Hindi Love Poem on Pain – दर्द अपने दिल का

ढलती

दर्द अपने दिल का हमने
एक अरसे बाद खोला है
बस बात ये अलग है
की दर्द लबो से नहीं अल्फाज़ो से बोला है
तुम जान ही नहीं सके हमे
हम किस कदर तुम पे मरते थे
भुला था वो राज़ मैं
बड़ी मुश्किल से आज हमने दिल को टटोला है
याद में तेरी यारा
आज भी आँख रोती है
हर आँसू मेरा एक शोला है
-गणेश मघर

 

Dard apne dil ka humne
Ek arse ke bad khola hai
Bas bat ye alag hai
Ke dard labon se nahi alfazo se bola hai
Tum jan hi nahi sake hume
Hum kis kadar tum pe marte the
Bhula tha wo raz main
Badi mushqil aaj humne dil ko tatola hai
Yaad me teri yaraa
Aaj bhi aankh roti hai
Har aasu mera ek shola hai

-Ganesh Magar

4 thoughts on “Hindi Love Poem on Pain – दर्द अपने दिल का

  1. Tere intzar krane ki aadat achi hai
    Tere  pyar me yaadon  ki thandi hwa c chlti hai
    Dil ki dharkn  bebas ho jati h
    Or sine me jln c chalti hai
    Jo kre tu mujhse pyar
    To tujhe bhi ho ehsas
    Ye baat,
     intzar ki suiyan dil ko kitna  lgti h.
    By anuj soni

  2. सहना आसान होता यारो..
    मुहाब्बते जुदाई
    उनका नाम लेकर हम
    ना करते उनसे मिलने दुआ भी,
    ईन्तारे ईश्क मे कितने यहाँ मुहाब्बत
    करते ही रह गए,
    कितने ईसे कहते गमे जुदाई….

    /—/मनिष अग्रवाल

Leave a Reply to Ganesh magar Cancel reply