Hindi Love Poem for Him -क्या पता है तुझे


क्या पता है तुझे
कि मेरे जज्बातों का अलफ़ाज़ तू है
मेरे होंठो पर बिखरी मुस्कराहट की आवाज़ तू है
मेरे चेहरे की मासूमियत में छिपी हर राज़ तू है
मेरे नयनों के आशियाने में कैद मेरे सुकून हमराज़ तू है
सुरमयी काजल से सजी खूबसूरत पलकों का नाज़ तू है
बेखबर झूम कर चलने वाले कदमों की बलखाती अंदाज तू है
सोये हुऐ मुहब्बत के मीठी सुरों वाली आगाज़ तू है
अब और क्या बताऊँ कि तू क्या क्या है मेरा?
बस जान ले तू इतना कि मेरे सोलह श्रृंगार की लाज तू है

-संघमित्रा मौर्य

Kya pta hai tujhe?
ki mere jajbaato ka alfaaj tu hai,
mere hontho par bikhari muskurahat ki awaj hai,
mere chahre ki masoomiyat me chhipi har raaj tu hai,
mere nayano ke aashiyaane me kaid mere sukoon ka hamraaj tu hai,
surmayi kajal se saji khoobsoorat palko ki naaj tu hai,
bekhabar jhoom kar chalne wale kadmo ki balkhaati andaaj tu hai,
soye huye mohabbat ke mithi suro wali agaaj tu hai,
ab aur kya btaoo ki tu kya – kya hai mera ??,,
bas jan le tu itna ki mere solah shringaar ki laaj tu hai..

-Sanghmitra Maurya

11 thoughts on “Hindi Love Poem for Him -क्या पता है तुझे

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s