Hindi Love Poem For Her – रात होते ही

 

रात होते ही फलक पे सितारे जगमगाते हैं
वो चुपके से दबे पांव मुझसे मिलने आते हैं
याद रहे बस नाम उनका भूल के जमाने को
वो चुनरी को इस तरह मेरे चेहरे पे गिराते हैं
सौ गम और हज़ार ज़ख़्म हो चाहे
दुनिया के हर दर्द भूल जाये
कुछ इस तरह गुदगुदाते हैं
डूब जाये ये कायनात तो हम नाचीज़ क्या हैं
इतनी मोहब्बत वो दामन में भर के लाते हैं
तिश्नगी कम ना होने पाये चाहत की
मुझमे प्यास बढाकर मेरी फिर वो मय बन जाते हैं
सख़्त हिदायत है हमे खुद पे काबू रखने की
रोक के हमको मगर वो खुद ही बहक जाते हैं
बयां करने को दास्तान-ए-इश्क़ लब्ज़ ना मिलें वो
यूँ हक़ मुझपे जताते हैं कि ‘मौन’ कर जाते हैं

-अमित मिश्रा

Raat hote hi falak pe sitare jagmgate hain
Wo chupke se dabe paaw mujse milne aate hain
Yaad rhe bus naam unka bhul ke jamane ko
Wo chunri ko es tarh mere chehre pe girate hain
So gum aur hzar jkham ho chahe
Duniya k har dard bhul jaye
Kuch es trah gudgudate hain
Dub jaye ye kaynaat to hum nachiz kya hain
Etni mhobbat wo daman mein bhar ke late hain
Tisngi kam na hone paye chahhat ki
Mujme pyas bdakar meri fir wo may ban jate hain
Skhat hidayat hai hme khud pe kabu rkhne ki
Rok k hamko magar wo khud hi bahk jate hain
Byan krne ko dastaan a ishq labz na mile wo
Yoon haq mujpe jatate hai ki moon kar jate hain

-Amit Mishra

One thought on “Hindi Love Poem For Her – रात होते ही

Leave a Reply