Hindi Love Poem – जीना सीख लिया

हार कर सब कुछ जीने का जज़्बा सीख लिया,
हारना तो मौत से है,मैंने जिंदगी जीना सीख लिया।

कई बाज़ी हारा हूँ, अभी कई बाज़ी जीतूंगा भी,
सहना अब जिंदगी का हर वार सीख लिया।

दुःखों का क्या है आनी-जानी चीज है,
सफर में धूप है तो छाँव ढूंढना सीख लिया।

खो कर रास्ते बार-बार, नई मंज़िल पर निकल लेता हूँ,
पल-दो-पल की ख़ुशी को पूरी जिंदगी बनाना सीख लिया।

खुशियों से ज्यादा तो गम मिल जाते है अक्सर,
वक्त बुरा है या हम ये समझाना सीख लिया।

कवि “राज़” यूँ तो भरी है ज़िंदगी जख्मों से,
भूल कर सब कुछ वक्त को मरहम बनाना सीख लिया।

राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Haar kar sab kuch jine ka jazba sikh liya
Harna to maut se haimene zindgi jeena sikh liya

Kai baji hara hoon abhi kai baji jituga bhi
Sehna ab zindgi ka har var sikh liya

Dukho ka kya hai anjani chiz hai
Safar me dhoop hai to chhav dhundna sikh liya

Kho kar raste bar bar nayi manjil par nikal leta hoon
Pal do pal ki khushi ko puri zindgi bnana sikh liya hai

Khushiyon se jyada to gum mil jatein hai aksr
Vakat bura hai ya hum ye smjhna sikh liya hai

Kavi “raj” yoon to bhri hai zindgi jakhmo se
Bhul kar sab kuch waqt ko marhum bnana sikh liya

~Raj sorkhi”diwana kavi”

Hindi Love Motivational Poem – प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले

प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
महोब्बत नूर है रूह का ये तू मानले
चल दिखा तेरी ताकत, ला आसमान जमीन पर
है जिगर में जज्बा, भेज कयामत को भी ऊपर
तो सारी कायनात है तेरी ये तू ठान ले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
चिर-कौओ को खिला दे ऐसी लाश नही है तू
जिंदा होकर मर जाए ये एहसास नही है तू
चल उठ खड़ा हो, अंत नहीं है तू
इश्क़ की दुनिया का कोई संत नहीं है तू
तुझे लड़ना ही होगा ये तू ठान ले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले
कमजोर नहीं, बलवान है तू
चंद पलों का मेहमान है तू
खुद की जिंदगी का अरमान है तू
हर कयामत का सौदागर है तू
तू बस अपने आप को पहचनाले
प्यार ताकत है खुदा की ये तू जानले

– अजिंक्य गंगावणे

Pyar Takat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Mahobbat Nur Hai Ruh Ka Ye Tu Manale
Chal Dikha Teri Taqat, La Asaman Jamin Par
Hai Jigar Me Jajba, Bhej Kayamt Ko Bhi Upar
To Sari Kayanat Hai Teri Tu Than Le
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Chir-kauo Ko Khila De, Esi Lash Nai Hai Tu
Jinda Hoke Mar Jaye, Ye Ehasas Nahi Hai Tu
Chal Uth Khada Ho, Ant Nahi Hai Tu
Ishq Ki Duniya Ka Koi Sant Nahi Hai Tu
Tujhe Ladna Hi Hoga Tu Than Le
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale
Kamjor Nahi, Balawan Hai Tu
Chand Palo Ka Mehaman Hai Tu
Khud Ki Jindagi Ka Araman Hai Tu
Har Kayamat Ka Saudagar Hai Tu
Tu Bas Apne Aap Ko Pehachanale
Pyar Taqat Hai Khuda Ki Ye Tu Janale

– Ajinkya Gangawane

Romantic Hindi Poem- ए सनम !

ऐ सनम ! दिल की पनाहों में आजा
प्यार तुमपे फिर बेशुमार आया है ।
है मोहब्बत ही मोहब्बत दिल में भरी,
इतना तुमपे आज प्यार आया है ।

रहने दो छोड़ो बइयाँ मेरी,
मारेंगी ताने सखियाँ मेरी,
पूछेंगी बता कहाँ से ये खुमार आया है?

