Posted in Heart Touching Love Poem, Hindi Love Poem for Lost Love, Hindi Love Poem on Pain, Hindi Love Poem on Separation, Hindi Love Poems by Readers, Miss You Love Poem, Sad Hindi Love Poems

Hindi love Poem on Separation-बिरह


girl-517555_960_720
आज जब वो बहुत दूर है तो
ये बिरह के आंसू थमते ही नहीं
और कहते हैं-बिरह के ये पल
शोलों से चुभ जाते हैं,
याद करके तुझको पल पल
आँखों मैं आंसू लाते हैं,
काँटो सी हैं चुभती रातें,
पल पल आग लगाती हैं,
जलती रहती पल पल
मुझको तेरी याद दिलाती हैं,
खाली सा है ये मन मेरा,
तेरे प्यार को तरसे है,
मंद मंद सी होती साँसें,
सीने में हलचल मचाती हैं,
बोझिल होती मेरी आँखें
गम के आंसू लाती हैं,
ना समझती हो तुम मेरी बातें,
ना समझेंगी अब ये आँखें,
ये तो पल पल आंसू बहायेंगी,
याद तुझे पल पल करके
ये तो रोती जाएंगी,
ये तो रोती जाएंगी
-गौरव
Posted in Hindi Love Poems by Readers, Spiritual Love Poem

Hindi Spiritual Love Poem on Lord Krishna-श्याम रंग मोहे भाये


idol-1834688__340.jpg
मोहक सी मुस्कान सजाए,
श्याम रंग मोहे चढ़ता जाये,
गीत मधुर जमुना तट पे मुरली कोई मधुर बजाए,
ऐसा श्याम रंग मोहे कान्हा हर पल दिल को भाता जाए,
कभी ब्रज में नाच दिखाए,
कभी गोपियों संग रास रचाए,
कभी नटखट वो माखन चुराए,
यशोदा का वो नन्दलाला श्याम रंग मोहे भाता जाए,
कभी मुकुट मोरपंख भाए,
कभी राधा संग खेल दिखाए,
कभी बन के मीरा का श्याम प्रेम मधुर बरसाता जाए,
ऐसा मोहे श्याम रंग मोहक सी मुस्कान सजाए,
हर पल दिल को भाता जाए.
-गौरव
Posted in Be Mine Hindi Love Poems, Break Up Hindi Love Poems, Heart Touching Love Poem, Hindi Love Poem For Girlfriend, Hindi Love Poem For Her, Hindi Love Poem for Lost Love, Miss You Love Poem

Hindi love poem for lost love-बहुत दिन गुज़र चुके 


boy-1042683_960_720

बहुत दिन गुज़र चुके 

तेरे दूर जाने में 

कितनी देर लगेगी और 

तेरे लौट आने में 

वैसे तो काम बहुत हैं 

मुझे ज़माने में 

लेकिन आशिक़ हूँ मैं 

तेरा बताने में 

आजा अब छोड़ ये लुक्का छिप्पी का खेल 

किसी बहाने से 

मैं हूँ तेरा तू है मेरी 

सबको बताने में

-अनुष्का सूरी

Posted in Hindi Love Poem Expressing Love, Hindi Love Poem For Boyfriend, Hindi Love Poem For Him, Hindi Love Poem for Husband, I love you Hindi Poems

Hindi Love Poem for Him-कितना प्यार करू तुमसे


boy-1042683_960_720

ना जाने क्यों वो मुझसे इतना प्यार करता है
मेरी हर चीज़ का खयाल रखता है
इन छोटी सी आँखों में सपने सुहाने लिये
क्यों मेरे आने का इंतज़ार करता है
उसकी मुस्कुराहट पे हम मर गये
ना जाने कब हम उनके दिल में समां गये
जिस की हासी पे मरने का दिल करता है
जो कह दे तो फिर से जीने का दिल करता है
ऐसा हमसफर मिला है मुझे
जिसके प्यार के लिये जान देने का दिल करता है
क्या कहूँ और उसकी तारीफ में
बस यूँ ही उससे प्यार करने का दिल करता है

-कविता परमार

Posted in Be Mine Hindi Love Poems, Break Up Hindi Love Poems, Heart Touching Love Poem, Heartbreak Hindi Love Poems, Hindi Love Poem For Boyfriend, Hindi Love Poem For Girlfriend, Hindi Love Poem For Her, Hindi Love Poem For Him, Hindi Love Poem on Pain, Hindi Love Poems by Readers, Miss You Love Poem, Sad Hindi Love Poems

Hindi Miss You Love Poem-तेरी जुदाई रात भर तड़पाये


man-1394395_960_720
हंसना भुला दिया तेरी इस जुदाई ने,
रोना सिखा दिया तेरी इस जुदाई ने,
सोचती रही हर पल हर घड़ी तेरे बारे में,
तेरी इन यादों ने आंसू दे दिये,
तेरी जुदाई में इस कदर शामिल हो गयी
कि मेरे होठों की मुस्कान ले गयी,
मुस्‍कान की जो वजह कभी देते थे तुम,
तुम ही मेरे होठों की मुस्कान ले गये,
तेरी बेवफाई ने भरोसा मेरा तोड़ दिया,
तेरी जुदाई ने मुझको तोड़ दिया,
जो खुशियों के फूल मेरे दिल में खिलते थे,
वहीं आज ग़म के काँटे चुभते हैं,
बिखर के टूट गये इस कदर
कि अब ना जीने के बहाने रह गये,
आँसू नहीं बहते थे जो पलकों से मेरी,
आज वही हर पल इन आँखों की पहचान बन गये,
तेरे प्यार की खुशबू में जो झूम उठती थी मैं,
उन्ही आँखों में तुम आज नफ़रत के आंसू दे गये,
जो जीने का एहसास देते थे तुम
आज तुम ही मेरे आँसुओं की वज़ह बन गये,
सोचा ना करूं तुम से प्यार
पर प्यार तुम तो मेरे रोने की वजह बन गये.
-कविता परमार
Posted in Hindi Love Poem for Brother, Hindi Love Poems by Readers

Hindi Love Poem for Brother-भाई


एक साया बनके साथ रहे,
वो पल मेरे जीने का एहसास बन गये,
बचपन से थामे रहे मेरे हाथ,
मेरी खुशियों की पहचान बन गये,
कभी दोस्त बनके हाथ थामा,
कभी भाई बन के डाँटा,
गिरी जब मैं किसी राह पे,
और तूने बहाये आँसू आँखों से,
और वो आँसू मेरी आँखों में खुशियों के मोती दे गये,
वो छोटी छोटी खुशियों में
हम खिलखिलाए,
वो हक़ीक़त में रुलाये,
और ख्वाबों में हसाये,
वो बचपन के पल बातें बन गयी,
आज वही बातें यादें बन गयी
-कविता परमार
Buy now Buy now Buy now
Buy now Buy now Buy now
Buy now Buy now Buy now
Buy now Buy now Buy now