Hindi Love Poem for Marriage – Marriage Bureau


balloon-1046658_960_720

मैरिज ब्यूरो के फेर में, ज़िंदगी के दौर में
न जाने कहाँ आ गए। लगे रहे दूसरों की शादी कराने में,
खुद की शादी में देर हो गए
सोचा कैसा बनाऊँ में अपनी शादी का इश्तेहार
दूसरों की शादी का इश्तेहार बनाने वाले
खुद की शादी का इश्तेहार बनाने में फ़ेल हो गए।
दूसरों के लिए तो लिखता हूँ सुन्दर सुशील बधु चाहिए
खुद के लिए ही न जान पाया कैसा हमसफर चाहिए
मैरिज ब्यूरो में बीती शामें मैरिज ना करा पायीं
मिलाते मिलाते दूसरों के दिल,मेरा दिल ही न मिला पायीं
आज जब देखा चेहरा आईने में खुद का एक नया अक्स ही नजर आया।
खुद के ही अक्स ने हस् के कहा बेटा मैरिज ब्यूरो के फेर में
ज़िन्दगी के दौर में न जाने कहाँ आ गए।
लगे रहे दूसरों की शादी कराने में
खुद की शादी ही में देर हो गए।

गौरव

Marriage Bureau ke feir mein zindgi k dore mein
Na jane kha aa gye lge rhe dusron ki shadi krwane mein
Khud ki shadi me deir ho gye
Socha kesa bnaun mein apni shadi ka eshtehar
Dusro ki shadi ka esthaar bnane wale
Khud ki shadi ka eshtehar bnane me fail ho gye
Dusro k liye to likhta hu sundr sushil bdhu chahiye
Khud k liye hi na jan paya kesa hmsfer chahiye
Marriage bureau mein biti shamein marriage na krw pai
Khud ke hi aksh ne has k kha beta marriage bureau k feir me
Zindgi ke dore mein na jane kha aa gye
Lage rhe dusro ki shadi krwane
Khud ki shadi me deir ho gye

Gaurav

About anushkasuri

Sweet and caring :)
This entry was posted in Hindi Love Poem for Marriage, Hindi love poems, Hindi Love Poems by Readers and tagged , , . Bookmark the permalink.

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s