Hindi Love Poem-दिल के दरवाज़ों


दिल के दरवाज़ों पर एक कील लगा रखा है 
तेरी तस्वीर को उस पर सजा के रखा है 
तू आये तो खिल जाती हैं शाम 
तू न आये तो फीके हैं जाम 
जब तुम नहीं होते सामने तन्हाई में 
हम देखा करते हैं आईने तेरी जुदाई में