Hindi Love Poem for Her- एक लंबे वक्त के बाद


एक लंबे वक्त के बाद भी,
भुला न पाया तुम्हें..
न जाने कौन सा दिन था वो,
जब तुम्हारी आँखों ने डुबोया था मुझे..
हां, वही दिन था तब से ही
कोई रंग नहीं चढ़ता मुझपे,
न ही कोई एहसास भिगोता है अब मुझे..
‘गुड़िया”तुम मिलना कभी किसी,
ढलती शाम के सूरज तले..
वहीं बताऊँगा तुम्हें..
क्या क्या खोया है मैंने,
एक तुम्हें पाने के लिये….

– संस्कार जैन

Ek lambe waqt ke bad bhi
Bhula na paya tumhe na jane kon sa din tha wo
Jab tumhari aankhon ne duboya tha mujhe
Haan wahi din tha tab se hi
Ki rang nahi chadta mujhpe
Na hi koi ehsas bhigota hai ab mujhe
‘Gudiya’ tum milna kabhi kisi
Dhalti sham ke suraj tale
Wahi btauga tumhe
Kya kya khoya hai maine
Ek tumhe pane ke liye

-Sanskar Jain

Hindi Love Poem on Separation-आखिरी मुलाकात


काश दिल की बात दिल में ही रह जाती
तब ये दुनिया तेरे मेरे बीच ना आती
तब ना होती ये दूरियां और ना ही कोई खामोशी
बस तु अनजान होकर भी अनजाना ना होता
तब अगर हो जाती मुलाकात तो
मुस्कुराने का एक बहाना भी होता
ख्यालों में ही सही पर तेरे पास होने का
एहसास तो होता काश तब दिल की बात
दिल में ही रह जाती तब तेरे दूर होने का
कोई गम ना होता और ना होती
कोई आखिरी मुलाकात

-अनन्या

Kash dil ki baat dil me hi rah jati
Tab yeh duniya tere mere bich na aati
Tab na hoti yeh duriya aur na hi koi khamoshi
Bas tu anjan hokar bhi anjana n hota
Tab agar ho jati mulakat to
Muskurane ka ek bhana bhi hota
Khayalo me hi sahi pr tere pas hone ka
Ehsas to hota kash tab dil ki baat
Dil me hi rah jati tab tere dur hone ka
Koi gam na hota aur na hoti
Koi aakhiri mulakat

-Ananya

Hindi Love Poem For Her – तो क्या हो गया


हाँ मचला था कुछ पल को दिल फिर सो गया
आज उससे फिर मिल भी लिये तो क्या हो गया
मोहब्बत की राहों में हर किसी को भटकना है
सामना उनसे अगर हो भी गया तो क्या हो गया
माना की ज़ख्म अभी अभी तो भरा था मेरा
उसके मिलने से हरा हो भी गया तो क्या हो गया
सच है की उसे भुलाने को वो गलियां छोड़ आया
उसने भी इसी शहर घर बनाया तो क्या हो गया
बस अभी तो मुस्कुराना शुरू ही किया था
मेरे फिर इन आँखों में आंसू आया तो क्या हो गया
कुछ मुझे भी अब उजाले रास आने लगे थे ‘मौन’
फिर अंधेरो में बिठाया तो क्या हो गया

-अमित मिश्रा

Haan machala tha kuch pal ko dil fir so gya
Aaj usse fir mil bhi liye to kya ho gya
Mohabbat ki rahon mein har kisi ko bhtkana hai
Samana unse agar ho bhi gya to kya ho gya
Mana ki jkham abhi abhi to bhara tha mera
Uske milne se hara ho bhi gya to kya ho gya
Such hai ki use bhulane ko wo galiyaan chor aaya
Usne bhi esi Shahar me ghar bnaya to kya ho gya
Bs abhi to muskurana shuru hi kiya tha
Mere fir en aankhon me aansu aaya to kya ho gya
Kuch muje bhi ab ujale raas aane lage they ‘maun’
Fir andhere me bithaya to kya ho gya

-Amit Mishra

Hindi Love Poem on Separation -तेरा सहारा है


नहीं होता है एहसास किसी को किसी के दिल के दर्द का
क्यों करता है ग़ुनाह की किसी के दिल को दुखाने का

क्यूँ ये दर्द इतना इतना गहरा है
फिर भी इसमें ना कोई पहरा है

मैंने तो मौत को करीब से देखा है
फिर भी वक़्त मेरे इंतज़ार में ठहरा है

क्यों नहीं समझता है कोई अपना अपनों के दिल के दर्द को
वो अपने ही क्या जो किसी अपने के दिल को दुखा के किसी गैर के पास जाके ठहरा है

नहीं होता है बर्दास्त ये जानकर
कि मेरा अपना हो गया पराया है

क्यों छीन लेता है कोई किसी की खुशियों को
क्या भगवन के घर अँधेरा है

कौन हूँ मैं क्या है मेरी पहचान
क्या इस दर्द का नहीं कोई किनारा है

मेरा तो घर परिवार भी अपना नहीं रहा
अब तो बस एक तेरा ही सहारा है

तुम भी चले गये अगर मुझसे दूर
मैं कैसे कहूँगी की ये रिश्ता हमारा है

कसम है रब की ये जिस्म क्या
ये जान ये दिल तुम्हारा है

-पूनम

Nahi hota hai ehsas kisi ko kisi ke dil ke dard ka,
Kyun karta hai gunah koi kisi ke dil ko dukhane ka,

Kyun ye dard itna gehra hai,
Fir bhi ismein na koi pehra hai.

