Miss my love Hindi poem-बस और नहीं

heart-1213481_960_720
लौटा दे मुझे वो बीता कल,
लौटा दे मुझे वो खोया पल
लौटा दे मुझे मेरी मुस्कुराहट,
लौटा दे मुझे मेरी किस्मत
अंधेरे के साये में क्यों जीना,
लौटा दे मुझे एक उम्मीद की किरण
अखियों के वो मोती,
लौटा दे मुझे वो नमकीन मोती
लौटा दे मुझे वो चूडियों की खनक,
लौटा दे मुझे वो आँखों की चमक
लौटा दे मुझे मेरा बचपन,
लौटा दे मेरी बिछड़ी धड़कन
हे कुदरत तुझसे पूछ रहा एक बंदा
लौटा दे उसकी ज़िंदगी का फंडा…….
-कविता परमार
English Translation:
Enough, not more anymore
Give me back the lost yesterday
Give me back that lost moment
Give me back my lost smile
Give me back my destiny
Why live in the shadow of darkness?
Give me back a ray of hope
Pearls of eyes
Return those salty pearls to me
Give me back the noise of the bangles
Give me back the shine in the eyes
Give me back my lost childhood
Give me back my lost heartbeat
Oh nature, a human is asking you
to return the force in his life..
-By Kavitha Parmar

5 thoughts on “Miss my love Hindi poem-बस और नहीं

Leave a Reply to anushkasuri Cancel reply