Hindi Miss You Poem for Girlfriend – इंतज़ार


ढलती

ढलती हुई शाम में आज भी उनका इंतज़ार है
थक के ये आँखें बोझिल होने लगी हैं फिर भी उनका इंतज़ार है
सोच के ये दिल मुस्कुरा देता है की नहीँ हैं
बेवफा वो। कम से कम जीने का सहारा ख्वाबों में तो दिया करती हैं
जब भी ख्वाबों में मुलाकात होती हैं
वो हमेशा मिलूंगी वादा करके सुबह कहीं चली जाती हैं
और सुबह फिर से उनका इंतेजार किया करता हूँ
समय तो रेत की तरह हाथों से फिसल रहा है
कई बरसाते आई और चली गयीं पर कोई बारिस की बूँद मुझे भिगो न पायी
ठण्ड की सिहरन तो बहुत लगी पर उस सिहरन में तेरी गर्मी का एहसास न था
हवा का झोंका जब भी मुझसे टकराया तेरी यादो की खुश्बू को लाया
सावन,सर्द हवाएं,सुबह की किरन,ओस की बूँद,चाँदनी सब से तेरी बातें किया करता हूँ
मेरी साँसें आज साथ छोड़ती सी लग रहीँ हैं
पर बन्द होती आँखों को आज भी तेरा इंतज़ार है
की सपना देख लूँ आज की तू हकीकत में आ गयी है
आज फिर से गले लगाया है
और सो गया हूँ मैं तुझे दिल में बसा के कभी ख़त्म न होने वाले सपने की तरह
की अब ये इंतज़ार साँसों के साथ खत्म होता सा लग रहा है

~ गौरव

Hindi Love Song for Girlfriend: ओ मेरी जाना


O jaane jana

ओ  मेरी जाना
मैं तेरा दिवाना
ओ जाने जाना
दूर ना जाना
वादा निभाना ||
तेरी आँखे
प्यारी बातें
हंसी मुलाकातें
यही मेरी यादें  ||
ओ जाने जाना
लौट के आना
मैं तेरा दिवाना  ||
तुझसे बिछडके
मैंने ये जाना
प्यार है तुझसे
ओ जाने जाना  ||

 

– अनुष्का सूरी

Hindi Love Poem for Wife – तुम हो तो


wife.png

तुम हो तो है हस्ती हमारी
तुम से ही है मेरी खुशियाँ सारी
तेरी एक हंसी पर मैँ खुद जाऊ वारी
सलामत रहे ये जोड़ी हमारी
तू करें जब श्रृंगार डाल के साड़ी
क्या बताऊं बंद हो जाये धड़कनें सारी
तू शीतल तू सुंदर तू कितनी प्यारी
तुम से है मुहब्बत ओ बीवी हमारी

– अनुष्का सूरी

Hindi Love Shayari for Wife or Girlfriend – दिल के सबसे पास


two_lovers-wallpaper-1366x768

दिल के सबसे पास, सबसे खास हो तुम
मेरे जीने का, मरने का हर एहसास हो तुम
मेरे सूखे वीरान जीवन की पहली बरसात हो तुम
जो पानी से भी न बुझ पाए ऐसे कुएँ की प्यास हो तुम
कोई तुमको कुछ भी कहे, मेरे लिए खुद खुदा पास हो तुम
तुम दिखो तो दिन चढ़े, तुम रुको तो दिन ढले
तुम हंसो तो चाँद खिले, तुम उदास तो अमावस की रात
तुम मिलो तो झरनों का संगम
हम बिछडें तो हो जाये संग्राम
मेरे शब्दों के छोटे से दायरे में जो न समां पाए
वो खुदा की कायनात हो तुम

-अनुष्का सूरी