Hindi Love Poem Missing Her – Teri Yaad Sath Hai


kimi_ni_todoke__romance_manga-wallpaper-1366x768

मुझसे दूर है तू पर तेरी याद साथ है
कुछ कही कुछ अनकही बातें आज भी मुझे याद है
कुछ इस कदर दूर चले गए हो तुम
जैसे कुम्भ के मेले में हो गए हो गुम
मेरी कोशिश तुझे पाने की है और वही पहले भी थी
मैं आज भी वहीँ खड़ा हूँ जहाँ तू छोड़ गयी थी
वक्त बीत रहा है हर लम्हा हर पल
आज भी दर्द है वहाँ जहाँ तूने अँखियों से किया था घायल
आज भी तेरे घर के सामने से गुज़रते हुए तेरे दीदार को तरसता रहता हूँ
पर अब वहां नहीं रहती तू मैं पागल ये भी भूल बैठा हूँ
जहां भी है तू खुश रहे तेरा अच्छे से दिल लगे
हम मर भी जाएँ तो भगवान करे तुझे खबर भी न लगे
तेरे दिखाए हुए सपनो को मैं आज भी अकेले जी लेता हूँ
तेरे दिए हुए ज़ख्मों को कुरेद के फिर से सी लेता हूँ
कभी न कभी तो तुम मुझे याद करोगे
हमसे मिलना है ये तुम खुद से बात करोगे
तुम जब कभी मुझसे मिलने आओगे
तब तुम हमको शायद वहाँ नहीं पाओगे
तब तुम लोगों से पूछोगे यहां अन्नू रहता था
वो कहेंगे वही जो सारा दिन उस सामने वाले घर की तरफ देखता रहता था
तब तुम्हें भी होश आएगा की अब वो दुनिया से चला गया
आजतक जो आँखें कभी नम ना हुई थी उनमें से पानी बहता गया
तब तुम्हें पता लगेगा की उसने इंतज़ार तो बहुत किया
पर वो भी तो इंसान है जो तेरी याद में ही जिया और तेरी याद में ही मर गया

-अनूप भंडारी

Advertisements

About hindilovepoems

Official Publisher for poetry on hindilovepoems.com
This entry was posted in Hindi Love Poem For Girlfriend, Hindi Love Poem For Her, Hindi Love Poem for Lost Love, Hindi Love Poem on Separation, Miss You Hindi Love Shayari, Miss You Love Poem, Sad Hindi Love Poems and tagged , , , , , , . Bookmark the permalink.

2 Responses to Hindi Love Poem Missing Her – Teri Yaad Sath Hai

  1. deeksha rastogi says:

    Heart touching lines…
    Maine bhi kisi she HD se jyada pyar kiya h, dukh to is bat ka h ki WO bhi us ldki ki trah smajhkr b nasmajh bna hua h,,,, I like ur poem,, keep it up..

    Like

  2. Anoop Bhandari says:

    Poem – शायरी

    एक दिन किसी ने पूछा मुझसे की क्या लिख रहे हो
    क्या है ऐसा जो तुम कागज़ पे उतार रहे हो
    हिसाब किताब कर रहे हो या किसी सवाल को हल कर रहे हो
    लगते हो बड़े मशरूफ इस काया में ऐसा भी क्या कर रहे हो
    मैंने कहा लिख नहीं रहा हूँ बस कलम ही पकड़ी है
    जो दिल का कुछ दर्द है उसे कागज़ पर उतारने की कोशिश है
    ख्वाहिश है की कुछ ऐसा लिख जाऊँ की लोग याद रखें
    भूल न जाएं मुझे बस चाहे तो अपनी दुआओं में याद रखें
    उसने कहा अच्छा शायरी लिख रहे हो
    बड़े काम की चीज़ है ये तो
    आसान नहीं है लिखना जानता हूँ पर कहाँ से सीखे हो
    कुछ हमें भी बता दो, शायरी करना ही सीखा दो
    हम भी कुछ लड़कियों को सुनाएंगे
    सुना कर अपनी शायरी उनको पटायेंगे
    अब क्या बताऊँ उस नादान को की शायरी सीखी नहीं जाती
    ये तो बस अपने आप बन जाती है जब दिल हो जज़्बाती
    टूट चूका हो प्यार में जो
    शायरी बड़े आराम से कर सकता है वो
    क्योंकि ये कोई लेख नहीं जो सोच समझ कर लिखना पड़े
    ये तो शायरी है, दिल टूटने पर दर्द-ए-दिल बयाँ करने को कलम खुद बा खुद चल पड़े…

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s