hai pata
bol do… phir ye pal….. kal ho na ho… 

-Ram Chandani

Hindi Love Poem – जीना सीख लिया

हार कर सब कुछ जीने का जज़्बा सीख लिया,
हारना तो मौत से है,मैंने जिंदगी जीना सीख लिया।

कई बाज़ी हारा हूँ, अभी कई बाज़ी जीतूंगा भी,
सहना अब जिंदगी का हर वार सीख लिया।

दुःखों का क्या है आनी-जानी चीज है,
सफर में धूप है तो छाँव ढूंढना सीख लिया।

खो कर रास्ते बार-बार, नई मंज़िल पर निकल लेता हूँ,
पल-दो-पल की ख़ुशी को पूरी जिंदगी बनाना सीख लिया।

खुशियों से ज्यादा तो गम मिल जाते है अक्सर,
वक्त बुरा है या हम ये समझाना सीख लिया।

कवि “राज़” यूँ तो भरी है ज़िंदगी जख्मों से,
भूल कर सब कुछ वक्त को मरहम बनाना सीख लिया।

राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Haar kar sab kuch jine ka jazba sikh liya
Harna to maut se haimene zindgi jeena sikh liya

Kai baji hara hoon abhi kai baji jituga bhi
Sehna ab zindgi ka har var sikh liya

Dukho ka kya hai anjani chiz hai
Safar me dhoop hai to chhav dhundna sikh liya

Kho kar raste bar bar nayi manjil par nikal leta hoon
Pal do pal ki khushi ko puri zindgi bnana sikh liya hai

Khushiyon se jyada to gum mil jatein hai aksr
Vakat bura hai ya hum ye smjhna sikh liya hai

Kavi “raj” yoon to bhri hai zindgi jakhmo se
Bhul kar sab kuch waqt ko marhum bnana sikh liya

~Raj sorkhi”diwana kavi”

Hindi Love Motivational Poem – प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले

प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
महोब्बत नूर है रूह का ये तू मानले
चल दिखा तेरी ताकत, ला आसमान जमीन पर
है जिगर में जज्बा, भेज कयामत को भी ऊपर
तो सारी कायनात है तेरी ये तू ठान ले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
चिर-कौओ को खिला दे ऐसी लाश नही है तू
जिंदा होकर मर जाए ये एहसास नही है तू
चल उठ खड़ा हो, अंत नहीं है तू
इश्क़ की दुनिया का कोई संत नहीं है तू
तुझे लड़ना ही होगा ये तू ठान ले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
कमजोर नहीं, बलवान है तू
चंद पलों का मेहमान है तू
खुद की जिंदगी का अरमान है तू
हर कयामत का सौदागर है तू
तू बस अपने आप को पहचनाले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले

– अजिंक्य गंगावणे

Pyar Takat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Mahobbat Nur Hai Ruh Ka Ye Tu Manale
Chal Dikha Teri Taqat, La Asaman Jamin Par
Hai Jigar Me Jajba, Bhej Kayamt Ko Bhi Upar
To Sari Kayanat Hai Teri Tu Than Le
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Chir-kauo Ko Khila De, Esi Lash Nai Hai Tu
Jinda Hoke Mar Jaye, Ye Ehasas Nahi Hai Tu
Chal Uth Khada Ho, Ant Nahi Hai Tu
Ishq Ki Duniya Ka Koi Sant Nahi Hai Tu
Tujhe Ladna Hi Hoga Tu Than Le
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Kamjor Nahi, Balawan Hai Tu
Chand Palo Ka Mehaman Hai Tu
Khud Ki Jindagi Ka Araman Hai Tu
Har Kayamat Ka Saudagar Hai Tu
Tu Bas Apne Aap Ko Pehachanale
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale

– Ajinkya Gangawane

Romantic Hindi Poem- ए सनम !

ऐ सनम ! दिल की पनाहों में आजा
प्यार तुमपे फिर बेशुमार आया है ।
है मोहब्बत ही मोहब्बत दिल में भरी,
इतना तुमपे आज प्यार आया है ।

रहने दो छोड़ो बइयाँ मेरी,
मारेंगी ताने सखियाँ मेरी,
पूछेंगी बता कहाँ से ये खुमार आया है?

