Posted in Hindi Love Poem For Boyfriend, Hindi Love Poem For Girlfriend, Hindi Love Poem For Her, Hindi Love Poem For Him

Hindi Poem on Romance- मुहब्बत


दिल से दिल की मुलाकात बहुत ज़रूरी है

हाँ मुहब्बत के बिना ज़िंदगी कुछ अधूरी है

वो लिखना प्यार में डूबे खत

वो मिलना छुप-छुप के वक़्त बेवक़्त

कुछ नादानियाँ कुछ शैतानियाँ

यार की खबर ना मिलने पर बेचैनियां

इश्क़ के दरिया को पार करना है मुश्किल

जीना दुश्‍वार कर देता है ये दर्दे दिल

आशिक़ों में अपना भी नाम होना ज़रूरी है

 मेरा तुझसे तेरा मुझसे मिलना ज़रूरी है

-अनुष्का सूरी

Posted in Hindi Love Poem For Girlfriend, Hindi Love Poem For Her

Hindi Love Poem for Her- तेरे सिवा


तेरे सिवा और भी गम हैं ज़माने में

तेरा आशिक़ हूँ अजनबी कहे भले तू बताने में

सदियाँ लगती हैं तेरे बिना वक़्त बिताने में

तेरा दीदार हो जाये तो वक़्त नहीं लगता कयामत आने में

कभी मुझे भी पिला दे अपनी आँखों के मैखाने में

डूब जाऊँ मैं ऐसे कि बरसों लगें होश में आने में

बहुत चल लिया मुसाफिर मुहब्बत की मंज़िल पाने में

जान ना निकल जाये जान के इंतज़ार है जान के आने में

-अनुष्का सूरी

Posted in Heart Touching Love Poem, Hindi Love Poems by Readers, Sad Hindi Love Poems

Hindi Love Poem – उनका प्यार


romantic_couple_sunset-wallpaper-1366x768

उनको छूने का एहसास अब अजनबी नहीं लगता
कि वो दिल के बहुत करीब हो गये
लड़ते हैं झगड़ते हैं
कि देते हैं हज़ारों घाव प्यार के वो दिनभर हमको
कि रात में हम रोते हुए सो जाते हैं
लेकिन वो भी करते हैं इस क़दर प्यार हमको
कि रात में जब हम सो जाते हैं
आते हैं करीब हमारे घाव पे मरहम भी वही लगा जाते हैं
देखते हैं हम भी चुप-चाप उनको मरहम लगाते हुए नॅम आँखों से
और उनके दिये दर्द में भी प्यार की बारिश समझ के भीग जाते हैं
क्योंकि मरहम जहां वो हमको लगाते हैं
वहां एक घाव वो अपने आप को भी दे जाते हैं

-गौरव

Posted in Heart Touching Love Poem, Hindi Love Poem For Boyfriend, Hindi Love Poem For Him, Hindi Love Poems by Readers, Miss You Love Poem

Hindi Love Poem-याद आती है


heart-462873_960_720

जब भी तेरी याद आती है

तो आँखें भर आती हैं

अब इन आँसुओं को निकलने से नहीं रोक पाती हूँ

रात रात भर रोती हूँ

फिर अपने आपको समझा भी लेती हूँ

याद आते हैं तेरे साथ बिताये हुए वो पल

याद आता है वो कल

याद आता है वो तेरा हंसता खिलखिलाता चहरा

जिससे मेरी नज़रें नहीं हटती थी

थोड़ा गम था मगर ज़्यादा खुशी थी

तेरी हंसी मेरी हंसी थी

मेरा गम तेरा गम था

अब वही हंसी कहीं खो सी गयी है

क्योंकि मेरा दोस्त मुझसे रूठ सा गया है

मनाना चाहती हूँ मगर मना नहीं पाती हूँ

बात करना चाहती हूँ मगर बात नहीं कर पाती हूँ

मेरी हर सुबह जिससे होती थी

वहीं आज मेरी रातें रोते हुए कटती हैं

उनकी जुदाई हमने बर्दाश्त करनी सीखली है अब

क्यूंकि हमने उनकी यादों के सहारे जीना सीख लिया है अब

जब भी याद तेरी आती है तो आँखें भर आती हैं

-कविता परमार

Posted in Hindi Love Poems by Readers, I love you Hindi Poems

Hindi Love Poem -I love you


flowerpot-2756428_960_720

ख्वाबों में सजाया है

अल्फाज़ों को चुराया है

कह दे प्यार के दो लफ्ज़ आई लव यू

इतना सा ख्वाब इन आँखों में बसाया है

दिल धड़कता हा बहुत तेजी से

जब तुम आई लव यू कहते हो

आके थाम लो मेरी धड़कन को अपने प्यार से

इतना सा एक अरमान मैने अपने दिल में बसाया है

-गौरव

Posted in Hindi Love Poem For Boyfriend, Hindi Love Poem For Girlfriend, Hindi Love Poem For Her, Hindi Love Poem For Him, Hindi love poems with English translation

Romantic Hindi Poem for him and her-क्या नाम दूँ


दिल के इस दर्द को क्या अंजाम दूँ
ओ दर्दे दिल देनेवाले तुझे क्या नाम दूँ
क्या तुझे मैं कहूँ फूलों की खुश्बू
या फिर कहूँ जीने की आरज़ू
क्या तुझे कह दूँ सावन की पहली बरसात
या तुझे कहूँ दिल में दबे कुछ जज़्बात
जो भी नाम दूँ तुझे तुझपर खूब सजेगा
ये दिल मेरा तुझपर ही मर मिटेगा

– अनुष्का सूरी

English Translation:
What should be the conclusion for this pain of my heart
Oh sweetheart who has given me this heart ache, what name should I call you
Should I call you the fragrance of flowers
Or should I call  you the desire to live
Should I address you as the first shower of the monsoon
Or should I call you hidden emotions in my heart
Whatever name I give, it shall suit you a lot
My heart will only long for you

– Anushka suri

Posted in Hindi Love Poem For Girlfriend, Hindi Love Poem For Her

Hindi Love Kavita -सोचता हूँ


सोचता हूँ कुछ लफ्ज़ कर दूँ तेरे नाम

मैं भी आज लिख दूँ क्यों न तुझे एक पैगाम

क्या कहूँ क्या लिखूँ बड़ी उलझन में हूँ मैं यहाँ

लफ्ज़ मिलते ही नहीं जो कर दें मेरा दर्दे-दिल बयाँ

फिर भी करने चला हूँ मैं मनचला कुछ गुज़ारिश

मेरे उपर भी करदे अपने कुछ रहमों करम की बारिश

ज़्यादा नहीं माँगता बस इतनी सी है मेरी चाह

तू मिल जाये मुझे हर मंज़िल हर राह

– गौरव