Hindi Love Poem-प्यार की रात

human-1215160__340.jpg
रात के दरमियां वो प्यार बन के छा गये
नज़रों से छुआ उन्होने दिल में वो समां गये
बढ़ती रही नज़दीकियाँ हमारी,
खुश्बू बदन की छूने लगी
महके वो इस चांदनी रात में रूह में बसने लगे
होठों की तपिश नज़दीकियों से बढ़ने लगी, जिस्म उनके जलने लगे
बढ़ती रही पल पल नज़दीकियाँ इस चांदनी रात में प्यार में खोने लगे
सिमट के एक दूसरे में एक दूसरे के होने लगे.
-गौरव
Raat ke darmiyaan wo pyar ban ke cha gaye
Nazron se chua unhone dil mein wo sama gaye
Badhti rahi nazdikiyan hamari,
khushbu badan ki choone lagi
Mahke wo is chandni raat mein rooh eain basne lage
Hothon ki tapish nazdikiyon se badhne lagi, jism unke jalne lage
badhti rahi pal pal nazdikiyan is chandni raat mein pyar mein khone lage
Simat ke ek doosre mein ek doosre ke hone lage.
-Gaurav