कहना ज़रा इतना सखियों से अपनी,
है साजन मेरा वो और मैं उसकी सजनी,
खलल न डालो, बा-मुश्किल उनका दीदार आया है ।

कभी तुम रूठो तो पल में मना लूँ,
काजल बनाकर पलकों पे सजा लूँ,
खुद से भी ज्यादा तुमपे प्यार आया है ।

राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Aei sanam! dil ki panaho mein aaja
pyar tumpe fir beshumar aaya hai
Hain mohabbat hi mohabbat dil main bhari
Etna tumpe aaj pyar aaya hain

Rhne do choddo bayiyaan meri
Marogi tane sakhiyanmeri
Phuchegi bta khan se yei khumar aaya hain

Kahna jra etna sakhiyon se apni
Hain sajan mera wo aur main uski sajni
Khalal na dalo, wa mushkil unka didar aaya hai

Kabhi tum rutho to pal mein mna lun
Kajal bnakar palkon pe saja loon
Khud se bhi jyada tum pe pyar aaya hai

~Raj sorkhi”diwana kavi”

Hindi Love Poem – मैं सुबह छोड़ जाऊंगा

boy-1042683_960_720

मैं सुबह छोड़ जाऊंगा तुम्हारे पास,
तुम शाम मेरी संभाले रखना,

दिनों के साथ गर मैं गुजर भी जाऊ,
तो पलको में मेरी सीरत बसाये रखना,

यादो में लिपटी दोस्ती गर भूल भी जाओ,
पर हो सके तो झगड़ो में छुपी वो मोहब्बत बचाये रखना,

मैं सुबह छोड़ जाऊंगा तुम्हारे पास,
तुम शाम मेरी संभाले रखना….!!!!

– मुसाफिर

Main subh chhod jaunga tumhare paas
Tum sham meri sambhale rakhna

Dino ke sath gar main gujar bhi jaun
To palkon me meri sirat basaye rakhna

yadon me lipti dosti gar bhul bhi jaun
Par ho sakey too jhagdo main chupi wo mohabbat bachaye rakhna

Main subah chhod jaunga tumhare paas
Tum sham meri sambhale rakhna

-Musafir

Hindi Love Poem – प्यार कितना है तमसे

woman-872815_960_720

प्यार कितना है तमसे
ये छुपाऊँ कैसे
दर्द इतना है दिल में
आँसू रोक पाऊँ कैसे
तुमको देखा है जब से
खो गई हूँ मैं तब से
तुमको जानने की तलब
दिल से मिटाऊँ कैसे
प्यार कितना है तुमसे
ये छुपाऊँ कैसे

-अनुष्का सूरी

Pyar kitna hai tumse
Ye chupau kaise
Dard itna hai dil mein
Ansu rok pau kaise
Tumko dekha hai jab se
Kho gayi hu main tab se
Tumko jaanne ki talab
Dil se mitau kaise
Pyar kitna hai tumse
Ye chupau kaise

-Anushka Suri

Hindi Love Poem – काँटे क़िस्मत में हो

desktop-1753683_960_720

काँटे क़िस्मत में हो
तो बहारें आये कैसे
जो नहीं बस में हो
उसकी चाहत घटाये कैसे

सूरज जो चढ़ता है
करते है उसको सब सलाम
ढूबते सूरज को भला
ख़िदमत हम दिलायें कैसे

वो तो नादान है
समंद्र को समझते है तालाब
कितनी गहराई है
साहिल से बताये कैसे

दिल की बातें है
दिल वाले समझते है जनाब
जिसका दिल पत्थर का हो
उसको पिघलाये कैसे

काँटे क़िस्मत में हो
तो बहारें आये कैसे
जो नहीं बस में हो
उसकी चाहत घटाये कैसे

-अनुष्का सूरी

Kante kismat mein ho
To baharein aye kaise
Jo nahi bas mein ho
Uski chahat ghataye kais

Suraj jo chadha hai
Karte hai usko sab salaam
Dubte suraj ko bhala
Khidmat ham dilaye kaise 

