Hindi Love Poem for Friendship – बचपन

वो बचपन अच्छा था
ये जवानी हार गई स्कूल के दिन अच्छे थे
ये कॉलेज की इंजीनियरिंग मार गई
वो मोज मस्ती तो स्कूल की थी
जहाँ पहली से ना छोड़ा दसवीं तक का साथ
वो स्कूल नहीं परिवार था
जहां सब एक दूसरे के लिए मरते थे
बिछडने का ना ग़म कोई और खुशी के पल साथ जिया करते थे
टिफिन कोई लाता था और खा कोई जाता था
पर भूखा कोई ना जाता था
फिर युँ निकले दिन और रातें
फिर शरुआत कॉलेज कि हुई
नऐ दोस्त नया परिवार फिर बनाने जा रहा था
अपने दिल को फिर से बहला रहा हूँ
वो मोज मस्ती शायद यहाँ भी हो पर
यहाँ ना कोई प्यार ना कोई परिवार
मतलब से मतलब रखता है
यहाँ हर एक इंसान दुनिया मानो मतलबी सी है
इसका एहसास कॉलेज मे आकर पता चला
फिर सोचा इससे अचछा तो स्कूल था
वो छुट्टी की घंटी सुनते ही वो भाग के कमरे से बाहर आना
फिर हँसते हँसते दोस्तों से मिल जाना
काश वो दोस्त आज भी मिल जाते
दिल में फिर से बचपन के फूल खिल जाते… !!!

-रोहित

Wo bachapan achha tha
Ye jawaani haar gai School k din ache the
Ye college ki engineering mar gai
Wo moj masti to school ki thi
Jaha pheli(1st) se na chhoda dasvi(10th) tk sath tha
Wo school ni pariwar tha
Jaha sb ek dusre k liye marte the
Bichadne ka na gam koi Or Khushi k pal sath jiya krte the
Tiffin koi lata tha or kha koi jata tha
Pr bhuka koi na jata tha
Phir uh nikle din or nikli raate
Fir shurat college ki hui
Naye dost naya pariwar dubara bnane ja rha hu
Apne dil ko fir se behla rha hu
Wo moj masti shyd
yaha bhi ho Pr yaha Na koi pyar na koi parwar
Mtlb se mtlb rkhta ha
yaha hr ek insaan Duniya mano matlbi si ha
Is ka ehsaas college me aakr pta chal
Fir socha ise acha to school tha
wo Chhutti ki ghanti sunte hi wo bhag ke kamre se bahar aana
Fir hanste hanste doston se mil jaana
Kaash woh dost aaj bhi mil jaate
Dil mein fir se bachpan ke phool khil jaaye..!!

– Rohit

7 thoughts on “Hindi Love Poem for Friendship – बचपन

  1. Really lovely poems.
    سچ مے بہت خوبصورت نظم ہے
    السلام علیکم و رحمہ اللہ

Leave a Reply to Anonymous Cancel reply