Maine to maut ko karib se dekha hai,
Fir bhi waqt mere intzar me thehra hai.

Kyun nahi samajhta hai koi apna apnon ke dil ke dard ko,
Wo apne hi kya jo kisi apne ke dil ko dhukha ke kisi gair ke paas jake thehra hai.

Nahi hota hai bardasht ye jaankar
ki ab mera apna ho gaya paraya hai.

Kyun chhin leta hai koi kisi ki khushiyo ko,
Kya Bhagwan ke ghar aandhera hai.

Kaun hun main kya hai meri pehchan,
Kya is dard ka nahi koi kinara hai.

Mera to ghar parivar bhi aapna nahi raha,
Ab to bus ek tera hi sahara hai.

Tum bhi chale gaye agar mujhse dur,
Main kaise kahungi ki ye rishta humara hai.

Kasam hai rab ki ye jism kya
Ye jaan, ye dil tumhara hai

– Punam

Emotional Love Poems – ये प्यार क्यों खास है


ये प्यार क्यों खास है
दो अजनबियों का एहसास है
ये कब कहा कैसे हो जाये न जाने ये केसा राज़ है
प्यार की खुशिया तो एक प्यार करने वाला ही
जाने मुझे जैसे आशिक़ को बर्बाद करने में भी प्यार का ही हाथ है
ये प्यार क्यों खास है में था सीधा साधा
भोला भाला प्यार ने मुझको बर्बाद कर डाला
प्यार चार अक्शर का है ज़िन्दगी भी तो चार की ही है
दो प्यार में गुजारी है रो रो कर दो खुशियों में बितानी है
ज़िन्दगी भी एक रोज़ नई कहानी है
कौन साथ देगा कौन छोड़ जायेगा
ये सब तो वक्त के हाथो की कहानी है..!!!!!

-रोहित

Yei pyar kyu khas hai
Do aajnabiyo ka ehsaas hai
Yei kab kaha kese ho jaye Na jane ye kesa raaj hai
Pyar ki khusiya to ek pyar krne wala he
jane Mujhe jese ashiq ko barbad Karne mein bhi pyar ka he hath hai
Yei pyar kyu khas hai Main tha sidha sadha
Bhola bhala Pyar nei mujhko bharbad kar dala
Pyar char akshar ka hai Zindagi bhi to char ki he hai
Do pyar me gujari hai ro ro kar Do khushiyo me bitani hai
Zindagi bhi ek roz nai kahani hai
Kon sath dega kaun chhod jayega
Yei sab to wakt ke hathon ki kahani hai

– Rohit

Hindi Love Poem – तक़दीर का खेल


काली पन्नों में लिखें तकदीरें
बने रिश्तों की गवाही
जनम जनम के कस्मे वादे
बने टूटे दिल की परचाई
बादलों की मेरी ये
महल में छा गयी
तन्हाई हमारी हर वो
याद में जान है समायी
चहरे पे मुस्कान लिए
पीछे आँसू है छिपाई

~स्वेता

Kaali pannom me likhe takdeere
Bane rishton ki gavahi
Janam janam ke kasmevadey
Bane tute dil ki parchayi
Baaalon ki meri ye
Mehal me cha gayi
Tanhayi hamari har vo
Yaad me jaan hi samayi
Chehre pe muskan liye
Peeche aansu hi chipayi

~ Swetha

Hindi Love Poem For Her-हाल-ए दिल


प्यार तो बहुत पहले से था
तुझसे बस तुझे खोने का डर था
तेरी नाराज़गी से मुझे तेरे दूर जाने का डर था
सोचा तो बहुत था बता दूँ
तुझे हाले दिल अपना पर
तुझसे बिछड़ जाने का डर था
इज़हार तो किया तुझसे
अपनी मोहब्बत का तुझे खुशी देकर,
तेरे गमों को भुलाने का पर तुझे -मुझसे
यूँ छिन जाने का डर था

-नीरज सिंह

Pyar to bahut pehle se tha
Tujhse Bas khone ka dar tha
Teri naarazgi se mujhe Tere door jane ka dar tha
Socha to bahut tha Bata du
Tujhe haal-a-dil apna Par
Tujhse bichhad jane ka dar tha
Izhaar to kiya tujhse
Apni mohabbat ka Tujhe khushi dekar ,
Tere gamon ko bhulane ka Par tujhe-mujhse
Yun chhin jane ka dar tha….

-Neeraj Singh