कहना ज़रा इतना सखियों से अपनी,
है साजन मेरा वो और मैं उसकी सजनी,
खलल न डालो, बा-मुश्किल उनका दीदार आया है ।

कभी तुम रूठो तो पल में मना लूँ,
काजल बनाकर पलकों पे सजा लूँ,
खुद से भी ज्यादा तुमपे प्यार आया है ।

राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Aei sanam! dil ki panaho mein aaja
pyar tumpe fir beshumar aaya hai
Hain mohabbat hi mohabbat dil main bhari
Etna tumpe aaj pyar aaya hain

Rhne do choddo bayiyaan meri
Marogi tane sakhiyanmeri
Phuchegi bta khan se yei khumar aaya hain

Kahna jra etna sakhiyon se apni
Hain sajan mera wo aur main uski sajni
Khalal na dalo, wa mushkil unka didar aaya hai

Kabhi tum rutho to pal mein mna lun
Kajal bnakar palkon pe saja loon
Khud se bhi jyada tum pe pyar aaya hai

~Raj sorkhi”diwana kavi”

Hindi Love Poem Expressing Love – जीवन को मेरे तूने महकाया

जीवन को मेरे तूने महकाया है ऐसे,
खुशबू से गुलिस्तां महकता हो जैसे।

हर जन्म रहे साथ बस तेरा,
सागर में पानी रहता हो जैसे।

बांहों में भर कर आगोश में ले लो,
सीप में मोती रमता हो जैसे।

छुपा लो दिन के किसी कोने में,
आँखों में कोई ख्वाब बसता हो जैसे।

तेरी जुदाई का असर ये हो चला अब,
पर कटा पंछी तड़पता हो जैसे।

कवि ‘राज़’ भी है नादान कितना,
दूर होकर भी कोई यूँ मिटाना है ऐसे ?

~राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Jivan ko mere tune mekaya hai ese
Khusbu se gulisthan mehkta hai jese

Har janam rhe sath bus tera
Sagar me pani rehta ho jese

Bahon me bhar kar aagosh mein le lo
Seep me moti ramta ho jese

Chupa lo din k kisi kone mein
Aankhaon me koi khbab basta ho jese

Teri judai ka asar ye ho chla ab
Par kta panchi tadpta ho jese

Kavi raj bhi hai nadan kitna
Dur hokar bhi yun mitana hai ese

~Raj sorkhi”diwana kavi”

Hindi Love Poem on Separation- ये जरुरी तो नहीं

हम जिसे चाहें वो भी हमें चाहे ये जरुरी तो नहीं,
मिले प्यार के बदले प्यार ये जरुरी तो नहीं।

मिलाकर मन कुछ लोग उतर जाते हैं दिल में,
हो मिलन तन का तन से ये जरुरी तो नहीं।

होते हैं कुछ लोग जो पा लेते हैं चाहकर कुछ भी,
हो सबका नसीब एक जैसा ये जरुरी तो नहीं।

सूरत मिल जाती है अक्सर कइयों से तेरी,
सीरत भी हो तुझसी ये जरुरी तो नहीं।

कवि ‘राज़’ मत रख हसरत किसी पर मरकर जीने की
सबके नसीब हो आसां मौत ये जरुरी तो नहीं।

~राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

 

Hum jise chahe wo bhi hme chahe ye jaruri to nahi
Mile pyar k badle pyar ye jaruri to nahi

Milakar man kuch log mil jate hai dil mein
Ho milan tan ka tan se ye jaruri to nahi

Hote hai kuch log jo paa lete hai chah kar kuch bhi
Ho sabka nasib ek jesa ye jaruri to nahi

Surat mil jati hai aksar kaiyon se teri
Sirat bhi ho tujhsi ye jaruri to nahi

Kavi raj mat rakh hasrat kisi par markar jine ki
Sabke nasib ho aasaan mauot ye jaruri to nahi

~Raj sorkhi”diwana kavi”

 

 

Hindi Poem for Him – सब कुछ हार गया हूँ

ना सता यूँ, ए ज़िन्दगी ! की मन हार गया हूँ मैं,
जीत कर दुनिया सारी, सब कुछ हार गया हूँ मैं।

आ और आकर थाम ले हाथ मेरा ए मौला !
जीने की चाह में, मौत के पार गया हूँ मैं।

रिश्ते-नसीब-मेहनत सब आजमाए हैं मैंने,
पासे ही उल्टे पड़ते हैं अब, हर बाज़ी हार गया हूँ मैं।

दर-ब-दर मिली ठोकरें, हौसलों पर आंच ना आने दी,
अब जाकर टूटा हूँ, जब सब कुछ हार गया हूँ मैं।

कवि ‘राज़’ हो गई अब शान्त हर चिंगारी
होकर राख सब अरमान, मौत के पार गया हूँ मैं,

~राज़ सोरखी “दीवाना कवि”

Na stta yoon, aei zindagi! ki man haar gya hoon main
Jeet kar duniya sari sab kuch haar gya hoon main

Aa aur aa kar tham le hath mera aei maulla
Jine ki chah main maut k paar gya hoon main

Rishtei nasib mehanat sab ajmayein hain main
Paase hi ultei padte hai ab har baji haar gya hoon main

Dar b dar mili thokrei hoslon par aanch na aane di
Abb ja kar tutta hoon jab sab kuch haar gya hoon main

Kavi raaz ho gai ab shant har chingari
Ho kar raakh sab armaan maut ke paar gya hoon main

~Raj sorkhi”diwana kavi”