Intazar-Aakhir Kab Tak – Hindi Love Poem for Him


इंतज़ार-आखिर कब तक?
अनजानी राहों पे इंतज़ार किया करती हूँ,
हज़ारों की भीड़ में बस तुझे तलाश किया करती हूँ,
कुछ पल के लिये तो ये राहें भी साथ देती हैं,
थोड़ा चलके साथ आगे तन्हा छोड़ देती हैं,
आंसू जब भी आते हैं मेरी आँखों में,
मेरी नज़रें बस तेरा दामन तलाश करती हैं,
जब नहीं मिलता है दामन तेरा,
जी भर के पलकें भिगोया करती हैं,
रास्ते भी ये देख के मुझपे हंसा करते हैं,
देखके मेरी बेबसी का ये मंज़र,
या खुदा मुझे अब मिलादे बिछड़ने वालों से,
लोग मेरी बेबसी का मज़ाक बनाने का इंतज़ार किया करते हैं|
-कविता परमार
Advertisements

About hindilovepoems

Official Publisher for poetry on hindilovepoems.com
This entry was posted in Hindi Love Poem For Boyfriend, Hindi Love Poem For Him, Hindi Love Poem for Lost Love, Hindi Love Poem on Separation, Hindi Love Poems by Readers, Hindi Poems for Lover and tagged , , , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

One Response to Intazar-Aakhir Kab Tak – Hindi Love Poem for Him

  1. Anonymous says:

    KYA KRE IN KAJAL KA, NAJAR PDTE HI SB KO KHIC LATI HE

    AASU NIKL TE HI, SATH BEH JATI HE,
    JO KHIC LANE VALO KO BHI DUR LE JATI HE.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s