Wo to nadaan hai
Samandar ko samajhte hai talaab
Kitni gehrayi hai
Sahil se batayei kaise 

Dil ki batein hai
Dil wale samajhte hai janab
Jiska dil pathar ka ho
Usko pighlayein kaise

Kante kismat mein ho
To baharein aye kaise
Jo nahi bas mein ho
Uski chahat ghataye kaise

-Anushka Suri

Hindi Love Poem- हुआ साथ जो तेरा मेरा

LOV

हुआ साथ जो तेरा मेरा
दुनिया में मचा खलबली का अँधेरा
साथ न छोडूंगा मैं तेरा कभी
क्योंकि तू ही तो एक अतीत मेरा
सोये ख्बाबों को तुमने जगा दिया है जो
पत्थर का था कभी, पिघला दिया है जो
सीने में फिर से दिल धड़का दिया है तुमने मेरा
हुआ साथ जो तेरा मेरा
दुनिया में मचा खलबली का अँधेरा
ख्वाइशे सिर्फ तुम हो मेरी
ज़िन्दगी तुम ही तो हो मेरी
ख़ुशी तुम हो मेरी
उदासी तुमसे ही दूर हो मेरी
हर दिन हर दिन हर पल हर लम्हा सिर्फ तुम ही हो मेरा
हुआ साथ जो तेरा मेरा
दुनिया में मचा खलबली का अँधेरा

-नवाज अंसारी 

 

Hua sath jo tera mera…
Duniya me macha khalbali ka andhera.. .
Sath na chhodunga me tera kabhi..
Kyuki tu hi to ek ateet hai mera…
Soye hue khabon ko tumne jaga diya hai jo..
Patthar ka tha kabhi, pighla diya hai jo..
Seene me fir se dil dhadka diya hai tumne mera..
Hua sath jo tera mera…
Duniya me macha khalbali ka andhera…
Khawaishein sirf tum ho meri..
Zindagi tum hi to ho meri..
Khushi tum ho meri..
Udaasi tumse hi door ho meri…
Har din har pal har lamha sirf tum hi ho mera…
Hua sath jo tera mera…
Duniya me macha khalbali ka andhera…

-Navaj Ansari

Hindi Love Poem for Girlfriend – सपनो में

hindipoem1

रोज सपनो में आती रहती हो
मुझमें खुद को जगाती रहती हो
क्या इरादा है बेबी जो यूँ
कुछ कुछ लिखवाती रहती हो

वो सपनो की क्या बातें है
जो जगी जगी सी आजकल सारी रातें है
झूठ मुठ का रूठो ना तो
रात भर प्यार से मनाती रहती हो
रोज सपनो रहती हो

लोग पूछते है क्या लिखता है
किसके लिये लिखता है
रोज रोज ये बेवजह पन्ना क्यों भरता है
मेरे चहरे से सबको खुद से मिलवाती रहती हो
रोज सपनो में आती रहती हो

मैं दिवाना हूँ जो पागल हो जाऊँगा
बिन निंदो क सपनो में खो जाऊँगा
जिस रात न हो इंतज़ार करवाती रहती हो 
रोज सपनो मैं आती रहती हो
मुझमे खुद को जगाती रहती हो

-योगेश जमदागनी

 

Roj Sapno mein aati rehti ho
Mujhme khud ko jagati rehti ho
Kya irada h baby Jo Yu
kuch kuch likhwati rehti ho

Wo sapno ki kya baten hain
Jagi jagi Si ajkal sari raten hain
Jhuth- muth ka ruthoo na  to
Rat bhar pyar se manati rehti ho
Roj sapno mein aati rehti ho

Log puchte hain kya likhta hain
Kiske liye likhta hain
Roj roj ye bewajh panne kyu bharta hain
Mere chehre se sabko khud se milwati rehti ho
Roj sapno mein aati rehti ho

Main deewana Hu Jo pagal Ho jaunga
Bin neendo k sapno me kho jaunga
Jis rat na Ho intejjar krwati rehti ho
Roj sapno mein aati rehti ho
Mujh mein khud ko jagati rehti ho

-Yogesh Jamdagni