Kavita Se Mulakat Ho Gayi – Hindi Love Poetry on Dream Girl


कविता से मुलाकात हो गयी
तन्हा मेरी ज़िंदगी में ख्वाबों की बरसात हो गयी,
एक दिन था अकेला, कविता से मुलाकात हो गयी,
कुछ वो मुझसे कहने लगी कुछ मैं उसे कहने लगा,
एक अनजाने अपने पहलू से मीठी कुछ बात हो गयी,
वो मेरे शब्दों में घुल गयी कविता बन के ज़िंदगी की कहानी कह गयी
तन्हाई के आलम से बाहर आने लगा अकेलेपन में मेरी हमसफर वो हो गयी,
कल्पना करता हूँ जब भी उसकी खूबसूरती की उसकी गहराई में डूब जाता हूँ,
ज़िंदगी के मेरे हर पल को एक पल में वो जीवन कर गयी,
शब्दों का ना वो जाल है ना कोई मायाजाल,
वो तो बस मेरे दिल का हाल है इतनी बात वो कह गयी,
हर खुशी हर गम को मेरे साथ वो सहती है
कुछ ना कहती है मुझसे हर पल हंसाती रहती है
रूप अनेक बनाती है कभी ग़ज़ल है, 
कभी है कविता, कभी शायरी वो कहलाती,
बस ओढ़ चुनरिया खुशियों की 
वो मेरे दिल को छू के जाती,
रात की गहराई हो या दिन का पहर 
साथ मेरे वो रहती है,
कभी रूठती है मुझसे कभी खेलती है 
मेरे संग मेरी कल्पना में जीती है,
अब ना जीना उसके बिन, 
मेरी सांसों में मेरी रूह में धड़कन बन के वो बस गयी,
तन्हा मेरी ज़िंदगी में ख्वाबों की रात हो गयी,
एक दिन था अकेला कविता से मुलाकात हो गयी
-गौरव

About hindilovepoems

Official Publisher for poetry on hindilovepoems.com
This entry was posted in Heart Touching Love Poem, Hindi Love Poem Expressing Love, Hindi Love Poem For Girlfriend, Hindi Love Poem For Her, Hindi Love Poem for Stranger, Hindi Love Poem on Imaginary Love, Hindi Love Poems in College Love, Hindi Love Shayari, Hindi Love Shayari for Girlfriend, Hindi Love Shayari for Her, Hindi Poem on Dream Girl, Hindi Poem on long distance love, Hindi Poems for Lover, I am in love Hindi Poems and tagged , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , . Bookmark the permalink.

6 Responses to Kavita Se Mulakat Ho Gayi – Hindi Love Poetry on Dream Girl

  1. Pingback: Kavita Se Mulakat Ho Gayi – Hindi Love Poetry on Dream Girl – gauravtrueheart's Blog

  2. Anonymous says:

    कविता

    Like

  3. Jåy says:

    I’ma poet myself,par itni shiddit se shayad koi lafz mai na kbhi keh paunga na kbhi likh paunga..
    Just awesome bro…

    Like

  4. joydeep saha says:

    main bhi mahenat karti hu

    Like

  5. divya says:

    rooh ko chu gyi aapki kavita…
    mai bhi likhne ka shoq rakhti hu, lekin aisi khoobsurat kavitayein likhne k liye kaafi mehnat krni padegi.. 🙂

    Like

  6. Mukesh Rathore says:

    Really heart touching lines…I understand that because I also writes something when I alone..

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s